कोरोनावायरस से जंग में खगोल वैज्ञानिकों की भूमिका

जौनपुर

 09-11-2020 09:01 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

भारत में, जब काले आकाश में चमकते सितारों को देखने की बात आती है, तो कोरोनावायरस लॉकडाउन के प्रमाणस्वरूप आई वायु और प्रकाश प्रदूषण में गिरावट से आकाश में चमकते सितारों को देखना पहले की अपेक्षा बहुत आसान हो गया है। तारे, जो पहले काले आकाश की तुलना में केवल आठ गुना चमकीले थे, वे अब कम से कम 13 गुना चमकीले हो गए हैं। अपनी दूरबीनों की मदद से हम अब उन सितारों का निरीक्षण कर सकते हैं जो पहले कम से कम तीन गुना कम चमकीले थे। उदाहरण के लिए यूरोपियन स्पेस एजेंसी (European Space Agency-ESA) ने नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (Nitrogen dioxide-NO2) के स्तर में कमी दिखाते हुए कई उपग्रह चित्र जारी किए हैं। 2019 में समान छह सप्ताह की अवधि की तुलना में नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का स्तर काफी कम हो गया है।
शुक्र, सूर्य और चंद्रमा के बाद रात के आकाश में तीसरी सबसे चमकीली वस्तु है, और इसे दुनिया के किसी भी स्पष्ट आकाश में महीनों तक देखना आसान है। प्रदूषण की वर्तमान कमी शुक्र और किसी भी ग्रह को देखने के लिए शून्य अंतर बनाती है। भारत सहित कई देशों ने उड़ानों और रेलगाड़ियों के प्रयोग को रद्द कर दिया है और सार्वजनिक परिवहनों को भी सड़कों से हटा दिया है, जिसके परिणामस्वरूप ओरियन (Orion), ऑरिगा (Auriga), जेमिनी (Gemini) आदि तारामंडल अब बहुत उज्ज्वल दिखाई दे रहे हैं। यह समय शौकिया खगोल विज्ञानियों के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे आजकल आसानी से तारों को काले आसमान में देख सकते हैं।
शौकिया खगोल विद्या या खगोल शास्त्र एक शौक है, जिसमें व्यक्ति आकाश में दूरबीन या अन्य उपकरण का उपयोग करके आकाशीय वस्तुओं के अवलोकन का आनंद ले सकता है। इनका प्राथमिक लक्ष्य भले ही वैज्ञानिक शोध न हो, लेकिन कुछ शौकिया खगोलविद नागरिक अस्थायी सितारों, दो सितारों के निकटस्थ स्थित होने, चंद्रमा या क्षुद्रग्रहों द्वारा सितारों के छिप जाने आदि की निगरानी करते हैं या अन्य आकाशगंगाओं में क्षणिक खगोलीय घटनाओं जैसे धूमकेतु, आकाशगंगीय नोवा (Novae-एक तारा जो अचानक हजारों गुना चमकीला हो जाता है और फिर धीरे-धीरे अपनी मूल तीव्रता से ढल जाता है) या सुपरनोवा (Supernovae - आकाश गंगा में एक तारे का सबसे बड़ा विस्फोट) की खोज करते हैं। शौकिया खगोलविद खगोल विज्ञान के क्षेत्र को अपनी आय या सहायता के प्राथमिक स्रोत के रूप में उपयोग नहीं करते हैं और न ही उनके पास आमतौर पर इस विषय से सम्बंधित कोई पेशेवर प्रशिक्षण होता है। उनमें से अधिकांश शौक़ीन होते हैं, जबकि अन्य को खगोल विज्ञान में उच्च स्तर का अनुभव होता है और वे अक्सर पेशेवर खगोलविदों के साथ काम करते हैं या उनकी सहायता करते हैं। पूरे इतिहास में कई खगोलविदों ने एक शौकिया ढांचे में ही आकाश का अध्ययन किया, लेकिन बीसवीं शताब्दी की शुरुआत के बाद से, पेशेवर खगोल विज्ञान, शौकिया खगोल विज्ञान और संबंधित गतिविधियों से स्पष्ट रूप से अलग एक गतिविधि बन गया। शौकिया खगोलविद आमतौर पर रात में आकाश को देखते हैं, जब अधिकांश खगोलीय पिंड और खगोलीय घटनाएं दिखाई देती हैं, लेकिन अन्य लोग इन्हें दिन के दौरान सूर्य की उपस्थिति और सौर ग्रहण के समय देखते हैं। कुछ लोग आकाश को अपनी आंखों या साधारण दूरबीन की मदद से देखते हैं जबकि कुछ अक्सर अपने निजी या सामूहिक वेधशालाओं में स्थित अच्छे या उन्नत दूरबीनों का उपयोग करते हैं। इस क्षेत्र में रुचि लेने वाले लोग शौकिया खगोलीय समाजों के सदस्यों के रूप में भी शामिल हो सकते हैं, जो उन्हें आकाशीय वस्तुओं को खोजने और देखने के तरीकों के बारे में सलाह, प्रशिक्षण या मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं। वे आम जनता के बीच खगोल विज्ञान के विज्ञान को भी बढ़ावा दे सकते हैं। कई शौकिया खगोलविद सफलतापूर्वक पेशेवर खगोलविदों के ज्ञान के आधार पर योगदान करते हैं।
