क्या काली बिल्ली होती है दुर्भाग्य का संकेत?

लखनऊ

 25-04-2019 07:00 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

दर्पणों को तोड़ने से लेकर नींबू और मिर्ची को लटकाने तक, भारत विविध संस्कृति और परंपरा का देश है, साथ ही साथ जिसमे बहुत सारे अंधविश्वास भी हैं। हम उन्हें हर दिन चारों ओर देखते हैं। एक काली बिल्ली हमारे रास्ते को पार करती है और एक मृत प्रतिमा की तरह, हम रुक जाते हैं और किसी और के पहले गुज़रने का इंतज़ार करते हैं। देश के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि हम उनका अभ्यास करना जारी रखते हैं, भले ही हमें पता हो कि कुछ नहीं होने वाला फिर भी हम ऐसे अन्धविश्वास को मानना नहीं छोड़ते।

भारत में यह एक लोकप्रिय धारणा है कि अगर एक काली बिल्ली आपके रास्ते को पार करती है तो यह बुरी किस्मत या दुर्घटनाओं का संकेत होता है ।सिर्फ इसलिए कि वे काली बिल्लियां हैं? सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पश्चिम में भी यह एक लोकप्रिय धारणा है। इस अंधविश्वास की उत्पत्ति मिस्रवासियों से हुई जो यह मानते थे कि काली बिल्लियाँ दुष्ट प्राणी है और वे बुरी किस्मत लाती हैं। भारत में, काला रंग आमतौर पर भगवान शनि से जुड़ा हुआ है। ऐसा कहा जाता है कि यदि एक काली बिल्ली आपके रास्ते को पार करती है, तो आपको किसी और को आपसे पहले गुज़रने का इंतज़ार करना होगा । इस तरह, यदि कोई भी बुरी आफत आपके ऊपर आने वाली होगी तो वह टल जाएगी। बेशक, इसमें कोई तर्क नहीं है। जैसा कि ग्रूचो मार्क्स(Groucho Marx) ने एक बार कहा था कि "एक काली बिल्ली आपके रास्ते को पार करती है, यह दर्शाता है कि जानवर कहीं जा रहा है"। न कुछ ज्यादा, न कुछ कम।

अन्य देशो में काली बिल्लिओ को लेकर विभिन्न धारणाएं
काली बिल्लियों से जुड़े लोकगीत तथा संस्कृति जगह-जगह भिन्न हैं। स्कॉटिश(Scottish) का मानना है कि घर में एक अजीब काली बिल्ली का आगमन समृद्धि का संकेत है। सेल्टिक(Celtic) पौराणिक कथाओं में, एक परी जिसे कैट एसथ(Cat Sìth) के नाम से जाना जाता है, एक काली बिल्ली का रूप लेती है। जापान में काली बिल्लियों को भी सौभाग्य माना जाता है। इसके अलावा, यह माना जाता है कि एक महिला जो काली बिल्ली की मालिक है, उसके घर अतिथि का आगमन होगा । हालांकि पश्चिमी इतिहास में, काली बिल्लियों को अक्सर बुराई के प्रतीक के रूप में देखा जाता है, विशेष रूप से चुड़ैलों के होने का संदेह किया जाता है, और इसलिए अधिकांश यूरोप काली बिल्ली को बुरी किस्मत का प्रतीक मानते हैं, खासकर अगर किसी के पास काली बिल्ली होती है तो उसे , दुर्भाग्य और मृत्यु का शगुन माना जाता है। जर्मनी में, कुछ का मानना है कि काली बिल्लियाँ किसी व्यक्ति के सामने दाएं से बांयी ओर जाती है तो , यह एक बुरा शगुन होता है। लेकिन यदि यही उल्टा हो तो इसे अच्छा माना जाता है ।

कई लोककथाओं के अनुसार काली बिल्ली चुड़ैलों या राक्षसों के लिए एक जासूस के रूप में कार्य करने के लिए मानव आकार में बदलने में सक्षम है। जब तीर्थयात्री प्लायमाउथ रॉक(Plymouth Rock) में पहुंचे, तो वे अपने साथ बाइबल में एक भक्ति विश्वास लेकर आए । वे काली बिल्ली को चुड़ैलों की साथी के रूप में देखते थे। काली बिल्ली के साथ पकड़े जाने पर किसी को भी कड़ी सजा दी जाती थी या उसे मार दिया जाता था । उन्होंने काली बिल्ली को एक दानव के रूप में देखा।

मध्य युग के दौरान, इन अंधविश्वासों ने लोगों को काली बिल्लियों को मारने के लिए प्रेरित किया। यह चूहे की आबादी में वृद्धि और ब्लैक डेथ (Bubonic plague) और कृन्तकों द्वारा किए गए अन्य रोगों के प्रसार का अनपेक्षित परिणाम था। हलाकि हमे इंग्लैंड से बिल्लियों के संहार या उन्हें अलाव में जलने जैसे कोई सबूत नहीं मिलते ।हालांकि, सकारात्मक रूप काली बिल्लियों को अलौकिक शक्तियों से जोड़के देखा जाता था उदाहरण के लिए " नाविक अपनी नाव को काले रंग या काली बिल्ली से जुडी कोई प्रतिमा साथ में रखते थे क्योंकि उनके अनुसार ये सौभाग्य का संकेत होता था । कभी-कभी मछुआरे की पत्नियाँ घर पर भी काली बिल्लियाँ रखती थीं, इस उम्मीद में कि काली बिल्ली समुद्र में उनके पतियों की रक्षा करेंगी ।

