क्यों सब्जियों में मटर को इतना अहम स्थान दिया जाता हैं

जौनपुर

 06-02-2018 11:28 AM
साग-सब्जियाँ

ठंड के मौसम में लज़ीज़ खानों का मजा ही कुछ और है। और हो भी क्यों नहीं। सही कहें तो खाने का मजा ठंड के मौसम में ही मिलता हैं । देश के किसी भी हिस्से में आप रहें। खाना और स्वाद हमेशा अपने आप में निराला रहा हैं । आइए हम आज आपको बताते है कि मटर सब्जियों में कितना महत्त्वपूर्ण हैं
जौनपुर में सर्दियों के मौसम में उगायी जाने वाली फसलों आलू, मटर, गेंहू आदि हैं|इनमे से मटर का महत्वपूर्ण स्थान है। इसमें न केवल प्रोटीन तत्व ज्यादा मात्रा में होते हैं बल्की इसमें विटामिन, फ़ॉस्फ़रस तथा लौह तत्व भी काफ़ी मात्रा में उपलब्ध होते हैं। देश भर में इसकी खेती व्यापारिक स्तर पर की जाती है। मटर और आलू दो ऐसी सब्जियाँ हैं जो प्रतेक सब्जियों के साथ मिला के पकाई जा सकती हैं| उत्तर भारत की पहाड़ियों में मटर की गर्मी और पतझड़ के उगायी जाती हैं ।
मटर के लिए ठंडी जलवायु की आवश्यकता होती है और गर्मी के मौसम में भारी गर्मी पड़ने पर इसकी फ़सल अच्छी नहीं होती है। यह मौसम झुर्रीदार बीज वाली क़िस्मों के लिए बिल्कुल सही नहीं हैं । जब फ़सल पर्याप्त ठंडी जलवायु में पकती है तब हरी फलियाँ की पैदावार अधिक होती है। इसके फूल और फलियां पाले से अधिक प्रभावित होती है। हालांकि पाले का प्रभाव पौधों की पत्तियों और तनों पर भी हो सकता है, बीज को उगने के लिय तापमान 5 डिग्री सेल्सियम न्यूनतम, 22 डिग्री सेल्सियम अधिकतम होना अच्छा रहता है।
यह झुर्रीदार बीज वाली क़िस्म है। पौधे बौने, हरे रंग के मजबूत और उंचाई में 35-45 से०मी० होते हैं। फूल सफेद व फलियों आकर्षक गहरे रंग की व 8 सें. मी. लंबी होती है। इनमें 7-8 गहरे रंग के मीठे दाने भरे होते हैं। बीज जब पूरी तरह पक जाते हैं तो हल्के हरे रंग के और झरियां होते हैं। बुआई के 55 से 60 दिन के बाद फलियों की पहली तुड़ाई होती है



RECENT POST

  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • सई नदी बेसिन में प्राचीन पुरातत्व स्थल उल्लेखनीय हैं
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:45 AM


  • मशक से लेकर होल्‍डॉल और वाटरप्रूफ़ बैग तक, भारत में स्वदेशी निर्माण का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 10:58 AM


  • जौनपुर के क्रांतिकारी शायर सैय्यद अहमद मुज्तबा उर्फ़ वामिक़ जौनपुरी की बेहतरीन रचनाएं
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 10:19 AM


  • दुनिया के सबसे महंगे फव्वारों में से एक है, ग्रैंड कैस्केड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:01 AM


  • वैज्ञानिक रूप से सटीक, लेकिन कलात्मक घटक से पौधे के रूप, रंग, विवरण को चित्रित करता है वानस्पतिक चित्रण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:14 AM


  • सिख समाज में अखंड पाठ की गौरव गाथा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:42 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id