खगोल विज्ञान को कभी-कभी कुछ शेष विज्ञानों में से एक के रूप में बढ़ावा दिया जाता है, जिसके लिए शौकीन खगोलविद आज भी उपयोगी सूचनाओं को एकत्रित करने में योगदान दे सकते हैं। इसे पहचानने के लिए, पैसिफिक की एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी (Astronomical Society of the Pacific) प्रतिवर्ष शौकीनों द्वारा खगोल विज्ञान में महत्वपूर्ण योगदान के लिए शौकिया उपलब्धि पुरस्कार प्रदान करती है। शौकिया खगोलविदों द्वारा अधिकांश वैज्ञानिक योगदान सूचना संग्रह के क्षेत्र में हैं। कई संगठन और परियोजनाएं जैसे कि अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ वेरिएबल स्टार ऑब्जर्वर (American Association of Variable Star Observers), ब्रिटिश एस्ट्रोनॉमिकल एसोसिएशन (British Astronomical Association), जूनिवर्स (Zooniverse), कॉस्मोक्वेस्ट (Cosmoquest) सेटी@होम (SETI@Home) आदि इन योगदानों को समन्वित करने में मदद करते हैं। अतीत और वर्तमान में, शौकिया खगोलविदों ने नए धूमकेतुओं की खोज में एक प्रमुख भूमिका निभाई है।
वर्तमान समय में चल रही वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई में खगोल वैज्ञानिकों ने भी अहम भूमिका निभाई है, सभी वैज्ञानिक अपने ज्ञान और उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करके समाधान प्रदान करने के लिए सक्रिय रूप से एक साथ काम कर रहे हैं। कोविड-19 रोग के प्रसार को समझने और स्वास्थ्य उपचार की क्षमता (जैसे वेंटिलेटर, व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण, आदि) को बढ़ाने में मदद करने के लिए वैज्ञानिकों द्वारा विभिन्न गतिविधियां आयोजित की गईं। उदाहरण के लिए:
• साउथ अफ्रीका रेडियो एस्ट्रोनॉमी ऑब्जर्वेटरी (South Africa Radio Astronomy Observatory) साउथ अफ्रीकन एस्ट्रोनॉमी ऑब्जर्वेटरी (South African Astronomy Observatory) और साउथ अफ्रीकन लार्ज टेलीस्कोप (South African Large Telescope) में अन्य खगोल-विज्ञानी और अभियंता समूहों के सहयोग से काम कर रहा है, इस प्रक्रिया पर संयुक्त राष्ट्र के कैंब्रिज विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक और अभियंता स्थानीय डिजाइन (Design) के लिए राष्ट्रीय वेंटिलेटर (Ventilators) परियोजना (जिसमें 10000 वेंटिलेटर, और यदि आवश्यक हो तो 50000 तक का निर्माण) का प्रबंधन करना है।
• कनाडा में, डॉ. आर्ट मैकडोनाल्ड, प्रोफेसर एमेरिटस (भौतिकी, इंजीनियरिंग भौतिकी और खगोल विज्ञान) क्वीन विश्वविद्यालय और 2015 में नोबेल पुरस्कार विजेता क्वीन भौतिकी के शोधकर्ताओं के साथ मिलकर कोविड-19 रोगग्रस्त रोगियों के लिए वेंटिलेटर डिजाइन और निर्माण का कार्य कर रहे हैं।
• कोरोनोवायरस को पराजित करने और उन इससे ग्रस्त लोगों की सहायता करने में मदद करने के लिए नासा अपने कर्मियों और प्रौद्योगिकियों का उपयोग कुछ समाधानों (वेंटिलेटर से लेकर परिशोधन प्रणालियों तक) को विकसित करने के लिए कर रहा है।
• कोविद -19 के प्रकोप के भविष्य के विकास का पूर्वानुमान लगाने के लिए खगोलविदों द्वारा एक दिलचस्प अध्ययन किया गया है। उन सभी देशों में जिनकी उन्होंने जांच की है में उन्होंने पाया कि नए संक्रमणों के प्रतिलोम भिन्नात्मक दैनिक विकास दर का विकास सार्वभौमिक प्रतीत होता है और इसे एक सार्वभौमिक कार्य द्वारा सटीक रूप से दो गम्बल मापदंडों के कार्य द्वारा अच्छी तरह से चित्रित किया गया है।
• तंजानिया में, मेरु यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के खगोल विज्ञान के छात्रों ने देश में वायरस के प्रसार को कम करने में मदद के लिए एक सौर-संचालित पैर सक्रिय हाथ धोने का तंत्र विकसित किया है। • कैलिफोर्निया के सिलिकॉन वैली में नासा का एम्स रिसर्च सेंटर अपने सुपरकंप्यूटर का उपयोग कर कोरोनोवायरस को रोकने की लड़ाई में वैज्ञानिक खोज की गति को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए बेहद जटिल और उच्च मात्रा में डेटा (Data) का उपयोग कर रहा है।
चूंकि कोविद -19 के उपचार और टीके अभी भी सक्रिय रूप से शोधित किए जा रहे हैं, इसलिए जब तक एक उचित इलाज विकसित नहीं हो जाता वायरस के व्यापक संक्रमण को सीमित करने के लिए विभिन्न प्रक्रियाओं का उपयोग किया गया है। इसलिए, विश्व भर में प्रत्येक देश अपने लोगों की सुरक्षा के लिए योगदान करने के लिए उपाय खोज रहे हैं, कोविद -19 के प्रसार को कम करने और रोकने के लिए सबसे सुरक्षित और प्रभावी तरीका गैर-आवश्यक व्यवसायों के लिए घर में रहना, सामाजिक दूरियां बनाए रखना, संगरोध, बार-बार हाथ धोना और हैन्ड सेनिटाइज़र (Hand sanitizer) का उपयोग करना आदि है।