कुछ और भारतीय अंधविश्वास और उनके पीछे के सिद्धांत
नींबू और 7 हरी मिर्च
भारत में यह माना जाता है कि 'अलक्ष्मी', दुर्भाग्य की देवी दुकान के मालिकों या व्यवसाय के लिए बुरी किस्मत ला सकती है। चूंकि, वह खट्टी, तीखी और गर्म चीजें पसंद करती हैं, इसलिए भारत में दुकान के मालिक अपने दरवाजे पर नींबू और 7 हरी मिर्च लटकाते हैं ताकि देवी अपना पसंदीदा खाना खाएं, अपनी भूख को संतुष्ट करें और दुकान में प्रवेश किए बिना निकल जाएं।
दर्पण का टूटना
कहा जाता है कि पहले के समय में दर्पण बहुत महंगे लेकिन भंगुर हुआ करते थे। लापरवाही से बचने के लिए, रोम के प्राचीन लोगों ने प्रचार करना शुरू कर दिया कि दर्पणों को तोड़ने से आपको 7 साल का दुर्भाग्य मिलेगा। 7 साल क्यों? ऐसा इसलिए है क्योंकि रोमियों का मानना है कि जीवन को नवीनीकृत करने में 7 साल लगते हैं। तो, एक व्यक्ति की छवि, जिसके पास एक अच्छा स्वास्थ्य नहीं है, वह दर्पण को तोड़ देगा और 7 साल बाद, उसका जीवन खुद को नवीनीकृत करेगा और वह अच्छे स्वास्थ्य में होगा।
आंख का फड़कना अशुभ होता है
विभिन्न संस्कृतियों में अंधविश्वास अलग है। इसे कुछ संस्कृतियों में सौभाग्य और कुछ में बुरा माना जाता है। यह लिंग के अनुसार भी भिन्न होता है। चूंकि यह आंखों से संबंधित है, इसलिए आंखों के फड़कने के पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं। तनाव, शराब, थकान, एलर्जी, या सिर्फ सूखी आँखों के कारण आँखों का हिलना हो सकता है।लेकिन भारत में देखे तो आपकी दायीं आंख का फड़कना अशुभ माना जाता है।
शाम के समय फर्श को साफ करने से घर से लक्ष्मी दूर हो जाती हैं।
यहां तक कि अगर आपका कमरा गंदा है, तो आपकी माँ आपको शाम को फर्श पर झाड़ू नहीं लगाने देगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि हिंदुओं का मानना है कि देवी लक्ष्मी आम तौर पर शाम के दौरान घरों में जाती हैं (विशेष रूप से शाम 6-7 बजे के आसपास), और इसलिए झाड़ू लगाने से वह दूर चली जाएंगी ।
तीन तिगाड़ा काम बिगाड़ा
वाक्यांश के अनुसार, दो से ऊपर की किसी भी चीज़ को संभालना मुश्किल हो जाता है। और यह कि एक चर्चा तीन के बजाय दो लोगों के बीच हमेशा बेहतर होती है। हालाँकि, यह 3 के रूप में गलत समझा गया था।

अंकशास्त्र के अनुसार, अंक आठ पर शनि ग्रह (फिर से शनि!) का शासन होता है और इसलिए यदि आपने आठ नंबर पर शासन किया है, तो आपके रास्ते में बहुत सारे अवरोध, सीमाएं और कुंठाएं होंगी।हिंदुओं का मानना है कि शनिवार को बाल और नाखून काटना अशुभ होता है क्योंकि यह शनि ग्रह (शनि) को प्रभावित करता है, जो बाद में दुर्भाग्य का संकेत होता है। हालांकि, ऐसे लोगों से पूछें, जो शनिवार को अपने बाल और नाखून काटते हैं, और हम शर्त लगाते हैं कि वे आपको बताएंगे कि उनके बाल बेहतर दिख रहे थे और उनके नाख़ून भी खराब नहीं है , और कोई भी ग्रह उनके ऊपर बुरी किस्मत से नहीं टिका हुआ है ।

इस प्रकार, अंधविश्वास बिल्लियों के बारे में हो या फिर किसी और चीज़ के ,यह हर संस्कृति में भिन्न होते हैं। फिर भी यह दिलचस्प है कि बिल्ली एकमात्र ऐसा जानवर है जो दुनिया भर में इन सभी अंधविश्वासों के आसपास का सामान्य तत्व है।

संदर्भ :
1. https://bit.ly/2G0BVFA
2. https://bit.ly/2IFBeUv
3. https://bit.ly/2Psu3zM
4. https://bit.ly/2Dxv3Of



RECENT POST

  • एक नरभक्षी कलाकार जिसने बनाया था, नवाब असफ उद दौला का चित्र
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:25 AM


  • प्राचीन समय में शारीरिक रूप से संचालित किए जाते थे पंखे
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:00 AM


  • अप्रवासी भारतीयों का कोरोना महामारी से लड़ने में योगदान
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 10:00 AM


  • सार्वभौमिक अनुप्रयोग या प्रयोज्यता के विचार का समर्थन करती है सार्वभौमिकता की अवधारणा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 12:30 AM


  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, भारतीय पाक कला का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हैं, शरीर पर बाल रखने के सन्दर्भ में अनेकों दृष्टिकोण
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 10:00 AM


  • वांटाब्लैक (Vantablack) - इस ब्रह्माण्ड में मौजूद, काले से भी काला रंग
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-05-2020 10:50 AM


  • क्या है, ईद अल फ़ित्र से मिलने वाली सीख ?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:15 AM


  • भारत में कितनों के पास खेती के लिए खुद की जमीन है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-05-2020 09:55 AM


  • लॉक डाउन के तहत काफी प्रचलित हो गया है रसोई बागवानी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-05-2020 10:10 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.