Post Viewership from Post Date to 29-10-2020

City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) email Instagram Total
3117 555 0 0 3672

*Reach definitions - scroll down to bottom

This post was sponsored by - "Prarang"

हिरोशिमा नागासाकी त्रासदी

जौनपुर

 28-09-2020 08:18 AM
हथियार व खिलौने


इधर जौनपुर के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भारत की ब्रिटिश राज से मुक्ति के लिए संघर्ष कर रहे थे और उधर अंग्रेज अमेरिका के साथ मैनहैटन परियोजना (Manhattan Project में व्यस्त थे। अमेरिका ने सबसे पहले नाभिकीय हथियार बनाए थे। जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहरों पर परमाणु बमबारी ने दुनिया की सबसे बड़ी तबाही का भयावह इतिहास रच दिया। अब तक सशस्त्र मुकाबले में नाभिकीय हथियारों का यह अकेला उदाहरण है। इस मामले ने वैश्विक स्तर पर नाभिकीय शस्त्रों के इस्तेमाल पर रोक की आवश्यकता को पैदा किया। न्यूक मैप वेबसाइट (Nuke Map Website) पर प्रति शहर हुए नुकसान का अलग-अलग विवरण मिल जाता है।


मैनहैटन परियोजना: एक परिचय

दूसरे विश्व युद्ध के समय यह एक शोध और विकास संबंधी परियोजना थी, जिसने पहले नाभिकीय हथियार बनाए। यह अमेरिका और इंग्लैंड का संयुक्त प्रयास था। इसमें कनाडा भी शामिल था। अमेरिका के इंजीनियरों की सेना के मेजर जनरल लेस्ली ग्रोव्स (Major General Leslie Groves) के हाथ में इसकी कमान थी। नाभिकीय भौतिकविद रॉबर्ट ओप्पेन्हेइमेर (Robert Oppenheimer) लॉस एलामोस प्रयोगशाला (Los Alamos Laboratory) के उस समय निदेशक थे, जिसने वास्तविक बम डिजाइन किए थे। पूरी परियोजना का कोड नाम था वैकल्पिक सामग्री का विकास( डेवलपमेंट ऑफ सब्स्टिट्यूट मटेरियल (Development of Substitute Materials))। 1939 में मैनहैटन परियोजना शुरू हुई। 130000 से ज्यादा लोगों को इसमें रोजगार मिला और 2 बिलियन यूएस डॉलर इस पर खर्च हुए। 90% फैक्ट्रियों के निर्माण और 10% से कम हथियारों के विकास और निर्माण पर व्यय हुआ। शोध और निर्माण अमेरिका, इंग्लैंड और कनाडा के 30 से ज्यादा स्थानों में हुआ।


हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बमबारी

6 और 9 अगस्त 1945 को अमेरिका ने हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए। इस बमबारी में 130000 और 226000 लोगों की मौत हुई, जिनमें से ज्यादातर शहरी नागरिक थे। 8 मई 1945 को जर्मनी के समर्पण के साथ यूरोप में युद्ध शांत हो गया। जुलाई 1945 में मैनहैटन परियोजना ने दो प्रकार के परमाणु बम बनाए - फैटमैन (Fatman), जो एक प्लूटोनियम (Plutonium) आधारित बम था और लिटिल बॉय (Little Boy), जो यूरेनियम (Uranium) आधारित था। अमेरिका की हवाई सेना के 500 सैनिकों के समूह को विशेष प्रकार के सिल्वर प्लेट (Silver Plate) के बोइंग बी 29 सुपरफोट्र्रस (Boeing B-29 Superfortress) विमानों को उड़ाने का प्रशिक्षण दिया गया। 26 जुलाई 1945 को इंपीरियल जापानी सेना (Imperial Japanese Army) को बिना शर्त समर्पण अन्यथा त्वरित और बड़े विनाश की धमकी की चेतावनी दी गई। जापान ने इसकी अनदेखी की और लड़ाई फिर से शुरू हो गई।
जापान ने 15 अगस्त, 1945 को सोवियत रूस के जंग के ऐलान और नागासाकी पर बमबारी के 6 दिन बाद समर्पण किया। 2 सितंबर, 1945 को लड़ाई बंद हो गई किन्तु इस बमबारी से हुए सामाजिक-राजनीतिक प्रभाव पर पूरे विश्व में शोध और मंथन हुआ। अभी भी इसके नैतिक और कानूनी औचित्य पर प्रश्नचिन्ह जारी है। ऐसे में फिर से विश्व स्तर पर नाभिकीय निरस्त्रीकरण की जरूरत सामने आती है। संयुक्त राष्ट्र के तमाम प्रयासों के बावजूद नाभिकीय निरस्त्रीकरण की बात बीच में ही रुक गई है क्योंकि संभावित नाभिकीय युद्ध की आशंका के चलते प्रत्येक देश अपनी सुरक्षा के लिए नाभिकीय हथियार बनाना चाहते हैं।

