रामपुर में रेशम कारीगरी

लखनऊ

 22-06-2017 12:00 PM
स्पर्शः रचना व कपड़े
रेशम के कपड़े हमारी प्राचीन सभ्यता का एक अनोखा और महत्वपूर्ण हिस्सा हैं| रेशम का व्यापार प्राचीन काल से ही होता आ रहा है| महाभारत व अन्य ग्रंथों में रेशम के कपडे का जिक्र मिलता है और मौर्य साम्राज्य में भी रेशम के कई प्रमाण देखने मिलते हैं| भारत में वाराणसी, कांचीपुरम रेशम की साड़ियों का काम होता है| वाराणसी की बनारसी साड़ी अपने खूबसूरती और कारीगरी के लिए विख्यात है| वाराणसी से लगभग 100 किलोमीटर दूर मुबारकपुर भी बूटी काम और ज़री काम के लिए प्रसिद्ध है| ब्रोकेड का काम बनारसी साड़ियों की खासियत है जिसको किन्काब कहते हैं| सिल्क साड़ियों पर अलग अलग तरह के आकर वाली रचनाएँ इनकी शोभा को और बढाती हैं| अलग अलग रुपांकनो से इनकी खूबसूरती में चार चाँद लग जाते हैं (पहले चित्र में इसका विविरण देखे)| इन्हें बनाने की कई तकनीक हैं जैसे कड़वा, मीनाकरी, फेक्वा, कत्रुआ, नक्शा, कलाबत्तू इत्यादि| सिल्क साड़ियाँ पुरे भारत में पाई जाती हैं| यह कई प्रकार की होती हैं और इनको बनाने में अलग अलग तकनीक अपनाई जाती है :- 1. वाराणसी – ब्रोकेड, ज़री 2. मुबारकपुर (उत्तर प्रदेश) – नगई साडी 3. मुर्शिदाबाद(बंगाल) – बालूचर 4. गुजरात – तन्चोई, पटोला 5. महाराष्ट्र – पैठणी 6. असम- एंडी, मुगा (चंपा अदाकारी / मेजम्कारी), सुलाकुची 7. कश्मीर 8. तमिल नाडू – कांचीपुरम 9. गणेशपुर (महाराष्ट्र) – तुस्सेर सिल्क साडी इत्यादि जैसे लखनऊ का चिकनकारी का काम प्रसिद्ध है वैसे ही वाराणसी के ज़री और ब्रोकेड सिल्क साड़ियों का कोई तोड़ नहीं| सिल्क के धागे को कपास और दुसरे अलग प्रकार के धागों से मिला कर जारजट, शिफॉन, नायलॉन इत्यादि प्रकार के कपड़े भी बनते हैं| रामपुर में जहाँ इस प्रकार के कपड़ों का उत्पादन होता था, वही आज कारीगर फूल-पत्ती और ज़री कारगरी के लिए कपड़ा आयात करते हैं| 1. तानाबाना- टेक्सटाइल्स ऑफ़ इंडिया, मिनिस्ट्री ऑफ़ टेक्सटाइल्स, भारत सरकार 2. आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स ऑफ़ इंडिया – इले कूपर, जॉन गिल्लो 3. हेंडीक्राफ्ट ऑफ़ इंडिया – कमलादेवी चट्टोपाध्याय 4. टेक्सटाइल ट्रेल इन उत्तर प्रदेश (ट्रेवल गाइड ) – उत्तर प्रदेश टूरिज्म

RECENT POST

  • कई रोगों का इलाज करने में सक्षम है स्टेम या मूल कोशिका आधारित चिकित्सा विधान
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:20 AM


  • लखनऊ के तालकटोरा कर्बला में आज भी आशूरा का पालन सदियों पुराने तौर तरीकों से किया जाता है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:18 AM


  • जापानी व्यंजन सूशी, बन गया है लोकप्रिय फ़ास्ट फ़ूड, इस वजह से विलुप्त न हो जाएँ खाद्य मछीलियाँ
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:27 AM


  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM


  • व्यस्त जीवन शैली के चलते भारत में भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सुविधाजनक भोजन का प्रचलन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:51 AM


  • भारत में कोरियाई संगीत शैली, के-पॉप की लोकप्रियता के क्या कारण हैं?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:37 AM


  • योग के शारीरिक और मनो चिकित्सीय लाभ
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:21 AM


  • भारत के विभिन्‍न धर्मों में कीटों की भूमिका
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:56 AM


  • सोशल मीडिया पर समाचार, सार्वजनिक मीडिया से कैसे हैं भिन्न?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:54 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id