भारत में समारोहों में पटाखों का इतिहास

जौनपुर

 14-11-2020 03:36 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

प्रत्येक वर्ष अक्टूबर और नवंबर के आसपास, दुनिया भर के हिन्दू दीपावली का त्यौहार बड़े धूम धाम से मनाते हैं। 2500 से अधिक वर्ष पुराने रोशनी का यह त्यौहार प्राचीन भारत में फसल के त्योहारों का एक संलयन है, इसका उल्लेख संस्कृत ग्रंथों जैसे कि पद्म पुराण, स्कंद पुराण दोनों में मिलता है, जो कि प्रथम सहस्राब्दी ईस्वी के दूसरे भाग में पूरा हुआ था। स्कंद किशोर पुराण में दीपकों का उल्लेख सूर्य के कुछ हिस्सों के प्रतीक के रूप में किया गया है, जो इसे सभी जीवन और प्रकाश के ऊर्जा के ब्रह्मांडीय दाता के रूप में वर्णित करते हैं और यह कार्तिक के हिंदू पंचांग महीने में मौसमी परिवर्तन को भी संदर्भित करता है। 7वीं शताब्दी के संस्कृत नाटक नागानंद में (जिस में दीपक जलाए गए और नव विवाहित वर और वधू को उपहार भेंट की गई), दीपप्रतिपदोत्सव के रूप में राजा हर्ष दीपावली को संदर्भित करते हैं।