संदर्भ :-
https://en.wikipedia.org/wiki/Amateur_astronomy
https://bit.ly/2S10wQm
https://astrobites.org/guides/citizen-science-efforts/
https://bit.ly/2Vz8N01
http://www.astro4dev.org/role-of-astronomy-in-the-fight-against-the-covid-19-pandemic/
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि शौकिया खगोल विज्ञान को दर्शाती है।(EEWKI)
दूसरी छवि कॉरोनोवायरस लॉकडाउन को दिखाती है जिसके परिणामस्वरूप प्रदूषण कम हुआ - विशेष रूप से प्रकाश प्रदूषण।(earthsky.org)
तीसरी छवि लोगों को स्टारगेज़िंग दिखाती है।(azamara)


RECENT POST

  • भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन और विश्व युद्ध
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:41 PM


  • पशुधन और मुर्गीपालन क्षेत्रों पर लॉकडाउन का प्रभाव
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:53 AM


  • यदि भुगतान क्षमता के नजरिए से देखें तो भारत का यातायात जुर्माना विश्व में सबसे अधिक है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 12:15 PM


  • भारतीय नागरिकता से संबंधित कुछ विशेष पहलू
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:36 PM


  • सदियों पुराना है सोने के प्रति भारतीयों के प्रेम का इतिहास
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:52 PM


  • जीवन का असली आनंद है, दूसरों को खुशी देना
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 11:57 AM


  • सारण में ‘छनना’ के निर्माता हुए महामारी से प्रभावित
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:34 PM


  • मन और आत्मा को शुद्ध करने का साधन हैं, इस्लामिक कला के ज्यामितीय और संग्रथित प्रतिरूप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:58 AM


  • एक दूसरे के साथ प्रेम और आंनद के साथ रहने का प्रतीक है, मकर संक्रांति
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2021 12:31 PM


  • मानव विकास सूचकांक देश के विकास के स्तर पर नजर रखने के लिए अनिवार्य है
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-01-2021 12:26 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id