Post Viewership from Post Date to 17-Apr-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
350 33 383

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

दुगनी तेजी से पिघल रहे हैं हिमालय के ग्लेशियर या हिमखंड

जौनपुर

 12-04-2022 09:55 AM
नदियाँ

जलवायु परिवर्तन ने, न केवल हमारे शहरों में गर्मी को असहनीय स्तर तक बढ़ा दिया है, बल्कि सुदूर पहाड़ों में भी इसके गंभीर परिणाम सामने आ रहे हैं! जहां हजारों वर्षों से जमे हिमखंड या ग्लेशियर अभूतपूर्व तेज़ी के साथ पिघल रहे हैं। दरअसल ग्लेशियर (Glacier) बर्फ़ से ढका हुआ बहुत बड़ा हिमालयी क्षेत्र होता है, जिसे हिमखंड या हिमनद भी कहते हैं। इन हिमखंडों से पानी बहुत धीमी गति से लेकिन निरंतर बहता रहता है। यह ऐसे स्थानों में बनते हैं, जहां बर्फ गिरती रहती है, लेकिन पिघल नहीं पाती! ग्लेशियर पानी के जलाशय के रूप में कार्य करते हैं, और गर्मियों के दौरान पानी की आपूर्ति करते रहते हैं। ग्लेशियरों से लगातार पिघलने वाली बर्फ से, गर्मियों के महीनों में पारिस्थितिकी तंत्र में पानी की आपूर्ति होती रहती है, जिससे बारहमासी धारा निवास, पौधों और जानवरों के लिए जल स्रोत बन जाते है। हिमनदों से निकलने वाला ठंडा अपवाह नीचे के पानी के तापमान को भी प्रभावित करता है। पहाड़ी वातावरण में कई जलीय प्रजातियों को जीवित रहने के लिए पानी के ठंडे तापमान की आवश्यकता होती है। कुछ जलीय कीड़े विशेष रूप से धारा के तापमान के प्रति संवेदनशील होते हैं और ग्लेशियर पिघले पानी के शीतलन प्रभाव (cooling effect) के बिना जीवित नहीं रह सकते हैं। पृथ्वी के कुल जल का लगभग 2.1% हिस्सा हिमनदों में जमा है। पृथ्वी के मीठे पानी का लगभग तीन-चौथाई हिस्सा ग्लेशियरों में जमा है। दुर्भाग्य से पिछली एक सदी में ही जलवायु परिवर्तन के कारण पृथ्वी के तापमान में इतनी तेज़ी से वृद्धि हुई है की इन ग्लेशियरों के अस्तित्व पर ही खतरा मंडराने लगा है! तापमान बढ़ने और जलवायु परिवर्तन से दुनिया भर में हिमालयी क्षेत्र के अधिकांश ग्लेशियर पिघल रहे हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि, यह घटना देश के नौ प्रमुख ग्लेशियरों में देखी जा रही है, जो अलग-अलग दरों में तेज़ी से पिघल रहे हैं। भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण, वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी, नेशनल सेंटर फॉर पोलर एंड ओशन रिसर्च, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी, स्पेस एप्लीकेशन सेंटर और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (Geological Survey of India, Wadia Institute of Himalayan Geology, National Center for Polar and Ocean Research, National Institute of Hydrology, Space Applications Center and Indian Institute of Science) के नेतृत्व में किए गए अध्ययनों में पाया गया की हिमालय के ग्लेशियरों में अभूतपूर्व विषम द्रव्यमान हानि (anomalous mass loss) देखी गई है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अनुसार हिंदू कुश हिमालय के ग्लेशियरों के पिघलने की औसत दर 14.9-15.1 मीटर प्रति वर्ष , सिंधु में 12.7-13.2 मीटर प्रति वर्ष, गंगा में 15.5-14.4 मीटर प्रति वर्ष और ब्रह्मपुत्र नदी घाटियों में 20.2-19.7 मीटर प्रति वर्ष है। 2019 के एक अध्ययन के अनुसार, 21वीं सदी की शुरुआत के बाद से हिमालय के ग्लेशियरों का पिघलना दोगुना हो गया है। जो की संभावित रूप से भारत सहित विभिन्न देशों में रहने वाले , करोड़ों लोगों के लिए पानी की आपूर्ति को बाधित करने वाला एक बड़ा खतरा है। भारत, चीन, नेपाल और भूटान में 40 वर्षों के उपग्रह अवलोकनों के विश्लेषण से संकेत मिलता है कि, जलवायु परिवर्तन हिमालय के ग्लेशियरों को खा रहा है। जून 2019 में साइंस एडवांसेज (Science Advances) नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन से पता चलता है कि, ग्लेशियर वर्ष 2000 से हर साल आधे से अधिक बर्फ को खो रहे हैं , जो 1975 से 2000 तक पिघलने की मात्रा से दोगुनी दर है। लगभग 800 मिलियन लोग सिंचाई, जल विद्युत और पीने के पानी के लिए हिमालय के ग्लेशियरों से मौसमी अपवाह (seasonal runoff) पर निर्भर हैं। लेकिन वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह आनेवाले दशकों के भीतर काफी कम हो जाएगा, क्योंकि ग्लेशियर बड़े पैमाने पर अपना अस्तित्व खो देंगे। इससे अंततः पानी की भारी कमी हो जाएगी। ग्लेशियरों को अक्सर दुनिया के "वाटर टावर्स (Water Towers)" के रूप में जाना जाता है, जिसमें आधी मानवता अपनी पानी की जरूरतों के लिए इन पहाड़ों पर निर्भर करती है। अकेले तिब्बती पठार एशिया की 10 सबसे बड़ी नदियों का स्रोत है, और 1.35 अरब लोगों, या दुनिया की 20 प्रतिशत आबादी को पानी प्रदान करते है। हिमालय में ग्लेशियरों का पिघलना, चिंता का एक प्रमुख कारण इसलिए भी है, क्योंकि इससे इन ग्लेशियरों पर निर्भर नदियों के लिए पानी की आपूर्ति पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा। ग्लेशियर झीलों की संख्या और मात्रा में वृद्धि के कारण ग्लेशियर के खतरों से संबंधित जोखिम में वृद्धि, त्वरित बाढ़ और ग्लेशियल झील के फटने से बाढ़, जबकि उच्च हिमालयी क्षेत्र में कृषि प्रथाओं पर भी प्रभाव पड़ सकता है। इसके दुष्परिणाम आज से ही सामने आने लगे हैं। हिमालयी राज्य उत्तराखंड में पिछले साल एक ग्लेशियर के टूटने और घाटी में गिरने के कारण भयानक बाढ़ आई थी, जिससे पानी का बहाव नीचे की ओर बढ़ गया था, तथा इसने एक जलविद्युत संयंत्र सहित गांवों और श्रमिकों को भी अपनी चपेट में ले लिया था। आंकड़े बताते हैं कि आने वाले वर्षों में, ग्लोबल वार्मिंग के कारण पर्वतों का तापमान वैश्विक औसत से दोगुनी तेजी के साथ बढ़ेगा, जिससे ग्लेशियर और अधिक तेज़ी के साथ पिघलेंगे तथा हिमालय और आगे के क्षेत्रों में समुदायों के लिए बड़ा खतरा उत्पन्न हो सकता है।

