उत्तर प्रदेश में विधवा पेंशन योजना

लखनऊ

 02-02-2019 01:50 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

विधवाओं और निराश्रित महिलाओं के लिए सरकार द्वारा पेंशन योजना लागू की गई है। यह योजना 18-59 वर्ष की आयु की उन महिलाओं के लिए है, जिनके पति के निधन के बाद वे अपना जीवन निर्वाह करने में असमर्थ हो गई हों। इस योजना को प्राप्त करने के लिए परिवार की आय रु. 12500/- प्रति माह से अधिक नहीं होनी चाहिए। उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार द्वारा भी निराश्रित महिलाओं के कल्याण के लिए विधवा पेंशन योजना को शुरू किया गया है। यह योजना उत्तर प्रदेश की पात्र विधवाओं को मासिक वित्तीय सहायता प्रदान करती है। योजना के पात्र लाभार्थियों को राज्य सरकार से प्रति माह 500 रुपये का अनुदान दिया जाएगा।

इस योजना का लाभ निम्‍न श्रेणी में आने वाले लोग उठा सकते हैं:

•  महिलाएं, जिनकी उम्र 18-60 वर्ष के बीच है।
•  महिलाएं, जो उत्तर प्रदेश की स्थायी निवासी हैं।
•  जिनकी पारिवारिक आय रु.10,000 प्रति माह ही है।

आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेज निम्‍न हैं:

1.  आवेदक की पासपोर्ट साइज तस्वीर
2.  जन्म प्रमाणपत्र
3.  पहचान प्रमाणपत्र (वोटर आईडी / आधार कार्ड)
4.  गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) कार्ड
5.  बैंक में खाता
6.  आय प्रमाणपत्र
7.  पति का मृत्यु प्रमाणपत्र

विधवा पेंशन योजना के लिए आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, जिसकी प्रक्रिया निम्‍नलिखित हैं:

• सबसे पहले उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट http://sspy-up.gov.in/ पर जाएं।
• फिर पोर्टल के होमपेज पर 'निराश्रित महिला पेंशन' (Widow Pension) पर क्लिक करें।
• अब 'ऑनलाइन आवेदन करें' (Apply Now) पर क्लिक करें।
• योजना के लिए आवेदन करने के लिए 'न्यू एंट्री फॉर्म' (New Entry Form) पर क्लिक करें।
• आवश्यक विवरण के साथ आवेदन पत्र भरें और स्कैन किए गए दस्तावेजों को संलग्न करें।
• अंत में आवेदन जमा करने के लिए ''सेव'' (Save) पर क्लिक करें।

आवेदन जमा करने के बाद, आपको प्राप्ति सूचना के रूप में एक पंजीकरण संख्या प्राप्त होगी। इस प्राप्ति सूचना के माध्यम से आवेदन की स्थिति का पता लगाया जा सकता है। आवेदन पत्र भरने के बाद आवेदक को फिर से उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। वहाँ पर ''आवेदन की स्थिति'' पर क्लिक करें। लखनऊ में भी विधवाओं के लिए महिला कल्याण विभाग के तेहत ''निराश्रित महिलाओं को पेंशन वितरण'' नामक योजना है जिसकी पूरी सूची उत्तर प्रदेश सर्कार द्वारा अपनी वेबसाइट https://lucknow.nic.in पर जारी की गयी है। इस सूची को आप इस लिंक पर क्लिक कर के भी देख सकते है https://lucknow.nic.in/survey2018-ww-womenpension/

संदर्भ :-

1. http://www.nari.nic.in/hi/schemes/pension-widows-and-destitute-women
2. https://www.indiafilings.com/learn/uttar-pradesh-vidhwa-widow-pension-scheme/
3. https://lucknow.nic.in/survey2018-ww-womenpension/



RECENT POST

  • अपनी नैसर्गिक खूबसूरती के साथ भयावह नरसंहार का साक्ष्य सिकंदर बाग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     12-05-2021 09:29 AM


  • ग्रॉसरी उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री में सहायक हुई हैं,ई-कॉमर्स कंपनियां और कोरोना महामारी
    संचार एवं संचार यन्त्र

     10-05-2021 09:45 PM


  • शहतूत- साधारण किंतु अत्यंत लाभकारी फल
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें बागवानी के पौधे (बागान)साग-सब्जियाँ

     10-05-2021 08:55 AM


  • आनंद, प्रेम और सफलता का खजाना है, माँ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-05-2021 12:23 PM


  • मानव सहायता श्रमिक (Humanitarian Aid Workers)कोरोना काल के देवदूत हैं।
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     08-05-2021 09:05 AM


  • नोबल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ टैगोर का संगीत प्रेम तथा लखनऊ शहर से विशेष लगाव।
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिध्वनि 2- भाषायें विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     07-05-2021 10:00 AM


  • नृत्य- एक पारंपरिक और धार्मिक अभ्यास
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिद्रिश्य 2- अभिनय कला द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-05-2021 09:25 AM


  • मछलीपालन का इतिहास: क्या मछलीघर में उपयोग होने वाली दवा कोविड-19 से संक्रमित लोगों के उपचार
    पर्वत, चोटी व पठारनदियाँसमुद्र

     05-05-2021 09:18 AM


  • ग्रामीण बेरोज़गारी के अँधेरे का रोशन चिराग बन सकता है मनरेगा (MGNREGA)
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     04-05-2021 10:15 AM


  • 15वीं से 17वीं शताब्दी में प्रचलित थी नई दुनिया की खोज और अन्वेषण की आयु का क्या था प्रभाव
    समुद्र

     03-05-2021 08:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id