लेवेलोइस तकनीक से बनाए गये हैं, हाल ही में प्राप्त पत्थर के उपकरण

जौनपुर

 08-11-2020 11:12 AM
मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक
लगभग 300,000 साल पहले, अफ्रीका के कुछ हिस्सों में हमारे मानव पूर्वजों ने पत्थरों के टुकडों का उपयोग करके छोटे, नुकीले उपकरण बनाने शुरू किये जिसे उन्होंने लेवेलोइस (Levallois) तकनीक का उपयोग करके बनाया. तकनीक का नाम पेरिस के एक उपनगर, जहां इस तरह से बनाए गए उपकरण पहली बार खोजे गए थे, के नाम पर रखा गया था. तकनीक पिछले युग के बड़े, कम परिष्कृत उपकरणों का गहरा उन्नयन था, जो अफ्रीका में मध्य पाषाण (Middle Stone) युग और यूरोप और पश्चिमी एशिया में मध्य पुरापाषाण (Middle Paleolithic) युग को चिन्हित करती है. उसी समय के आसपास यूरोप में निएंडरथल (Neanderthals) ने भी इन उपकरणों का इस्तेमाल किया। वैज्ञानिकों ने सोचा था कि यह तकनीक दुनिया के अन्य हिस्सों में बहुत बाद में फैली, सम्भवतः आधुनिक मानव के अफ्रीका से बाहर चले जाने के बाद। लेकिन भारत में वैज्ञानिकों ने हाल ही में लेवलोइस तकनीक से बनाए गए हजारों पत्थर के औजारों की खोज की, जो 385,000 साल पहले के थे। ये नवीनतम निष्कर्ष जर्नल नेचर (Journal Nature) में बुधवार को प्रकाशित हुए, जो यह सुझाव देते हैं कि शोधकर्ताओं ने जैसा पहले सोचा था, उससे बहुत पहले ही लेवलोइस तकनीक दुनिया भर में फैल चुकी थी. भारतीय समूह ने इन उपकरणों को भारत के सबसे प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थलों में से एक - अत्तिरामपक्कम (Attirampakkam) जो दक्षिणी भारत में वर्तमान चेन्नई शहर के पास स्थित है, से प्राप्त किया. स्थल की सबसे पुरानी कलाकृतियों में बड़े भुज वाली कुल्हाड़ियां और क्लीवर (Cleavers) हैं, जो 15 लाख साल पुराने हैं, और प्रारंभिक पाषाण काल की पुरानी ऐचलियन (Acheulian) संस्कृति से जुड़े हैं। हाल ही में प्राप्त उपकरण, जो 385,000 से 172,000 साल के बीच के हैं, आकार में छोटे हैं और लेवेलोइस तकनीक से स्पष्ट रूप से बनाए गए हैं. इन्हें बनाने के लिए पहले कछुए के खोल के आकार में एक प्रारंभिक पत्थर का निर्माण किया गया है, उसके बाद इसे पूर्वनिर्मित पत्थर से पीटा गया है, ताकि नुकीलें किनारों के साथ एक परत बनायी जा सके.

संदर्भ:
https://www.youtube.com/watch?v=yNsqE_jQQ8w
https://www.youtube.com/watch?v=bqRaxlQH1IE
https://www.npr.org/sections/health-shots/2018/01/31/582102242/discovery-in-india-suggests-an-early-global-spread-of-stone-age-technology


RECENT POST

  • कैसे उठें मौत के खौफ से ऊपर ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:10 AM


  • जगन्नाथ रथ पर्व के अवसर पर जानिए जगन्नाथ पुरी के रथों की उल्लेखनीय निर्माण प्रक्रिया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:29 AM


  • पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड की प्राकृतिक सुंदरता व नागा जनजातियों की विविध जीवनशैली का दर्शन
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:40 AM


  • कोविड सहित मंकीपॉक्स रोग के दोहरे बोझ से बचने के लिए जरूरी उपाय करना आवश्यक है
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:22 AM


  • शानदार शर्की वास्तुकला की गवाही देती हैं, अटाला सहित जौनपुर की अन्य खूबसूरत मस्जिदें
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:21 AM


  • फैशन जगत में अपना एक नया स्‍थान बना रहा है मछली का चमड़ा
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:29 AM


  • शरीर पर घने बालों के साथ भयानक ताकत और स्वभाव वाले माने जाते थे गोरिल्ला
    शारीरिक

     26-06-2022 10:13 AM


  • सिकुड़ते प्राकृतिक आवासों के बीच, गैर बर्फीले क्षेत्रों के अनुकूलित हो रहे हैं, ध्रुवीय भालू
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:58 AM


  • क्या वास्तव में फ्रोज़न खाद्य पदार्थ की बढ़ती लोकप्रियता ने बदल दिया है भारतीय खाद्य उद्योग को?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:52 AM


  • सामाजिक व् राजनीतिक अन्याय के विरोध का रचनात्मक, शक्तिशाली रूप है, हिप-हॉप या रैप संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:39 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id