क्रिकेट गेंदबाज़ी में आये हैं अनेकों बदलाव

जौनपुर

 29-09-2020 03:32 AM
हथियार व खिलौने

क्रिकेट में, बॉलिंग (Bowling) या गेंद फेंकना, गेंद को विकेट (Wicket) की ओर ले जाने या विकेट पर मारने की क्रिया है, जिसे बल्लेबाज द्वारा रोका जाता है। गेंदबाजी में कुशल खिलाड़ी को गेंदबाज कहा जाता है। एक गेंदबाज जो एक सक्षम बल्लेबाज भी है, ऑलराउंडर (All-rounder) के रूप में जाना जाता है। बॉलिंग करना और गेंद को फेंकने में अंतर है, क्योंकि बॉलिंग में कोहनी के विस्तार कोण से सम्बंधित नियमों का पालन भी करना होता है।
बल्लेबाज की ओर गेंद डालने की एक क्रिया को गेंद डालना या डिलीवरी (Delivery) करना भी कहा जाता है। गेंदबाजों द्वारा छह के समूह में डाली गयी गेंदे, एक ओवर (Over) का निर्माण करती हैं। क्रिकेट के नियमों में यह उल्लेखित है कि गेंदबाज को गेंद कैसे फेंकनी चाहिए। यदि कोई गेंद अवैध रूप से फेंकी जाती है, तो अंपायर (Umpire) उसे नो-बॉल (No ball) करार देता है, अर्थात उस गेंद की कोई गिनती नहीं की जाती। गेंदबाज विभिन्न प्रकार के होते हैं, जैसे तेज गेंदबाज, धीमा गेंदबाज आदि। तेज गेंदबाजों का प्राथमिक हथियार तेजी है। धीमे गेंदबाज, बल्लेबाज़ को कई तरह की उड़ान और स्पिन (Spin) के साथ भ्रमित करने का प्रयास करते हैं।

क्रिकेट की उत्पत्ति के बारे में कई सिद्धांत मौजूद हैं। एक का सुझाव है कि यह खेल चरवाहों के बीच शुरू हुआ, जिन्होंने अपने डंडे से पत्थर को मारा और एक ही समय में, विकेट गेट (Gate) का बचाव किया। एक दूसरे सिद्धांत से पता चलता है कि यह नाम इंग्लैंड में 'क्रिकेट' के नाम से विख्यात एक छोटे स्टूल (Stool) से आया है। जोकि एक तरफ से लंबे, निम्न विकेट की तरह दिखता था, जिन्हें खेल के शुरुआती दिनों में उपयोग किया जाता है (मूल रूप से फ्लेमिश 'क्रिकस्टोएल (Krickstoel)' से, एक कम स्टूल जिस पर चर्च में पैरिशियन (Parishioners) घुटने टेकते हैं)। 1478 में उत्तर-पूर्व फ्रांस में 'क्रिकट (Croquet) का एक संदर्भ भी है, और खेल दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड में विकसित हुआ जिसके साक्ष्य मध्य युग में है। क्रिकेट के शुरुआती दिनों में, अंडरआर्म (Underarm) गेंदबाजी ही बॉलिंग का एकमात्र तरीका था। यद्यपि आधुनिक दिमाग में यह बच्चों के खेल की छवियों को जोड़ता है, किंतु वास्तविकता यह थी कि सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज गेंद पर काफी स्पिन लगा सकते हैं, और इसे काफी गति से वितरित कर सकते हैं। 19 वीं सदी के शुरुआती दौर तक, बल्लेबाज और गेंदबाज के बीच संतुलन पूर्व के पक्ष में बहुत अधिक बढ़ गया था, यद्यपि खराब पिचों (Pitches) ने स्कोर (Score) को नीचे रखा। इस असंतुलन का मुकाबला करने के लिए, गेंदबाजों ने संतुलन को सुधारने के तरीकों को देखना शुरू कर दिया। इससे किसी भी सचेत निर्णय के बजाय प्राकृतिक विकास द्वारा राउंड-आर्म (Round-arm) बॉलिंग का उद्भव हुआ जिसमें गेंद को या तो कंधे की ऊंचाई से या उससे नीचे से फेंका गया। राउंड-आर्म के उद्भव के संदर्भ में एक लोकप्रिय कहानी में कहा गया है कि इसकी शुरूआत तब हुई जब केंट क्रिकेटर जॉन विल्स की बहन क्रिस्टीना विल्स, बगीचे में क्रिकेट खेलते समय उन्हें गेंद डाल रही थीं। किंतु उस समय की फैशनेबल स्कर्ट (Fashionable skirt) की वजह से वह अंडरआर्म गेंदबाजी नहीं कर पा रही थीं।
इसलिए उन्होंने अपना हाथ हमेशा की तरह नहीं बल्कि अधिक ऊपर उठाया। संभवतः अधिक संभावना यह है कि यह कई बार प्रयोग करने पर अस्तित्व में आया। माना जाता है कि यह पहली बार नहीं था जब इस शैली का उपयोग किया गया था। इस समय इसे मात्र पुनर्जीवित किया गया था। 1816 में राउंड-आर्म बॉलिंग पर प्रतिबंध लगाने के लिए कानून बदले गए।