संदर्भ
https://on.doi.gov/37unmu3
https://bit.ly/3O1gy88
https://bit.ly/3xg6Rwt
https://bit.ly/3jqSMEc
चित्र संदर्भ
1. ब्रिक्सडल्सब्रीन (द ब्रिक्सडल ग्लेशियर) के दो दृश्य लगभग एक ही स्थान से लिए गए हैं। बाईं ओर की तस्वीर जुलाई के अंत में वर्ष 2003 में ली गई है और दाईं ओर दूसरी तस्वीर 4 अगस्त 2008 को ली गई है। ग्लेशियर कम हो गया है जबकि नीचे की झील बढ़ गई है। जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. हिमालय श्वेता ग्लेशियर से कालिंदी बेस उत्तराखंड को दर्शाता एक अन्य चित्रण (wikimedia)
3. ग्लेशियर से निकलते हुए पानी को दर्शाता एक अन्य चित्रण (pixabay)
4. 1987 से 2003 तक बोल्डर ग्लेशियर 450 मीटर (1,480 फीट) पीछे हट गया, जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • अब आप ऑनलाइन एक क्लिक पर ही जान पाएंगे भारतीय कला के संपूर्ण इतिहास को
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     06-07-2022 09:36 AM


  • क्यों भारत सहित पूरा दक्षिण एशिया बन रहा है भीषण गर्मी का शिकार
    जलवायु व ऋतु

     05-07-2022 10:12 AM


  • अंतरिक्ष में कैसे उग रही है बिना मिट्टी की ताज़ा और पौष्टिक सब्जियां ?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:06 AM


  • 8वीं शताब्दी की भव्य बौद्ध संरचना है, इंडोनेशिया में स्थित बोरोबुदुर मंदिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 11:01 AM


  • कैसे उठें मौत के खौफ से ऊपर ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:10 AM


  • जगन्नाथ रथ पर्व के अवसर पर जानिए जगन्नाथ पुरी के रथों की उल्लेखनीय निर्माण प्रक्रिया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:29 AM


  • पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड की प्राकृतिक सुंदरता व नागा जनजातियों की विविध जीवनशैली का दर्शन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:40 AM


  • कोविड सहित मंकीपॉक्स रोग के दोहरे बोझ से बचने के लिए जरूरी उपाय करना आवश्यक है
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:22 AM


  • शानदार शर्की वास्तुकला की गवाही देती हैं, अटाला सहित जौनपुर की अन्य खूबसूरत मस्जिदें
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:21 AM


  • फैशन जगत में अपना एक नया स्‍थान बना रहा है मछली का चमड़ा
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:29 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id