जब मिले सुकरात एक भारतीय योगी से

लखनऊ

 16-07-2019 02:20 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

दो देशों के मध्य सम्बन्ध और उनके मध्य हुए व्यापारिक ही नहीं अपितु दर्शनशास्त्रीय आदान-प्रदान एक अत्यंत महत्वपूर्ण आयाम प्रदान करते हैं उनके विषय में अध्ययन करने का। प्राचीन विश्व एक प्रकार से एक प्रयोगशाला की तरह था जहाँ पर विभिन्न प्रकार की खोजों - तर्कशास्त्र, दर्शनशास्त्र, विज्ञान आदि का सृजन हुआ। यदि भारत और ग्रीस के मध्य सम्बंधों की बात करते हैं तो अधिकतर लोग सिकंदर के बाद के समय को ही मानते हैं, परन्तु यह तथ्य सोचनीय है कि आखिर सिकंदर को 4 शताब्दी ईसा पूर्व में भारत देश के विषय में जानकारी कहाँ से मिली थी?

यह समझने के लिए करीब 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व के समय में जाने की आवश्यकता है जहाँ पर कुछ ऐसी घटनाएं घटी जो इतिहास पर एक छाप छोड़ गयीं। 5 वीं शती ईसा पूर्व में भारत और ग्रीस का रिश्ता कायम था जिसमें कुछ तनाव आया जिसका कारण था मैराथन की लड़ाई और प्लाटा की लड़ाई जिसमें भारत की घुड़सवार सेना शामिल थी। फारस और यूनान (ग्रीस) के सम्बन्ध इन दोनों लड़ाइयों की वजह से टूट चुके थे और उसका प्रतिफल यह हुआ कि भारत के रिश्ते पर भी इसका प्रभाव पड़ा। ऐसे प्रमाण मिले हैं कि उस दौर में भारत के एक विद्वानों का समूह व्यापारिक मार्ग से होते हुए ग्रीस गया था (412-323 ईसा पूर्व) और उन्होंने वहां पर डायोजींस को प्रभावित किया जिसके फलस्वरूप भारतीय प्रथाओं को ग्रीस की परंपरा में सम्मिलित किया गया।

हालांकि डायोजींस के पहले भी एक ऐसी घटना का ज़िक्र है जो कि इतिहास के दृष्टिकोण से अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। यह घटना है एक भारतीय योगी की जो कि सुकरात से मिला था और उनके साथ लम्बी बात-चीत भी किया था। सुकरात प्राचीन ग्रीस (यूनान) के एक महत्वपूर्ण दार्शनिक थे जिनको पश्चिमी दर्शन के जनकों में से एक माना जाता है। सुकरात का जन्म एथेंस में करीब 470 ईसा पूर्व में हुआ था तथा मृत्यु एथेंस में ही 399 ईसा पूर्व में। उनकी रचनाएँ आज भी दर्शनशास्त्र में स्तम्भ के रूप में मानी जाती हैं। विश्व के अन्य मशहूर दार्शनिक जैसे कि प्लेटो और ज़ेनोफोन उन्ही के शागिर्द थे।

अरिस्टोक्सेनस जो कि सुकरात के शागिर्द थे, सुकरात और एक भारतीय के एथेंस में मिलन की बात करते हैं। अरिस्टोक्सेनस पेरिपटेटिक (Peripatetic) दर्शन स्कूल के मानने वाले थे जिसके जनक अरस्तु इस मुलाक़ात के विषय में पूर्ण जानकारी प्रस्तुत करते हैं। इसका विवरण यूसेबियस अपनी पुस्तक में करते हैं। यूसेबियस ने शुरूआती इसाइयत में ग्रीस के विचारों का प्रतिपादन किया था। उनकी पुस्तक ‘यूसेबियस ऑफ़ सीज़रिया: प्रिपरेशन फॉर द गोस्पेल’ (Eusebius of Caesarea: Preparation for the Gospel) के तृतीय अध्याय में वे इस मुलाक़ात का जिक्र करते हैं। यह मुलाक़ात और उस मुलाक़ात के दौरान पूछे गए प्रश्न निम्नवत हैं-
सुकरात से मिलने के दौरान भारतीय ने पूछा कि, “आप क्या अध्ययन कर रहे हैं?” जिसपर सुकरात का जवाब आया कि वे मानव जीवन के विषय में अध्ययन कर रहे हैं। सुकरात के ऐसा कहने पर वह भारतीय हँसा और बोला कि, “बिना दिव्यता का अध्ययन किये आप मानव जीवन को कैसे पढ़ सकते हैं?” इस कथन के बाद यह साक्ष्य नहीं मिल पाया कि सुकरात अपने अध्ययन को किस दिशा में लेकर गए पर इस प्रश्न ने प्लेटो को अत्यधिक प्रभावित किया था जिसका प्रमाण उनके बाद के लेखों में देखने को मिलता है। प्लेटो ने शुरूआती दौर में उस भारतीय से इस विषय पर बात की और कहा कि दिव्यता और मानव जीवन सामान हैं। पाए गए समस्त तथ्यों में उस भारतीय का नाम नहीं पता चलता है जो कि सुकरात से मिला था। भारत के सन्दर्भ में जो भी साक्ष्य ग्रीस अथवा यूनान से मिलते हैं उनमें भारत को इन्दोई (Indόi) कहा जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ था सिन्धु नदी के पास बसे लोग।

संदर्भ:
1. http://varnam.nationalinterest.in/2012/11/the-yogi-who-met-socrates/
2. https://www.revolvy.com/page/Aristoxenus?cr=1
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Eusebius
4. http://www.tertullian.org/fathers/eusebius_pe_11_book11.htm
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Socrates
6. https://en.wikipedia.org/wiki/Ancient_Greece%E2%80%93ancient_India_relations



RECENT POST

  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM


  • पाक-कला की एक उत्‍कृष्‍ट शैली लाइव कुकिंग
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:32 AM


  • आत्मा और मानव जाति की मृत्यु, निर्णय और अंतिम नियति से सम्बंधित है, एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:40 AM


  • मानवता की सबसे बड़ी वैज्ञानिक उपलब्धियों में से एक है, लेजर इंटरफेरोमीटर गुरुत्वीय-तरंग वेधशाला द्वारा किये गये अवलोकन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-11-2020 10:34 AM


  • लखनऊ की अत्यंत ही महत्वपूर्ण धरोहर शाह नज़फ़ इमामबाड़ा
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 11:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.