राजशेखर ने अपनी 9वीं शताब्दी के काव्यमीमांसा में दीपमलिक के रूप में दीपावली का उल्लेख किया, जिसमें उन्होंने घरों को रंगने और रात में घरों, गलियों और बाजारों में तेल के दीपक सजाए जाने की परंपरा का उल्लेख किया है। भारत के बाहर के कई यात्रियों द्वारा भी दिवाली का वर्णन किया गया था। वहीं भारत पर अपने 11वीं शताब्दी के संस्मरण में, फारसी यात्री और इतिहासकार अल बिरूनी द्वारा दीपावली को हिंदुओं द्वारा कार्तिक महीने में अमावस्या के दिन मनाए जाने के बारे में लिखा गया था। वेनिस (Venice) के व्यापारी और यात्री निकोलो डे' कोंटी (Niccolò de' Conti) ने 15वीं शताब्दी की शुरुआत में भारत का दौरा किया और अपने संस्मरण में लिखा, "इन त्योहारों में से एक पर वे अपने मंदिरों के भीतर, और छतों के बाहर एक असंख्य संख्या में तेल के दीपक लगाते हैं। जो दिन-रात जलते रहते हैं और इस दिन परिवार के सभी सदस्य इकट्टे होते हैं, नए वस्त्र धरण करते हैं और त्यौहार को मनाते हैं।
भारत भर में कई स्थलों में खोजे गए पत्थर और तांबे के संस्कृत शिलालेखों में दीपावली का उल्लेख कभी-कभी दीपोत्सव, दीपावली, दिवाली और दिवालगी जैसे शब्दों के साथ किया गया है। उदाहरणों में कृष्ण तृतीय (939–967 CE) के 10वीं शताब्दी के राष्ट्रकूट साम्राज्य के तांबे के शिलालेख में दीपोत्सव का उल्लेख है, और कर्नाटक में धारवाड़ के इस्वर मंदिर में 12वीं शताब्दी के मिश्रित संस्कृत-कन्नड़ सिंध शिलालेख की खोज की गई है, जहां शिलालेख उत्सव को "पवित्र अवसर" के रूप में संदर्भित करता है। लोरेंज फ्रांज किल्हॉर्न (Lorenz Franz Kielhorn) (एक जर्मन इंडोलॉजिस्ट जो कई इंडिक शिलालेखों का अनुवाद करने के लिए जाने जाते हैं) के अनुसार, इस त्यौहार का उल्लेख 13वीं शताब्दी के केरल हिंदू राजा रविवर्मन समागमधिरा के रंगनाथ मंदिर संस्कृत श्लोक 6 और 7 में दीपोत्सवम के रूप में किया गया है। देवनागरी लिपि में लिखा गया एक और 13वीं शताब्दी का संस्कृत पाषाण शिलालेख, राजस्थान के जालोर में एक मस्जिद के स्तंभ के उत्तरी छोर में पाया गया है, राजस्थान में स्पष्ट रूप से एक ध्वस्त जैन मंदिर से सामग्री का उपयोग करके बनाया गया है। इस शिलालेख में बताया गया कि दीपावली पर, रामचंद्रचार्य ने एक स्वर्ण कपोला के साथ एक नाटक प्रदर्शन कक्ष का निर्माण किया। दीपावली के बारे में विभिन्न धर्मों में विभिन्न कथाएं मौजूद हैं, जैसे उत्तरी भारत में हिन्दू धर्म में यह मान्यता है कि त्रेता युग में इस दिन भगवान राम 14 वर्ष के वनवास और रावण का वध करके अयोध्या लौटे थे। इसी खुशी में अयोध्यावासियों ने समूची नगरी को दीपों के प्रकाश से जगमग कर जश्न मनाया था और इस तरह तभी से दीपावली का पर्व मनाया जाने लगा। वहीं दक्षिणी भारत में एक लोकप्रिय कथा के अनुसार, द्वापर युग काल में, भगवान विष्णु ने कृष्ण के अवतार में दानव नरकासुर (जो वर्तमान असम के निकट प्रागज्योतिषपुरा का दुष्ट राजा था) का वध किया था और नरकासुर से 16,000 लड़कियों को मुक्त कराया था। दिवाली से एक दिन पहले को नरक चतुर्दशी के रूप में याद किया जाता है, जिस दिन भगवान कृष्ण द्वारा नरकासुर का वध किया गया था। बौद्ध, जैन धर्म और सिख धर्म जैसे अन्य धर्म अपने इतिहास में महत्वपूर्ण घटनाओं को चिह्नित करने के लिए दिवाली का त्यौहार मनाते हैं।
दिवाली के त्यौहार को घर को सजा के नए वस्त्र पहनकर ढेर सारे मिष्ठान और पटाके जलाकर धूम धाम से मनाया जाता है। दिवाली समारोह का एक प्रमुख हिस्सा बने पटाखे दरसल चीन में उत्पन्न हुए थे और ये व्यापार और सैन्य संपर्क के माध्यम से भारत में लाए गए थे। भारत में पटाखों के सबसे पुराने प्रमाण मुगलकाल के हैं। कुछ इतिहासकारों ने बताया है कि पटाखे बनाने के लिए प्रयुक्त सामग्री का ज्ञान भारत में 300 ईसा पूर्व तक मौजूद था। आतिशबाजी के प्रदर्शन के लिए इस्तेमाल किए जा रहे बारूद के पहले साक्ष्य 700 ईस्वी के दौरान चीन में तांग राजवंश से मिलते हैं। चीनियों का मानना था कि बांस की नली के अंदर इस्तेमाल होने वाले बारूद से पैदा होने वाली आवाज बुरी आत्माओं को दूर रखती है। इसलिए, आतिशबाजी के लिए बारूद का उपयोग विशेष रूप से चीनी समारोहों में आम बात थी। भारत में, पटाखों का उपयोग दिवाली जैसे हिंदू त्योहारों तक ही सीमित नहीं था, बल्कि मुस्लिम त्यौहार शब-ए-बारात में भी इसका उपयोग किया जाता है।

