जौनपुर के निकट, वाराणसी में स्थापित होगी, भारत की पहली सार्वजनिक रोपवे सेवा

जौनपुर

 29-04-2022 09:20 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

आपने बॉलीवुड के कई गानों के दौरान, उंचाई पर रोप-वे की सवारी करते और गाना गाता गाते कलाकारों को अवश्य देखा होगा! हालांकि इनमें से अधिकाशं गानों या फिल्मों को विदेशी हवाई रोपवे (foreign aerial ropeway) में फिल्माया गया है, लेकिन हमारे आम जौनपुर वासियों को भी जल्द ही ऊंचाई पर दौड़ने वाली इस शानदार सवारी का मजा लेने का मौका मिल सकता है, क्यों की भारत सरकार द्वारा जौनपुर के निकट वाराणसी में ₹400 करोड़ की लागत से शीघ्र ही हवाई रोपवे का काम शुरू होने वाला है!
रोप वे पवरिवहन के लिए प्रयोग की जाने वाली एक, सरल सस्ती लेकिन शक्तिशाली तकनीक होती है। यह तकनीक, माल ढोने और लोगों के परिवहन हेतु सबसे ऊर्जा-कुशल रूपों में से एक मानी जाती है। रोपवे निरंतर गति के सिद्धांत पर आधारित होती है। जैसे, यह एक बंद प्रणाली है जिसे अपने वजन को स्थानांतरित करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता नहीं होती है। रोपवे को केवल यांत्रिक घर्षण को दूर करने और ऊपर/नीचे की ओर असमान पे लोड को स्थानांतरित करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। रोपवे के निर्माण के लिए आमतौर पर उपयोग की जाने वाली सामग्री, सबसे पहले लकड़ी, फिर फाइबर और फिर स्टील की रस्सियाँ प्रयोग होने लगी। स्टील की रस्सियों और इलेक्ट्रिक मोटरों की शुरूआत, इस क्षेत्र में एक क्रन्तिकारी और दक्षतापूर्ण खोज साबित हुई।
1980 के दशक में पहले से ही परिवहन के लिए ऐसी हवाई प्रणालियों को बढ़ावा देने के लिए कई सम्मेलन आयोजित किए जाने लगे। हालांकि इसके बावजूद सार्वजनिक शहरी हवाई परिवहन को आशापूर्ण बढ़ावा नहीं मिल सका। 1885 और 1914 के बीच सार्वजनिक परिवहन के लिए लगभग 30 से अधिक फनिक्युलर “funicular” (एक केबल रेलमार्ग, विशेष रूप से एक पहाड़ी पर, जिसमें आरोही और अवरोही कारें असंतुलित होती हैं।) निर्मित किये गए। उदाहरण के तौर पर 1899 के दशक में फ्राइबर्ग शहर (Freiburg City) में फनिक्युलर (Funicular) का संचालन किया गया था और यह अपनी 100वीं वर्षगांठ के बाद अभी भी चल रहा है। इन सभी प्रयासों के बावजूद, सार्वजनिक रोपवे परिवहन को अब तक मामूली सफलता ही हासिल हुई है जिसका एक प्रमुख कारण, शहरी योजनाकारों में रोपवे के संदर्भ में जानकारी की कमी भी है। आधुनिक रोपवे शहरी-ग्रामीण परिवहन की सुविधा के लिए स्थापित किए जा सकते हैं। इतिहास में पीछे मुड़कर देखने पर हम पाते हैं कि पहले रोपवे का आविष्कार परिवहन के लिए किया गया था। यह मुख्य रूप से नदियों, घाटियों या पहाड़ों में माल परिवहन के आसान और सुलभ साधनों के तौर पर उभरे। आल्प्स (alps) जैसे कई गांवों में अभी भी यह बाकी दुनिया से जुड़े रहने का एकमात्र तरीका है।
दुनिया का सबसे प्रसिद्ध रोपवे इस्तांबुल में फनिक्युलर (Funicular in Istanbul) है, जो कवाटस में सबसे महत्वपूर्ण बोस्पोरस-फेरी टर्मिनलों (Bosporus-Ferry Terminals) को शहर के केंद्र में स्थित मेट्रो स्टेशन तकसीम (Taksim) से जोड़ता है। प्रति घंटे 7'500 व्यक्तियों की क्षमता के साथ, यह प्रतिदिन लगभग 30,000 लोगों को परिवहन कराता है।
यदि हम भारत में सार्वजनिक हवाई रोपवे की बात करें तो, हमारे जौनपुर के निकट स्थित वाराणसी शहर जल्द ही सार्वजनिक परिवहन के रूप में रोपवे सेवा शुरू करने वाला पहला भारतीय शहर बन जाएगा। यातायात की भीड़ को कम करने के लिए प्रस्तावित रोपवे का निर्माण कैंट रेलवे स्टेशन (वाराणसी जंक्शन) से चर्च स्क्वायर (Church Square) (गोदौलिया) के बीच किया जाएगा। यह रोपवे दोनों स्टेशनों के बीच की यात्रा को केवल 15 मिनट तक ही सीमित कर देगा।
लंबे समय से वाराणसी शहर को एक सार्वजनिक परिवहन सेवा की आवश्यकता थी। इसलिए व्यापक गतिशीलता योजना के अनुसार, यातायात में सुधार हेतु, रोपवे प्रणाली एक व्यवहार्य विकल्प मानी गई। लगभग 3.45 किमी की हवाई दूरी को कवर करने वाली, इस भावी परियोजना की लागत ₹400 करोड़ से अधिक बताई जा रही है। परियोजना की लागत को केंद्र और राज्य के बीच 80:20 पर बांटा गया है। इस रोपवे में 45 मीटर की ऊंचाई पर करीब 220 ट्रालियां दौड़ेंगी। इन ट्रॉलियों में एक बार में एक साथ लगभग 4,000 लोग एक दिशा में यात्रा कर सकेंगे। इन रोपवे के लिए कैंट रेलवे स्टेशन (Cantt Railway Station) मुख्य टर्मिनस (main terminus) होगा, तथा अन्य स्टेशन साजन तिराहा, रथयात्रा और गिरजा घर चौराहा क्रॉसिंग (crossroad crossing) होंगे। रोपवे प्रणाली को डीपीआर द्वारा मंजूरी दे दी गई है और बोली प्रक्रिया 11 दिसंबर तक पूरी हो जाएगी। सरकार की इस महत्वाकांक्षी परियोजना के 24 महीनों में पूरी होने की संभावना है।

