इस्लामिक वास्तुकला के विशिष्ट उदाहरणों में से एक है, जौनपुर की खालिस मुखलिस मस्जिद

जौनपुर

 22-09-2020 10:51 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

जौनपुर उत्तर प्रदेश का एक ऐसा शहर है, जिसे कुछ अन्य विशिष्टताओं के साथ अपनी मस्जिदों के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। इन्हीं मस्जिदों में से एक है, 'खालिस मुखलिस मस्जिद' जो कि जौनपुर की उल्लेखनीय मस्जिदों में से एक है। अपनी विशेषताओं के कारण ही बड़ी संख्या में पर्यटक इस मस्जिद को देखने आते हैं और इसीलिए यह मस्जिद जौनपुर में प्रमुख पर्यटक आकर्षण में से एक बन गयी है। इस मस्जिद को सन् 1430 के आसपास सुल्तान इब्राहिम के शासनकाल में बनाया गया था। उस समय उन्होंने इसका नाम दो अधीक्षकों, 'मलिक खालिस' और 'मलिक मुखलिस' के नाम पर रखा था। मस्जिद मूल रूप से प्रसिद्ध संत सैय्यद उस्मान के सम्मान में बनाई गई थी। संत सैय्यद उस्मान शिराज में पैदा हुए तथा बाद में दिल्ली आ गए, और वहाँ से तैमूर के आक्रमण के कारण जौनपुर चले गए। उनके वंशज आज भी मस्जिद के पास रहते हैं। मस्जिद को 'चार उंगली मस्जिद' के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यहाँ की दीवारों में जो ईंटे उपयोग में लायी गयी हैं, उनमें से प्रत्येक का आकार चार उंगली के बराबर है अर्थात प्रत्येक ईंट की लंबाई लगभग चार इंच है।
मस्जिद एक आवासीय बस्ती के बीच में स्थित है और 14वीं शताब्दी के जीवन का प्रतिनिधित्व करती है। खालिस मुखलिस मस्जिद एक जौनपुर शैली की मस्जिद है, जो काफी हद तक अटाला मस्जिद के समान दिखती है, हालांकि रूप और संरचना में यह छोटी और सरल है। इसके उदाहरण सामने के स्तम्भों और सजावट में देखे जा सकते हैं। इसकी संरचना सरल और सेवाभावी है जो कि सामान्य उच्च प्रोपीलोन (Propylon), गुंबददार विशाल कक्ष, दो छोटे कक्ष और लगभग 66 फीट गहरे एक बड़े वर्गाकार घेरे के साथ बना है। इसमें एक समतल छत भी है, जिसे हिंदू शैली में बने कुछ स्तंभों की दस पंक्तियों ने वहन किया हुआ है। मस्जिद को 'दरबिया मस्जिद' के नाम से भी जाना जाता है।
इमारत की पूरी संरचना सरल है। दीवारों के साथ इसके द्वारों को सिकंदर लोदी के आदेशों के अनुसार नीचे खींच लिया गया था। यह जर्जर हालत में वर्षों तक रहा, लेकिन अब इसकी मरम्मत की गई है और यह उपयोग में है। मुख्य प्रवेश द्वार के बाईं ओर दक्षिणी खंभे पर स्थित चबूतरे में एक पत्थर तीन इंच लंबा है। यहाँ प्रत्येक सप्ताह के शुक्रवार को आयोजित होने वाली विशेष प्रार्थनाएं मन को परम शांति प्रदान करने के लिए जानी जाती हैं और इसलिए भारी संख्या में पर्यटक इसका लाभ लेने के लिए यहां पहुंचते हैं। यह मस्जिद वास्तव में इस्लामिक वास्तुकला के विशिष्ट उदाहरणों में से एक है।

संदर्भ:
https://www.indianholiday.com/tourist-attraction/jaunpur/holy-places-in-jaunpur/khalis-mukhlis-masjid.html
http://islamicarchitectureinindia.weebly.com/khalis-mukhlis-masjid.html
https://www.jaunpurcity.in/2011/05/khalis-muklis-or-darbiya-mosque-or.html

चित्र सन्दर्भ:
खालिस मुखालिस मस्जिद के चित्र(Wikimedia)
मस्जिद में 4 उंगली की ईंट(IHPL)


RECENT POST

  • नृत्‍य में मुद्राओं की भूमिका
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-10-2020 08:17 PM


  • दिव्य गुणों और अनेकों विद्याओं के धनी हैं, महर्षि नारद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 04:58 PM


  • जौनपुर के मुख्य आस्था केंद्रों में से एक है, मां शीतला चौकिया धाम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:38 AM


  • कृत्रिम वर्षा (Cloud Seeding): बादल एवम्‌ वर्षा को नियंत्रित करने का कारगर उपाय
    जलवायु व ऋतु

     21-10-2020 01:06 AM


  • मुगलकालीन प्रसिद्ध व्‍यंजन जर्दा
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 08:47 AM


  • नौ रात्रियों का पर्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 07:21 AM


  • कोविड-19 से लड़ रहे रोगियों के लिए आशा का स्रोत बना है, गीत ‘येरूशलेमा’
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-10-2020 10:10 AM


  • भारत में मिट्टी के स्वस्थ्य के प्रशिक्षण में नहीं बना कोविड-19 रुकावट
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-10-2020 10:22 PM


  • मनुष्य के अच्छे दोस्त- फायदेमंद कीट
    तितलियाँ व कीड़े

     16-10-2020 05:44 AM


  • महामारी प्रसार का मुख्य कारण माने जाने वाले चूहे, टीके के विकास में अब बन गए हैं
    स्तनधारी

     14-10-2020 04:15 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id