अमेरिकी वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं द्वारा खींची गयी थी, अंतरिक्ष से पहली तस्वीरें

जौनपुर

 06-12-2020 11:02 AM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना
भले ही, एक उपग्रह को पहली बार कक्षा में सोवियत (Soviets) द्वारा लॉन्च (Launch) किया गया था, लेकिन न्यू मैक्सिको (New Mexico) में अमेरिका (America) के वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं द्वारा अंतरिक्ष से पहली तस्वीरें खींचीं गयी थी। व्हाइट सैंड्स मिसाइल रेंज (White Sands Missile Range) में सैनिकों और वैज्ञानिकों ने V-2 मिसाइल को लॉन्च किया, जिस पर 35-मिलीमीटर मोशन पिक्चर कैमरा (Motion Picture Camera) लगाया गया था। इस कैमरे ने अंतरिक्ष से पृथ्वी की पहली तस्वीरें खींची। इन छवियों को बाह्य अंतरिक्ष के स्वीकृत प्रारंभ के ठीक ऊपर, 65 मील की ऊंचाई से लिया गया था। ये छवियां क्रैश लैंडिंग (Crash Landing) से बच गई, क्यों कि, इन्हें स्टील कैसेट (Steel Cassette) में संलग्न किया गया था। इस उपलब्धि ने पृथ्वी की वक्रता के पहले अवलोकन को चिन्हित नहीं किया था। 1935 में, एक्सप्लोरर II बैलून (Explorer II Balloon), 13.7 मील की ऊँचाई पर पहुँचा और इसने गोलाकार क्षितिज का अवलोकन किया। 11 साल बाद, V-2 मिसाइल ने पृथ्वी की पहली तस्वीरें खींची। पृथ्वी की पहली तस्वीर 24 अक्टूबर 1946 को खींची गयी थी, और शायद आपको विश्वास नहीं होगा कि, उस तस्वीर को खींचने के लिए किस चीज का प्रयोग किया गया था? यह तस्वीर अंतरिक्ष यान में मौजूद अंतरिक्ष प्रोब (Probe), उपग्रह या अंतरिक्ष यात्री द्वारा नहीं खींची गयी थी। इसे एक नाजी (Nazi) मिसाइल द्वारा खींचा गया था। यह मिसाइल एक कुख्यात वेजिआंस वेपन-2 (Vengeance Weapon 2 - V-2) थी, जिसे नाज़ियों ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान विकसित किया था और अपने प्राथमिक प्रतिद्वंद्वी, अंग्रेजों पर उपयोग किया था। हालांकि, जब वे हार गये थे, तब भी उनके पास अन्य मिसाइलें मौजूद थीं, जिनका उपयोग नहीं किया गया था। अमेरिकी सेना ने उन मिसाइलों को न्यू मैक्सिको में व्हाइट सैंड्स मिसाइल रेंज में पहुंचाया, जहां कुछ शोधकर्ताओं ने अंतरिक्ष की पहली तस्वीर खींचने के लिए, उनमें से एक में कैमरा लगाया। तस्वीर ब्लैक-एंड-व्हाइट (Black-and-White) थी, जिसने अंधेरे अंतरिक्ष के विरुद्ध सफेद बादलों के कुछ चिन्हों के साथ पृथ्वी के एक हिस्से को प्रदर्शित किया।

संदर्भ:
https://www.youtube.com/watch?v=BLSR1wdtGcM
https://www.youtube.com/watch?v=iFTC8oy3OpQ


RECENT POST

  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM


  • दुनिया भर में साम्प्रदायिक एकता की मिसाल पेश करते हैं गुरूद्वारे
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-07-2021 10:44 AM


  • दर्शनशास्त्र के केंद्रीय विषयों में से एक ‘सत्य’ वास्तव में क्या है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-07-2021 09:44 AM


  • पारलौकिक लाभ पाने के लिए प्रिय वस्तुओं को समर्पित करना है बलिदान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-07-2021 10:17 AM


  • अलग प्रभाव है महामारी का वाइट और ब्लू कालर श्रमिकों पर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 06:12 PM


  • सौ साल पुराने बनारस को दर्शाते हैं, 1920 और 1930 के दशक के कुछ दुर्लभ वीडियो
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 01:55 PM


  • गुप्त काल अर्थात भारत के स्वर्णिम युग की दुर्लभ विष्णु मूर्तियाँ और छवियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-07-2021 10:15 AM


  • जौनपुर के कुतुबन सुहरावर्दी की प्रसिद्ध रचना मृगावती ने सूफ़ी काव्यों के लिए आधारभूमि तैयार की
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-07-2021 09:48 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id