संदर्भ
https://bit.ly/37LImgo
https://bit.ly/3vmKxji
https://bit.ly/3vKFhVT

चित्र संदर्भ
1 चित्रकूट रोपवे को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. एरियल रोपवे, क्लॉटन ब्रिकवर्क्स को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. एक पुराने रोपवे को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
4. शहर के ऊपर रोपवे को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • शरीर पर घने बालों के साथ भयानक ताकत और स्वभाव वाले माने जाते थे गोरिल्ला
    शारीरिक

     26-06-2022 10:13 AM


  • सिकुड़ते प्राकृतिक आवासों के बीच, गैर बर्फीले क्षेत्रों के अनुकूलित हो रहे हैं, ध्रुवीय भालू
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:58 AM


  • क्या वास्तव में फ्रोज़न खाद्य पदार्थ की बढ़ती लोकप्रियता ने बदल दिया है भारतीय खाद्य उद्योग को?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:52 AM


  • सामाजिक व् राजनीतिक अन्याय के विरोध का रचनात्मक, शक्तिशाली रूप है, हिप-हॉप या रैप संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:39 AM


  • पश्चिमी देशों में योग की लोकप्रियता का श्रेय किसे जाता है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     22-06-2022 10:25 AM


  • हथियारों के रूप में कीड़ों का उपयोग
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 10:02 AM


  • क्यों युवा पीढ़ी कर रहे हैं समाचार पढ़ने से परहेज
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 09:02 AM


  • पानी वाली भैंस और गैंडे के बीच संघर्ष को दिखाता वीडियो
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:17 PM


  • पश्चिमी सभ्यता में मस्तिष्क की धारणा एवं मनोदशा बदलने वाला शक्तिशाली मनो सक्रिय पदार्थ साइकेडेलिक
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:06 AM


  • दुनिया भर में पक्षियों की आबादी में गंभीर रूप से गिरावट को देखा जा रहा है
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:16 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id