1820 के ही दशक में राउंड आर्म बोलिंग फेंकी जानी शुरू हो गयी। 1826 में ससेक्स ने दो राउंड आर्म बॉलर अपने टीम में रखे जिनका नाम जेम्स ब्रॉडब्रिज और विलियम लिलीवाइट था। उस समय राउंड आर्म बोलिंग के नियम इतने बड़े पैमाने पर नहीं बने थे तो बैट्समैन हमेशा राउंड आर्म बॉलर पर सवाल उठाते रहते थे। 15 जुलाई 1822 को, विल्स ने लॉर्ड्स (Lord's) में एमसीसी (Marylebone Cricket Club - MCC) के खिलाफ केंट के लिए राउंड-आर्म गेंदबाजी की जो कि एक नो-बॉल थी। 1820 के दशक तक राउंड-आर्म बॉलिंग अत्यधिक प्रचलित हो गयी थी। 1828 में, MCC ने कानूनों को फिर से संशोधित किया, जिससे गेंदबाज को कोहनी तक हाथ उठाने की अनुमति मिली। सात साल बाद, MCC ने राउंड-आर्म डिलीवरी की अनुमति के लिए कानूनों को फिर से लिखा। 1845 में नियमों में और बदलाव आए और कंधे तक हाथ उठा कर गेंद फेकने की इजाज़त दी गयी। 1864 का वह दौर था जब आज की तरह से गेंद फेकने का नियम बना और आज तक उसी प्रकार से गेंद फेंकी जाती है।

वर्तमान समय में गेंदबाज अत्यंत तीव्र गति से गेंदबाज़ी करते हैं और इसलिए उनमें से कुछ गेंदबाजों ने गेंदबाजी में विश्व में अपना कीर्तिमान स्थापित कर लिया है. इन गेंदबाजों में से कुछ गेंदबाज शोइब अख्तर, शौन टैट, ब्रेट ली, जेफ्फ थोमसन आदि हैं, जिनका रिकॉर्ड (Record) क्रमशः 161.3 किलोमीटर प्रतिघंटा, 161.1 किलोमीटर प्रतिघंटा, 161.1 किलोमीटर प्रतिघंटा, 160.6 किलोमीटर प्रतिघंटा है।

संदर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Bowling_(cricket)
http://www.espncricinfo.com/ci/content/story/248600.html
https://www.dailytelegraph.com.au/sport/cricket/ten-fastest-deliveries-in-cricket-history-shoaib-akhtar-shaun-tait-brett-lee-jeff-thomson/news-story/3b5b675a9681e1981abdaac6a3704fc3
चित्र सन्दर्भ :
मुख्य चित्र में भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह को गेंदबाजी करते हुए दिखाया गया है। (Youtube)
दूसरे चित्र में फिलाडेल्फिया (Philadelphia) के क्रिकेटर बार्ट किंग को गेंदबाजी करते हुए दिखाया गया है। यह चित्र सन 1980 में लिया गया है। (Wikipedia)
तीसरे चित्र में रिचर्ड हैंडली (Richard Hadlee) को गेंदबाजी करते हुए दिखाया है। (Wikimedia)
चौथे चित्र में तेज़ गेंदबाजी एक्शन का क्रमवार किया गया है। (Prarang)
पांचवें चित्र में भारतीय गेंदबाज अनिल कुंबले के गेंदबाजी एक्शन का विस्तार दिखाया गया है। (Flickr)
अंतिम चित्र में भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सदस्य शिखा पांडेय को गेंदबाजी करते हुए चित्रित किया गया है। (Publicdomainpictures)


RECENT POST

  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM


  • कृत्रिम वर्षा (Cloud Seeding): बादल एवम्‌ वर्षा को नियंत्रित करने का कारगर उपाय
    जलवायु व ऋतु

     21-10-2020 01:06 AM


  • मुगलकालीन प्रसिद्ध व्‍यंजन जर्दा
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 08:47 AM


  • नौ रात्रियों का पर्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 07:21 AM


  • कोविड-19 से लड़ रहे रोगियों के लिए आशा का स्रोत बना है, गीत ‘येरूशलेमा’
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-10-2020 10:10 AM


  • भारत में मिट्टी के स्वस्थ्य के प्रशिक्षण में नहीं बना कोविड-19 रुकावट
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-10-2020 10:22 PM


  • मनुष्य के अच्छे दोस्त- फायदेमंद कीट
    तितलियाँ व कीड़े

     16-10-2020 05:44 AM


  • महामारी प्रसार का मुख्य कारण माने जाने वाले चूहे, टीके के विकास में अब बन गए हैं
    स्तनधारी

     14-10-2020 04:15 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id