सन्दर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Manhattan_Project
https://en.wikipedia.org/wiki/Atomic_bombings_of_Hiroshima_and_Nagasaki
https://www.un.org/en/events/nuclearweaponelimination/background.shtml
https://en.wikipedia.org/wiki/Nuclear_disarmament
https://www.nti.org/analysis/reports/nuclear-disarmament/
https://nuclearsecrecy.com/nukemap/
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में बमबारी समूह G 24 B.S. से एक बोइंग विमान (Boeing) B-29 A-45 BN सुपरफोरट्रेस (Superfortress) 44-617846 का 1 जून, 1945 को मिशन ओसाका, जापान के दौरान का चित्र दिखाया गया है। (अमेरिकी वायु सेना की तस्वीर) (Wikipedia)
दूसरे चित्र में मिशन मेनहट्टन का कंधे और आस्तीन का प्रतीक चिन्ह दिखाया गया है। (Wikimedia)
तीसरे चित्र में मार्च 1940 में मिशन मेनहट्टन के दौरान यूसी बर्कले (UC Berkeley) की बैठक में ई. ओ. लॉरेंस (E. O. Lawrence), ए.एच. कॉम्पटन (A.H. Compton), वी. बुश (V. Bush), जे.बी. कॉनैंट (J.B. Conant), के. कॉम्पटन (K.Compton) और ए.लूमिस (A.Loomis) के समूह चित्र को दिखाया गया है। (Wikipedia) चौथे चित्र में 16 जुलाई 1945 को मैनहट्टन परियोजना के दौरान दुनिया के पहले परमाणु हथियार विस्फोट का चित्र दिखाया गया है, जिसे ट्रिनिटी परीक्षण कहा जाता है। (Publicdomainpictures)
पांचवें चित्र में थिन मैन (Thin Man) परमाणु बम के बाहरी आवरण की एक पंक्ति दिखाई गयीं हैं। पृष्ठभूमि में फैट मैन (Fat Man) का आवरण भी दिखाई दे रहा है। (Wikimedia)
छठे चित्र में हिरोशिमा और नागासाकी में परमाणु विस्फोट का चित्र है। (Publicdomainpictures)


Reach Definitions:
1.
Subscribers (FB + App) -

Total city-based unique subscribers of Prarang Hindi FB page and PrarangApp who reached this specific post. Do note that any Prarang reguIar subscribar who visited outside (pin-code range) the city OR did not login to his FB during this time period, is NOT included in this tota1, either.

2.
Website (Goggle + Direct) -

Total viewership of readers who reached this post directly from their browsers and via Google search.

3.
Total viewership —

Sum of Subscribers(FB+App), Website(Coogle+Direct), Email and Instagram reach of this Prarang post/page.

RECENT POST

  • औषधीय गुणों के साथ रेशम उत्पादन में भी सहायक है, शहतूत की खेती
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     30-10-2020 04:16 PM


  • भारत में लौह-कार्य की उत्पत्ति
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-10-2020 05:43 PM


  • पंजा शरीफ में भी मौजूद है पैगंबर मुहम्मद साहब कदम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     29-10-2020 09:50 AM


  • मोहम्‍मद के जन्‍मोत्‍सव मिलाद से जूड़े अध्‍याय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-10-2020 09:59 PM


  • कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने में चुनौती साबित हो रहा है जल संकट
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     27-10-2020 12:32 AM


  • दशानन की खूबियां
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     26-10-2020 10:38 AM


  • आश्चर्य से भरपूर है, बस्तर की असामान्य चटनी छपराह
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-10-2020 05:59 AM


  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id