भव्य समारोहों में आतिशबाजी के उपयोग को 15वीं शताब्दी से प्राप्त बड़ी संख्या में मुगल चित्रों के प्रमाण में देखा जा सकता है। उदाहरण के लिए, मुगल राजकुमार दारा शिकोह की शादी को दर्शाने वाली 1633 की चित्रकारी। 1953 में, एक इतिहासकार और भंडारकर ओरिएंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट (Oriental Research Institute) के पहले क्यूरेटर (Curator), पीके गोड़े ने 1400 और 1900 ईस्वी के बीच भारत में पटाखों का इतिहास लिखा था। ये सभी प्रमाण उस समय पटाखों की व्यापक उपलब्धता को इंगित करते हैं। भारत में पहला पटाखा कारखाना 19वीं शताब्दी में कोलकाता में स्थापित किया गया था। आजादी के बाद, तमिलनाडु में शिवकाशी, पटाखों के आयात के प्रतिबंध से लाभान्वित होने के कारण, भारत का पटाखा केंद्र बन गया।
हाल ही में, भारत सरकार ने पर्यावरण संबंधी चिंताओं का हवाला देते हुए, दिवाली के दौरान पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस फैसले से भारत में कई लोग काफी निराश हुए हैं, जैसे ट्विटर (Twitter) पर, कई लोगों ने ट्वीट किया है कि आतिशबाजी के बिना दिवाली क्रिसमस के पेड़ के बिना क्रिसमस की तरह है। लेकिन यदि देखा जाएं तो भारत में बढ़ रहा हवा प्रदूषण भी एक चिंता का विषय बना हुआ है, क्योंकि वर्तमान समय में हमारे द्वारा पटाखे सामान्य से कई अधिक मात्रा में जलाए जा रहे हैं और इससे लोगों के स्वस्थ्य और पर्यावरण और अन्य जीवों में काफी हानिकारक प्रभाव पड़ता है। वहीं हिंदू धर्म दूसरों की भलाई करने और अहिंसा को बढ़ावा देता है, इसलिए यह हमारा कर्तव्य है कि हम पर्यावरण के बारे में सोचते हुए स्वयं से ही कम से कम पटाखे जलाएं।

संदर्भ :-
https://en.wikipedia.org/wiki/Diwali#Epigraphy
https://www.history.com/news/the-ancient-origins-of-indias-biggest-holiday
https://www.theheritagelab.in/paintings-diwali-history-firecrackers-india/
https://indianexpress.com/article/research/a-crackling-history-of-fireworks-in-india-4890178/
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि 18वीं शताब्दी के दौरान दीपावली समारोह को दर्शाती है।(SrlCC)
दूसरी छवि में ज़नाना दृश्य आतिशबाजी के साथ दिखाया गया है। मुगल वंश, 17वीं शताब्दी।(shuttershock)
तीसरी छवि में कृष्ण और राधा को एक दावत और आतिशबाजी का आनंद लेते हुए दिखाया गया है। राजस्थान, किशनगढ़, 19वीं सदी की शुरुआत में।(theheritage)


RECENT POST

  • सिकुड़ते प्राकृतिक आवासों के बीच, गैर बर्फीले क्षेत्रों के अनुकूलित हो रहे हैं, ध्रुवीय भालू
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:58 AM


  • क्या वास्तव में फ्रोज़न खाद्य पदार्थ की बढ़ती लोकप्रियता ने बदल दिया है भारतीय खाद्य उद्योग को?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:52 AM


  • सामाजिक व् राजनीतिक अन्याय के विरोध का रचनात्मक, शक्तिशाली रूप है, हिप-हॉप या रैप संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:39 AM


  • पश्चिमी देशों में योग की लोकप्रियता का श्रेय किसे जाता है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     22-06-2022 10:25 AM


  • हथियारों के रूप में कीड़ों का उपयोग
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 10:02 AM


  • क्यों युवा पीढ़ी कर रहे हैं समाचार पढ़ने से परहेज
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 09:02 AM


  • पानी वाली भैंस और गैंडे के बीच संघर्ष को दिखाता वीडियो
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:17 PM


  • पश्चिमी सभ्यता में मस्तिष्क की धारणा एवं मनोदशा बदलने वाला शक्तिशाली मनो सक्रिय पदार्थ साइकेडेलिक
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:06 AM


  • दुनिया भर में पक्षियों की आबादी में गंभीर रूप से गिरावट को देखा जा रहा है
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:16 AM


  • काशी से हिमाचल की पहाड़ी और हिंद महासागर तक फैली है, शक्तिपीठों की दिव्यता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     16-06-2022 08:54 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id