पृथ्वी पर उड़ने वाले जीवों का जन्म

लखनऊ

 03-08-2018 12:14 PM
तितलियाँ व कीड़े

पृथ्वी को हम शायद ही बड़े स्तर पर जानते हैं। इस पर निवास करने वाले प्रत्येक जीव की एक क्रमिक प्रक्रिया है जिसके आधार पर यह अपने विकास की गति को प्रदर्शित करते हैं। पृथ्वी के निर्माण से पहले पूरा वातावरण एक प्रकार के जलते हुए लावे से मिलता जुलता था परन्तु पृथ्वी के निर्माण ने पूरे ब्रह्माण्ड की दिशा और दशा बदल कर रख दी। पृथ्वी पर विभिन्न जीवों का उद्भव हुआ। शुरूआती जीव पृथ्वी की सतह पर ही रहा करते थे परन्तु बाद में उड़ने वाले जीवों का उद्भव हुआ।

आज वर्तमान में यदि पूछा जाए तो सबसे सामान्य उत्तर यही है कि पृथ्वी पर सबसे पहले उड़ने वाले जीव ट्रायासोरस, पंछी आदि थे, परन्तु सही उत्तर कुछ और ही है। वास्तविकता में पृथ्वी पर सबसे पहले उड़ने वाले जीव कीड़े थे जिन्होंने उड़ने में अभ्यास्तता प्राप्त की थी। कीड़ों में पंख लगने से पहले तक उनके जन्म एवं विकास के बारे में आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं - http://lucknow.prarang.in/1808011639

कीड़ों में सबसे पहले पंख कैसे आये इस पर विभिन्न विद्वानों के मतभेद हैं परन्तु सभी द्वारा पाए गए जीवाश्मों पर एक सी ही राय या प्रतिक्रिया है। दुनिया का पहला प्राप्त कीड़ों का जीवाश्म है रायनियोनेथा हर्स्टी (Rhyniognatha Hirsti) जो कि करीब 40 करोड़ साल पुराना है तथा यह स्कॉटलैंड से प्राप्त हुआ था। हालाँकि इनके शरीर पर किसी प्रकार के पंख का प्रमाण तो प्राप्त नहीं होता लेकिन शारीरिक संरचना को ध्यान में रखकर जब देखा गया तो यह उत्तर आया कि ये शायद उड़ सकते थे।

परन्तु वहीं 2017 के एक अन्वेषण में पाया गया कि ये उड़ने वाले जीव नहीं थे। इस आधार पर गिल्बोआ, न्यू यॉर्क से प्राप्त एक जीवाश्म पर अध्ययन हुआ जो कि 38 करोड़ साल पुराना था। ये आर्केओनेथा (Archaeonatha) सारणी के जीव थे। सबसे पहले पंख का जीवाश्म 32.5 करोड़ साल पुराना माना जाता है। यह डेलीत्ज़चाला बिटेरफेल्डेंसिस (Delitzschala bitterfeldensis) था। सबसे पुराने और इस पंख वाले कीड़े के मध्य एक लम्बी अवधि का अंतर था। इसके बीच के अन्तराल को हेक्सापोडा (Hexapoda) अंतराल माना जाता है जो कि डेवोनीयन काल (Devonian Period) और कार्बोनिफेरस काल (Carboniferous Period) के मध्य का समय था।

प्रस्तुत चित्र में भिन्न युगों एवं कालों का क्रम दर्शाया गया है:

अब यह अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाता है कि वास्तव में उड़ने वाले जीव का जन्म कब हुआ। इसका पता सिलुरियन काल (Silurian Period) में मिलता है जो कि लगभग 44 करोड़ साल पहले जाता है। उस काल से लेकर 32.5 करोड़ साल पहले तक इन कीड़ों का विकास हुआ और ये उड़ने लायक हुए। कीड़ों के जीवाश्म का अध्ययन बड़ी जटिल प्रक्रिया है और बहुत कम मात्रा में यह बच पाते हैं। अधिकतर कीड़ों के पंख बचते हैं जिनके आधार पर उनकी संरचना का ज्ञान हमें मिलता है। दुनिया में उस समय के प्राप्त जलीय कीड़ों में पंख के आसार दिखते हैं जिनमें से मेफ्लाई निम्फ (Mayfly Nymph) प्रमुख है।

इस प्रकार से हम देख पाते हैं कि पृथ्वी पर सबसे पहले उड़ने वाले जीव कीड़े ही थे। आज वर्तमान में अनेकों उड़ने वाले जीव पाए जाते हैं जिनको हम देखते हैं चाहे वो मक्खी हो या तितली, इन सभी के विकास का काल कई लाख साल पुराना है।

संदर्भ:
1. https://www.youtube.com/watch?v=7QMcXEj7IT0
2. अंग्रेज़ी पुस्तक: Randhawa, M.S. 1969. The Evolution of Life, Publications & Information Directorate.



RECENT POST

  • ब्रिक्स (BRICS) की कमियों और विशेषताओं को उजागर करता है कोविड -19
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-07-2020 06:46 PM


  • इंडस वैली और इसकी लैपिडरी
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:43 PM


  • शिकस्ता हस्तलिपि और उसका इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:53 PM


  • लखनऊ और चिकनी बलुई मृदा के विभिन्न उपयोग
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:36 PM


  • वह दुर्लभता जो हैली का धूमकेतु है
    खनिज

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारत के कंटीले जंगल
    जंगल

     04-07-2020 03:14 PM


  • ऐरावत अदम्य शक्ति का प्रतीक और हाथियों का देवता राजा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:06 AM


  • मुगल आभूषण और कपड़ों का निरूपण और इतिहास
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:51 AM


  • लखनऊ की कई जटिल सुगंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:17 PM


  • कितना लाभदायक साबित होगा अंतरिक्ष में खनन
    खनिज

     30-06-2020 06:50 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.