काफी दिक्कतों के बाद हुआ था लखनऊ के लोहे के पुल का निर्माण

लखनऊ

 01-04-2019 07:05 PM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

अवधों के समय में इंजीनियरिंग (engineering) विद्या की कमी के कारण लखनऊ के लोहे के पुल का निर्माण आधा-अधुरा रहा गया था, जिसे अंत में बंगाल के इंजीनियरों द्वारा 40 वर्षों के समय-अंतराल के बाद पूरा किया गया था। यह ऊपर दी गयी तस्वीर द लखनऊ एल्बम: फिफ्टी फोटोग्राफिक व्यूज ऑफ़ लखनऊ (The Lucknow Album: Fifty Photographic Views of Lucknow) से ली गयी है जिसे दारोगा अब्बास अली दवाला एकत्रित किया गया था।

20 वीं शताब्दी तक लखनऊ की गोमती नदी में कुछ ही पुल थे। सर जॉन रेनी (Sir John Rennie) द्वारा डिज़ाइन किया गया लोहे का पुल नवाब सआदत अली खान द्वारा खरीदा गया था, लेकिन इंग्लैंड से लाने के बाद भी 40 साल तक इस पुल पर कोई भी काम नहीं किया गया। इसके पीछे विभिन्न कारण हैं और 40 साल बाद इसका किसने निर्माण किया, उस बारे में भी कई मान्यताएं हैं। जब बिशप हीबर (Bishop Heber) ने 1824 में लखनऊ का दौरा किया था, तब उन्होंने अपनी डायरी में लिखा था कि अवध के नवाबों के विचारों में पुल के संबंध में अंधविश्वासी प्रासंगिकता बसी हुई है। क्योंकि पुल के आने के बाद ही सआदत अली खान की मृत्यु हो गई थी और लोहे के पुल को अशुभ मान लिया गया था। नवाब मानते थे कि यदि उन्होंने इस पुल का निर्माण करवाया तो उनकी भी मृत्यु हो जाएगी।

अंत में नवाब अमजद अली शाह (1842-7) द्वारा कर्नल फ्रेजर की मदद से रेजीडेंसी (Residency) के उत्तर-पश्चिम में इस पुल को लगवाया गया था। वहीं कई मानते हैं कि अवध के कारीगरों के इंजीनियरिंग विद्या की कमी के कारण पुल के निर्माण में विलम्ब हुआ था और अमजद अली ने ईस्ट इंडिया कंपनी से मदद मांगी और पुल का कर्नल फ्रेजर, बंगाल के इंजीनियर द्वारा निर्माण करवाया गया था। 'प्रोफेशनल पेपर्स ऑन इंडियन इंजीनियरिंग (वॉल्यूम 3)' पुस्तक में बताया गया है कि पुल के चिनाई और निर्माण की लागत लगभग 1,80,000 रुपये तक रही होगी।

संदर्भ :-

1. http://www.bl.uk/onlinegallery/onlineex/apac/other/019xzz000000270u00024000.html
2. http://www.bl.uk/onlinegallery/onlineex/apac/other/019xzz000000270u00023000.html
3. https://www.oldindianphotos.in/2013/06/iron-bridge-lucknow-c1870s.html
4. https://collection.nam.ac.uk/detail.php?acc=1965-11-113-19
5. https://medium.com/@pastmaster77/the-curious-case-of-lucknows-iron-bridge-26c06aa67836


RECENT POST

  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM


  • पाक-कला की एक उत्‍कृष्‍ट शैली लाइव कुकिंग
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:32 AM


  • आत्मा और मानव जाति की मृत्यु, निर्णय और अंतिम नियति से सम्बंधित है, एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:40 AM


  • मानवता की सबसे बड़ी वैज्ञानिक उपलब्धियों में से एक है, लेजर इंटरफेरोमीटर गुरुत्वीय-तरंग वेधशाला द्वारा किये गये अवलोकन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-11-2020 10:34 AM


  • लखनऊ की अत्यंत ही महत्वपूर्ण धरोहर शाह नज़फ़ इमामबाड़ा
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 11:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.