ऑफिस बैठे गरमागरम खाना, टिफिन से हुआ संभव

लखनऊ

 11-05-2018 01:45 PM
घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

'टिफ़िन' एक आंग्ल-भारतीय शब्द है जो हल्के भोजन का वर्णन करता है। माइक्रोवेव (Microwave) और फ़ास्ट-फ़ूड रेस्तरां (Fast-Food Restaurants) के पहले भारत के लोग टिफ़िन से खाना खाया करते थे। टिफ़िन में घर का बना ताज़ा खाना गरम रहता है; लोग अपने कार्यालयों में इनका आनंद लिया करते थे। परम्परागत रूप से टिफ़िन-बॉक्स में तीन या चार गोल खाने होते हैं और यह स्टेनलेस स्टील (Stainless Steel) के बने हुए होते हैं। ये सभी खाने एक के ऊपर एक रखके बांधे जाते हैं ताकि एक सुगठित टिफिन बन सके और साथ ही आसानी से संभाला ja सके। टिफिन का हर खन स्टील का बना हुआ होता है और इसके ऊपर धातु का हैंडल (Handle) लगा होता है ताकि इसे उठाने में मदद मिले।

धातु गर्मी का अच्छा परिचालक है और इसलिए खाना टिफ़िन में काफी समय तक गरम और ताज़ा रहता है, टिफ़िन में कई खन होने के कारण अलग-अलग प्रकार की खाद्य सामग्रियां रखी जा सकती हैं और इनमें एक दूसरे से मिलावट भी नहीं होती। टिफ़िन बॉक्स का वितरण भारत में सौ साल पहले अंग्रेज़ सरकार के अंतर्गत हुआ था। अंग्रेजी कार्यकर्ताओं तक खाना पहुँचाने के लिए टिफ़िन बॉक्स का वितरण किया जाने लगा और आज तक यह प्रतिक्रिया चल रही है। यह आज डब्बावाला के नाम से प्रसिद्ध है। यह डब्बेवाले गाँधी टोपी और लम्बे शर्ट पहनते हैं, यह लोग मुंबई में काफ़ी मशहूर हैं और इनकी एक अलग ही पहचान होती है। यह लोग बहुत कम रूपए में खाना पहुंचाते हैं (465 रूपए/महीने), इनके कारण आज भी यह प्रथा जीवित है।

टिफिन उठाने से लेकर उसे पहुँचाने तक की प्रक्रिया में 2 घंटे के करीब लगते हैं और उसके बाद इन टिफिनों को वापस उनके घर पहुँचाने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। इनकी ख़ास बात तो यह है कि ये लोग डब्बे को एकदम सही पते पर पहुंचा देते हैं, हर डब्बे पर एक सांख्यिक कोड रहता है जिससे कि ग्राहक का पता चलता है। इस पूरे वितरण की क्रिया को होने में मात्र 2 घंटे लगते हैं। इन डब्बेवालों के द्वारा हर दिन 2 लाख भोजन मुंबई भर में पहुँचाये जाते हैं।

1. मास प्रोडक्शन- फ़ायडॉन प्रेस



RECENT POST

  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: साड़ियाँ ने की बैंकिग संवाददाता सखियों व् बुनकरों के बीच नई पहल
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:55 AM


  • अंतरिक्ष से दिखाई देती है,भारत और पाकिस्तान के बीच मानव निर्मित सीमा
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 12:06 PM


  • भारतीय संख्या प्रणाली का वैश्विक स्तर पर योगदान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:25 AM


  • कैसे स्वचालित ट्रैफिक लाइट लखनऊ को पैदल यात्रियों के अनुकूल व् आज की तेज़ गति की सडकों को सुरक्षित बनाती
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:23 AM


  • ब्रिटिश सैनिक व् प्रशासक द्वारा लिखी पुस्तक, अवध में अंग्रेजी हुकूमत की करती खिलाफत
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:26 PM


  • पाकिस्तान, चीन की सीमाओं तक फैली हुई, काराकोरम पर्वत श्रृंखला की विशेषताएं व् प्राचीन व्याख्या
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:11 PM


  • प्राचीन भारतीय शिक्षा की वैदिक प्रणाली की प्रमुख विशेषताएं
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:03 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id