नर्सों Nurses का स्वस्थ्य क्षेत्र में बहुमूल्य योगदान

जौनपुर

 17-05-2021 07:51 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

>भारत में नर्सिंग (nursing) के माध्यम से स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता में सुधार किया जा सकता है | राष्ट्र में रोगी परिवारों और समुदायों के लिए देखभाल नर्सों(nurses) के माधयम से किया जाता है | ये स्वास्थ्य क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं |
इतिहास बताता है कि भारत में नर्सिंग के सिद्धांत और व्यवहार प्राचीन हैं। 20 वीं शताब्दी से पहले भारतीय नर्सें आमतौर पर युवा पुरुष थे जिनमें महिलाएं प्रसव के दौरान सहायता के लिए दाइयों के रूप में काम करती थीं। भारत में एक पेशे के रूप में नर्सिंग की स्वीकृति छात्रों की शिक्षा की अच्छी गुणवत्ता और नैदानिक प्रदर्शन के साथ बहुत बेहतर है। अधिकांश भारतीय नर्सें ऑस्ट्रेलिया,कनाडा,संयुक्त राज्य अमेरिका,ब्रिटेन आदि देशों में बेहतर वेतन और काम करने की स्थिति में कदम रखती हैं |
नर्सों और अर्धसैनिक कर्मचारियों के महत्व और आवश्यकता को दुनिया में कभी महसूस नहीं किया गया है, जितना कि इस कोरोना महामारी संकट के समय हो रहा है। ऐसे दो देश हैं जिन्होंने अन्य देशों की तुलना में दुनिया भर में अधिक नर्सों का निर्यात किया है - भारत (ज्यादातर केरेला राज्य) और फिलीपींस (Phillipines)। लेकिन भारत के पास विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार जनसँख्या के अनुपात में काफी कम संख्या में नर्सें है साथ ही यह भी बिल्कुल स्पष्ट है कि नर्सों के महत्वपूर्ण पेशे की सराहना भारत में नहीं की गई है - न ही केरेल में ! विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा केरेल सहित भारत के अधिकांश राज्यों में प्रशिक्षित और अनुभवी नर्सों के लिए खराब वेतन का जिक्र है। हाल के वर्षों में नर्स ट्रेड यूनियन (nurse trade union) नर्सों के वेतन को ठीक करने के लिए आए हैं, लेकिन चिकित्सक बनाम नर्सों के वेतन के बीच भारी असमानताएं मौजूद हैं। भारत में भी अन्य देशों के विपरीत कानून प्रशिक्षित और अच्छी तरह से अनुभवी नर्सों को चिकित्सक की कुछ गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति नहीं देता है। ऐतिहासिक रूप से यह ध्यान रखना दिलचस्प है कि केरल और भारत के अन्य हिस्सों में नर्स प्रशिक्षण की नींव प्रसिद्ध मिशनरी ,फ्लोरेंस नाइटेंगल (Florence Nightingale) सहित कई ईसाई मिशनरी द्वारा ब्रिटिश राज दिनों में की गई थी, और 1905 में लखनऊ में उल्लेखनीय पहले नर्स अधीक्षकों की स्थापना की गई थी | अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस हर साल 12 मई को मनाया जाता है |
भारत में प्रति 1,000 जनसंख्या पर 1.7 नर्स हैं, जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक से 43% कम है (3 प्रति 1,000)। इसमें नर्स, दाई, महिला स्वास्थ्य आगंतुक और सहायक नर्स शामिल हैं। सरकार ने 3 मार्च 2020 को राज्यसभा को बताया की कुल मिलाकर भारत में 30 लाख 7 हज़ार पंजीकृत नर्सिंग कर्मी हैं |
भारतीय नर्सिंग परिषद और विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक इंडियास्पेंड(indiaspend) विश्लेषण के अनुसार भारत में 19 लाख 40 हज़ार नर्सों की कमी है। विशेषज्ञों ने नर्सों की तीव्र कमी का मुख्य कारण कम भर्ती,प्रवासन, कम आकर्षण और बीच में काम छोड़ देना ।
नर्सिंग एक पेशे के रूप में मिशनरियों और ईसाई धर्म में लोकप्रिय है। केरल में एक महत्वपूर्ण ईसाई आबादी होने के साथ इस पेशे की लोकप्रियता में कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए।केरल में महिलाओं को देश के कई अन्य स्थानों की तुलना में काम करने की अधिक स्वतंत्रता है।केरल में न तो कई उद्योग हैं और न ही कई रोजगार हैं। इसलिए नर्सिंग लोगों को सभी मौसम के कार्य के लिए प्रेरित करता है।
अभियांत्रिकी और चिकित्सा शिक्षा बहुत महंगी थी जिससे नर्सिंग शिक्षा सबसे अच्छा विकल्प था और वहाँ एक बुनियादी ढाँचा (2000 के दशक के पूर्व) मौजूद था। नर्सिंग भी एक बहुत ही विवादास्पद पेशा था और इसमें सम्मान से जुड़ी एक हवा थी। आप लोगों की सेवा और देखभाल कर रहे हैं। यह परमेश्वर के कार्य के समान है। इस प्रकार महिलाओं के लिए आदर्श माना जाता है।
नौकरियों की कमी और नर्सिंग क्षेत्र में सफल लोगो को देखने के बाद लोग इससे जुड़ने के लिए प्रेरित हो रहे हैं। इससे अधिक से अधिक नर्सिंग शिक्षण संस्थान खुलने लगे और चक्रीय स्थिति विकसित हुई। विदेश जाने के लिए नर्सिंग सबसे आसान और कानूनी तरीकों में से एक साबित हुआ। कमाई की संभावना और साथ ही विदेश जाने में शामिल आकांक्षात्मक कारक एक बड़ा चुंबक साबित हुआ।

