भारत की सबसे बड़ी दिग्गज आईटी कंपनियां एवं आईटी नौकरियों का भविष्य

लखनऊ

 24-06-2019 12:05 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

भारत की आईटी कंपनियाँ (IT Companies) वर्तमान में फार्च्यून 500 (Fortune 500) कंपनियों में से दो तिहाई की सेवा कर रही हैं और उन्होंने भारत में 40 लाख प्रत्यक्ष रोज़गार सृजित किए हैं। भारत में रोज़गार के बारे में बढ़ती चिंताओं के बीच, सी.एल.एस.ए. (CLSA)- एक पूंजी बाज़ार और निवेश समूह - का दावा है कि आईटी क्षेत्र में रोज़गार लगातार चौथे महीने दोहरे अंकों में बढ़ रहा है। आईटी क्षेत्र ने 2017 में कुछ परेशानी का सामना किया, जब पूरे भारत में प्रौद्योगिक क्षेत्र ने डिजिटलीकरण (Digitalisation) और स्वचालन के कारण लगभग 56,000 कर्मचारी को निकाल दिया। पिछली दो तिमाहियों में आईटी सेक्टर (IT Sector) में बड़ा बदलाव आया है।

रोज़गार परिदृश्य की वास्तविक क्षमता को पेश करने के लिए, मंत्रालय ने NASSCOM, प्रमुख उद्योग निकाय, साथ ही इस क्षेत्र में काम करने वाले अन्य प्रसिद्ध स्वतंत्र संगठनों और सलाहकारों द्वारा अनुमानों पर ध्यान दिया है।

NASSCOM ने इस बात की पुष्टि की है कि आईटी क्षेत्र में रोज़गार बढ़ना जारी है और अपनी रिपोर्ट (Report) में निम्न विश्लेषण दिया है:
2025 तक 25-30 लाख नए रोज़गार सृजित होंगे।
वित्त वर्ष 2017 में, उद्योग में 1,70,000 नए रोज़गार जुड़े हैं।
आईटी उद्योग ने पिछले तीन वर्षों में 6,00,000 रोज़गार जोड़े और आज, 39 लाख के कुल कर्मचारी आधार का दावा करता है।

रोज़गार देने वाले भारत के बड़े आईटी दिग्गजों में – टी.सी.एस. (TCS), इंफोसिस (Infosys), विप्रो (Wipro), कॉग्निजेंट (Cognizant) आदि कंपनियां हैं, लेकिन इनमें अमेरिकी कंपनी आईबीएम (IBM) भी भारत के शीर्ष 10 सबसे बड़े नियोक्ताओं की सूची में है। आईबीएम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (IBM India Pvt Ltd), आईबीएम की एक भारतीय सहायक कंपनी जो भारत के 1.5 लाख से अधिक लोगों को रोज़गार देती है।

सर्वेक्षण के 80% के करीब उत्तरदाताओं का मानना है कि अत्यधिक अनुकूलित आपूर्ति श्रृंखला का निर्माण और वैश्विक उद्यमों द्वारा घातीय प्रौद्योग का तेज़ी से उपयोग करना दो उचित रुझान हैं जो इस क्षेत्र को फिर से परिभाषित करेंगे। वैश्विक ग्राहकों की बदलती मांग भारतीय आईटी-बीपीएम (IT-BPM) खिलाड़ियों को प्रौद्योगिकियों जैसे कि, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things), मशीन लर्निंग (Machine Learning) / आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence), बिग डेटा (Big Data) और क्लाउड (Cloud) और रोबोटिक्स (Robotics) / ऑटोमेशन (Automation) के आसपास उचित श्रमता को विकसित करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है।

आईटी-बीपीएम सेक्टर ने वित्त वर्ष 2017 में भारत में 39 लाख लोगों को रोज़गार दिया। यह 2022 में 4.5% तक पहुंचने के लिए 6% -6.5% की ऐतिहासिक विकास दर के मुकाबले 3% -3.5% की दर से वर्ष-दर-वर्ष भर्ती जारी रखेगा। 2022 में 70% -75% नौकरियों में नए कौशल की ज़रूरत उभरेगी।

नई नौकरियों में डेटा वैज्ञानिक (Data Scientist), डेटा आर्किटेक्ट (Data Architect), एआई(AI), भाषा प्रसंस्करण, आरपीए डेवलपर (RPA Developer), तैनाती इंजीनियर (Deployment Engineer), 3 डी मॉडलिंग इंजीनियर (3D Modeling engineer), 3 डी डिज़ाइनर (3D designer), क्लाउड आर्किटेक्ट (Cloud architect), माइग्रेशन इंजीनियर (Migration engineer), एंड्रॉइड / आईओएस ऐप डेवलपर (Android/IOS app developer), डिजिटल मार्केटिंग (Digital Marketing), वीएफएक्स कलाकार (VFX artist), कंप्यूटर विज़न इंजीनियर (Computer vision engineer), वायरलेस नेटवर्क विशेषज्ञ (Wireless Network specialist), एंबेडेड सिस्टम प्रोग्रामर (Embedded system programmer) शामिल हैं। देश में उभरती होनहार डिजिटल प्रतिभा, अर्थव्यवस्था एवं रोज़गार सृजन के लिए एक बहुत ही शक्तिशाली क्षमता पैदा करने वाली है। सरकार साइबर (Cyber) सुरक्षा पर अधिक से अधिक तनाव को बढ़ावा दे रही है और इससे नवाचार, अनुसंधान और इस प्रकार रोज़गार सृजन के लिए अधिक से अधिक ध्यान केंद्रित होगा।

सन्दर्भ:
1. http://bit.ly/2Y1y1CR
2. http://pib.nic.in/newsite/PrintRelease.aspx?relid=162046
3. http://bit.ly/2XsFw8T
4. http://bit.ly/2ZCyJXv
5. https://go.ey.com/2Y9B0sQ



RECENT POST

  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM


  • व्यस्त जीवन शैली के चलते भारत में भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सुविधाजनक भोजन का प्रचलन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:51 AM


  • भारत में कोरियाई संगीत शैली, के-पॉप की लोकप्रियता के क्या कारण हैं?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:37 AM


  • योग के शारीरिक और मनो चिकित्सीय लाभ
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:21 AM


  • भारत के विभिन्‍न धर्मों में कीटों की भूमिका
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:56 AM


  • सोशल मीडिया पर समाचार, सार्वजनिक मीडिया से कैसे हैं भिन्न?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:54 AM


  • अपने रक्षा तंत्र के जरिए ग्रेट वाइट शार्क से सुरक्षित बच निकलती है, सील
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:16 PM


  • संकट में हैं, कमाल के कवक, पारिस्थितिकी तंत्र में देते बेहद अहम् योगदान
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:02 AM


  • बढ़ते शहरीकरण के इस युग में पक्षियों के अनुकूल बुनियादी ढांचे बनाने की आवश्यकता है
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:13 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id