भारत की रामायण और थाईलैंड का रामकियेन

लखनऊ

 21-10-2018 10:00 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

रामायण की कथा हम सभी बचपन से सुनते आ रहे हैं। तथा इतनी बार इसे सुनने और फिल्मों आदि के रूप में देखने के बाद यह हमारे दिल और दिमाग में बैठ सी गयी है। परन्तु आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि रामायण की कथा सिर्फ हमारे देश भारत में ही एक खास स्थान प्राप्त नहीं करती है। जी हाँ, रामायण से ही उत्पन्न हुआ ‘रामकियेन’ थाईलैंड का राष्ट्रीय महाकाव्य है।

रामकियेन का शाब्दिक अर्थ हुआ ‘राम की महिमा’। किंवदंतियों के अनुसार रामायण को वाल्मिकी द्वारा भारत के जंगलों में चौथी शताब्दी में लिखा गया था। इसके बाद भारतीय व्यापारियों और विद्वानों के साथ रामायण दक्षिणपूर्व एशिया तक पहुंची। पहली सहस्राब्दी की शुरुआत में इसे थाई लोगों द्वारा अपना लिया गया। इसके थाई संस्करण को पहली बार 18वीं सदी में अयूथया साम्राज्य के दौरान लिखा गया था। अयूथया पर बर्मा की सेनाओं के हमला कर देने के बाद इसके कई संस्करण लापता हो गए।

चकरी वंश के खोजकर्ता राजा राम प्रथम (1726-1809) ने सन 1799 से 1807 के बीच रामकियेन के प्रसिद्ध संस्करण की रचना करवाई तथा कई भागों को खुद भी लिखा। उनके बाद उनके पुत्र राजा राम द्वितीय (1766-1824) ने ‘खोन’ नामक एक नाटकीय प्रस्तुति के लिए अपने पिता के इस संस्करण को अनुकूलित किया। यह रंगमंच का एक रूप था जिसमें थाई नर्तक बिना कुछ बोले विस्तृत वेशभूषा और मुखौटे पहने एक प्रदर्शनी देते हैं। और साथ ही साथ स्टेज के एक तरफ एक समूह पूरे रामकियेन का वर्णन कहता है। इस खोन नाटक का एक वीडियो ऊपर प्रस्तुत किया गया है।

थाई लोगों में रामकियेन के परिचय के बाद से यह इनकी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। राजा राम प्रथम के रामकियेन को थाई साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों में से एक माना जाता है। इसे अभी तक पढ़ा जाता है तथा स्कूलों में तक पढाया जाता है।

संदर्भ:
1.http://ignca.nic.in/coilnet/rktha010.htm
2.https://en.wikipedia.org/wiki/Ramakien



RECENT POST

  • दवाओं में कीड़ों का उपयोग
    तितलियाँ व कीड़े

     10-07-2020 05:32 PM


  • ब्रिक्स (BRICS) की कमियों और विशेषताओं को उजागर करता है कोविड -19
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     08-07-2020 06:46 PM


  • इंडस वैली और इसकी लैपिडरी
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:43 PM


  • शिकस्ता हस्तलिपि और उसका इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:53 PM


  • लखनऊ और चिकनी बलुई मृदा के विभिन्न उपयोग
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:36 PM


  • वह दुर्लभता जो हैली का धूमकेतु है
    खनिज

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारत के कंटीले जंगल
    जंगल

     04-07-2020 03:14 PM


  • ऐरावत अदम्य शक्ति का प्रतीक और हाथियों का देवता राजा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:06 AM


  • मुगल आभूषण और कपड़ों का निरूपण और इतिहास
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:51 AM


  • लखनऊ की कई जटिल सुगंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:17 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.