अंतर्राष्ट्रीय प्रवास एक लक्षण है यहां तक कि बड़ी प्रणालीगत समस्याओं का एक अतिशयोक्ति भी है जो नर्सों को अपनी नौकरी छोड़ने पर मजबूर कर देते है और कभी-कभी स्वास्थ्य क्षेत्र तक छोड़ देते हैं । आकड़े स्पष्ट रूप से दिखाते हैं कि गंतव्य देश कितना आकर्षक लगता है: थोड़ा प्रवास पर्याप्त कारकों के बिना होता है | प्रवासन अक्सर एक व्यक्ति का निर्णय होता है जो कार्यस्थल या व्यापक समाज में अनुभवी बाधाओं के कारण होता है। नर्सों के प्रवासन को सामाजिक ताकतों के एक नक्षत्र द्वारा धकेला और आकार दिया जाता है और कई हितधारकों द्वारा किए गए विकल्पों की एक श्रृंखला द्वारा निर्धारित किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय गतिशीलता एक वैश्वीकृत दुनिया में एक वास्तविकता है जिसे अस्तित्व से बाहर विनियमित नहीं किया जाएगा। यह केवल कमी या प्रवासी शोषण और दुरुपयोग के संदर्भ में एक मुद्दा बन जाता है। यदि दक्षिण-उत्तरी प्रवास को कम करना है तो प्रवाह को रोकने के बजाय प्रवास करने की आवश्यकता को संबोधित किया जाना चाहिए। यदि प्रवासी शोषण को समाप्त करना है तो भर्ती प्रक्रिया (भर्ती संस्थाओ सहित) को विनियमित किया जाना चाहिए और श्रमिकों के अधिकारों को बरकरार रखा जाना चाहिए।
दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवाओं में पर्याप्त संख्या में नर्सों को सुनिश्चित करने की चुनौती तभी पूरी होगी जब अवधारणा के मुद्दों पर गंभीरता से ध्यान दिया जाए जैसे समान अवसर, वेतनमान और स्वास्थ्य क्षेत्र की कार्य स्थितियों में महत्वपूर्ण सुधार किया जायेगा । जब तक उन्हें संबोधित नहीं किया जाता है प्रतिधारण समस्याएं प्रशिक्षण और भर्ती प्रयासों में अड़चन करना जारी रखेंगी। जब तक घरेलू शिक्षित कर्मचारियों के साथ-साथ प्रवासी को आकर्षित करने और बनाए रखने में सक्षम वव्यवस्था नहीं होगी हैं तब तक राष्ट्रीय आबादी की बढ़ती स्वास्थ्य आवश्यकताओं को पूरा करने की संभावना नहीं है।

संदर्भ
https://bit.ly/3yoZvVR
https://bit.ly/3w9tDlP
https://bit.ly/3tRUYrl
https://bit.ly/3u1g2Mh
चित्र संदर्भ
1. तापमान जांचती नर्स का एक चित्रण (flickr)
2. मरीज का निरिक्षण करती नर्सों का एक चित्रण (unsplash)
3. मैदान में खड़ी नर्स का एक चित्रण (unsplash)



RECENT POST

  • भारत से जुड़ी हुई समुद्री लुटेरों की दास्तान
    समुद्र

     03-12-2021 07:46 PM


  • किसी भी भाषा में मुहावरें आमतौर पर जीवन के वास्तविक तथ्यों को साबित करती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 10:42 AM


  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id