मुर्गी पालन का व्यवसाय

जौनपुर

 10-02-2018 08:46 AM
कोशिका के आधार पर

सद्भावना पुल के पास स्थित चायनीज़ की दुकाने और उनके बोर्ड जिनपर चिकन से सम्बन्धित पचासों प्रकार के पकवान और उनके भाव लिखे हैं जौनपुर जिले के पहले मुर्गे पर आधारित नाश्ताघर थें। पहले जौनपुर में मुर्गा आदि का सेवन घरों आदि स्थानों पर ही किया जाता था तथा मुर्गा परोसने वाले होटल भी कम ही थें। 2007-8 के मध्य हुये इस क्रान्ति ने यहाँ पर मुर्गा पालन में बड़ी भूमिका का निर्वहन किया। वर्तमान काल में जौनपुर जिले भर में हजारों चायनीज, व मांसाहार नाश्ताघर व होटल बनाये जा चुके हैं। यहाँ पर बड़ी संख्या में मुर्गों के माँस की माँग है जिस कारण यहाँ पर मुर्गा पालन एक बड़े व्यापार के रूप में उभर कर सामने आया है। मुर्गों में मुख्य रूप से दो प्राकार की जातियाँ पायी जाती हैं 1- ब्वायलर तथा 2- देशी। ब्वायलर मुर्गा व्यापार के आधार पर ही उत्पादित किया जाता है तथा ये मात्र 40 दिन में काटने योग्य हो जाते हैं वहीं देशी मुर्गा पालने के लिये व छोटी मात्रा में व्यापार व खाने के लिये पाले जाते हैं। देशी मुर्गे तैयार होने में करीब 2.5 महीनों का समय लेते हैं। यदि यहाँ पर स्थित मुर्गों के संख्या में देखा जाये तो कुल 3,68,674 ब्वायलर मुर्गे पाये जाते हैं। जौनपुर में कुल 10,839 देशी मुर्गे पाये जाते हैं। यहाँ पर मुर्गा पालन में फायदा बड़ी संख्या में है परन्तु यहाँ पर मुर्गी पालन व्यापार के सीमित होने का प्रमुख कारण है प्रचार के प्रति उदासीनता। सही प्रचार के जरिये यहाँ पर मुर्गीपालन का व्यापार अर्श पर पहुँच सकता है तथा यह बड़ी संख्या में रोजगार भी उपलब्ध करा सकती है। 1. सी डैप जौनपुर 2. एन इकोनॉमिक एनालिसिस ऑफ ब्रायलर प्रोडक्शन इन जौनपुर डिस्ट्रिक्ट ऑफ उत्तर प्रदेश, इंडिया, मास्टर थीसिस, आलोक कुमार सिंह, बनारस हिंदू युनिवर्सिटी



RECENT POST

  • पानी में तैरने, हवा में उड़ने, और बिल को खोदने के लिए सांपों ने किए हैं, अपने शरीर में कुछ सूक्ष्म परिवर्तन
    व्यवहारिक

     13-06-2021 11:42 AM


  • प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्ध ने दिया भारतीय स्वतंत्रता में महत्वपूर्ण योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-06-2021 11:21 AM


  • जापान के आधुनिकीकरण का मुख्य प्रतीक है. दांची शैली में बने घर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-06-2021 09:44 AM


  • पर्यावरण में अमार्जक की भूमिका निभाते गिद्धों कि वर्तमान स्थिति
    पंछीयाँ

     10-06-2021 10:04 AM


  • कला. संकट के समय एक प्रेरणा का स्रोत है
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     09-06-2021 09:59 AM


  • अपार संपदा के भण्‍डार और बहुद्देश्‍यों की पूर्ति के कारक हमारे महासागर
    समुद्र

     08-06-2021 08:41 AM


  • जैव विविधता को बनाए रखने के लिए आवश्यक है. पारिस्थितिकी तंत्र का संरक्षण
    जलवायु व ऋतु

     07-06-2021 09:35 AM


  • इस बार दिखाई देगा वलयाकार या रिंग ऑफ फायर सूर्य ग्रहण
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     06-06-2021 11:34 AM


  • 5G नेटवर्क के आगमन से कितना बदल जायेगा जीवन?
    संचार एवं संचार यन्त्र वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     05-06-2021 10:32 AM


  • जल संकट और महामारी किसानों के लिए दोहरी समस्या
    नदियाँभूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     04-06-2021 07:14 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id