बतासी: जो आसमान में ही खाता-पीता और सोता है

लखनऊ

 10-11-2018 10:00 AM
पंछीयाँ

हम सभी पक्षियों को अपने घरों के ऊपर से उड़ते हुए या किसी पेड़, ईमारत में डेरा डाले हुए देखते ही हैं और उनकी चहचहाट को सुनकर खुश भी होते हैं लेकिन दुनिया में कई ऐसे पक्षी भी हैं जो सामान्य पक्षियों से काफी अलग होते हैं। ये पक्षी सिर्फ देखने में ही बाकियों से अलग नहीं होते बल्कि इनका रहन-सहन भी सामान्य पक्षियों से भिन्न होता है। आज हम ऐसे ही एक पक्षी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे भारत में बतासी के नाम से जाना जाता है और यूरोप में इस पक्षी को 'स्विफ्ट' (Swift) पुकारा जाता है।

इन पक्षियों को पहाड़ियों के बीच बुलबुल की तरह उड़ते हुए देखा जा सकता है। इन पक्षियों के पंख लम्बे और नुकीले होते हैं। खैरा रंग, ठुडी, गले और पूछ की जड़ के पास गहरा सफ़ेद रंग होता है। इन पक्षियों को पुरानी इमारतों और ताड़ के वृक्षों में डेरा डाले हुए देखा जा सकता है। इन पक्षियों की बनावट और पक्षियों से अलग होती है। इनके पैर के पंजे ऐसी होती हैं की उनके सहारे चलना, फिरना, बैठना अत्यंत मुश्किल होता है। इनके पंजे बहुत छोटे, मुड़े हुए होते हैं साथ ही इनके डैने लम्बे होते हैं। इसलिए ये हेमशा डैने के सहारे ही बैठ पाती हैं। ये पक्षी केवल प्रजनन के वक़्त घोसलों में आते हैं।

इनकी उड़ने की गति 110 से 170 कि.मी. प्रति घंटा होती है। ये पक्षी पूरे 2-3 साल बाद अंडे देने अपने घोंसले में आते हैं। बतासी पक्षी आसमान में रहते हुए ही खाना, पीना और सोने की क्रियाओं को अंजाम देते हैं। ये पक्षी घोंसला बनाने से पहले एक साथ मुआयना करने के लिये निकलते हैं और फिर जा कर घोंसलें बनाते हैं। बतासी पक्षी घोंसला बनाने के लिये अपनी लार का प्रयोग करते हैं। इनकी लार जिलेटिन (Gelatin) की तरह चिपचिपी और गाढ़ी होती है। ये लार की मदद से तिनके और परों को चिपकाकर घोंसला बनाते हैं। बतासी नर और मादा प्रजनन के वक़्त कई दिनों तक बिना खाये अपने घोंसलों में पड़े रहते हैं और भूख लगने पर ये कई किलोमीटर दूर उड़ जाते हैं। अक्सर यह देखा गया है कि बतासी अपने पुराने घोंसलों में ही अंडे देते हैं।

संदर्भ:
1.https://goo.gl/dmEpPG
2.सिंह, राजेश्वर प्रसाद नारायण. भारत के पक्षी. पब्लिकेशन डिवीज़न, भारत सरकार. 1958



RECENT POST

  • सर्दियों में क्यों बढ़ जाती है, बिजली की खपत
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-11-2022 10:49 AM


  • चारे की कमी और अवहनीय लागत के कारण भी बढ़ रहे हैं दूध के दाम
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     25-11-2022 10:46 AM


  • जीवन में अर्थ को ढूंढना हो तो अवश्य पढ़ें यह पुस्तक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-11-2022 11:03 AM


  • भारत में नई ऊंचाइयों को छूने के लिए तैयार है, सुगंध और स्वाद उद्योग
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     23-11-2022 10:48 AM


  • ग्रामीण अर्थव्यवस्था के उत्थान में वनों की अभिन्न भूमिका
    जंगल

     22-11-2022 10:43 AM


  • विश्व टेलीविजन दिवस पर जानिए निप्कोव डिस्क क्या है, जिसने रखी थी आधुनिक टेलीविजन की नींव
    संचार एवं संचार यन्त्र

     21-11-2022 10:34 AM


  • क्या आपने पहले कभी देखें हैं, माइक्रोग्रैविटी में ज्वाला के ऐसे अद्भुत नज़ारे?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     20-11-2022 12:43 PM


  • प्रकृति में मौजूद जहरीले जीव एवं पादप
    शारीरिक

     19-11-2022 10:58 AM


  • 1857 के विद्रोह में लखनऊ के सिकंदरा बाग में अंग्रेजों से लड़ी थी अफ्रीकी मूल की बहादुर गुमनाम महिला
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     18-11-2022 10:52 AM


  • शुष्क रेगिस्तानी शहर दे रहे हैं, जल संरक्षण और प्राकृतिक संतुलन की मिसाल
    मरुस्थल

     17-11-2022 11:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id