भारतीय पुराण और इतिहास के मशहूर भाई-बहन

जौनपुर

 03-07-2020 03:58 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

भाई बहनों का आपस में एक दूसरे के लिए गहरा लगाव होता है। भाई-बहन के बीच स्नेह का बंधन बहुत अनोखा होता है। वे एक दूसरे की जितनी परवाह करते हैं, उसकी कोई सीमा नहीं होती। उनके आपसी प्यार की किसी से तुलना नहीं की जा सकती। इस कालातीत भावना की गूंज भारत की पौराणिक कथाओं और उसके इतिहास में सुनाई देती है। इनसे हमें बहुत से असाधारण भाई बहनों की जोड़ियों के उदाहरण भी मिलते हैं।
रावण और शूर्पणखा

पवित्र रामायण महाकाव्य की कहानियां सुनकर बड़े हुए हर एक व्यक्ति को रावण और शूर्पणखा का प्रसंग अच्छी तरह से याद होगा। इन भाई-बहन का जन्म साधु विश्रव और राक्षसी कैकसी के घर में हुआ था। कहा जाता है कि शूर्पणखा को पहली नजर में भगवान राम पसंद आ गए, जब वे पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ वनवास में थे। भगवान राम ने बहुत नम्रता के साथ शूर्पणखा का विवाह प्रस्ताव ठुकरा दिया, तो जैसे की कथा बताई जाती है, शूर्पणखा को अपनी नाक गंवानी पड़ गई। लक्ष्मण ने उसकी नाक काटी थी, दर्द से तड़पती शूर्पणखा ने लौटकर आपबीती अपने भाई रावण को सुनाई जो लंका के राजा थे। रावण ने क्रुद्ध होकर प्रतिशोध में सीता का अपहरण किया।

कंस और देवकी
इतिहास में कंस को भगवान कृष्ण का मामा बताया जाता है। जीवन भर कंस जगन और अपवित्र कामों में लिप्त रहा, जिसमें अपनी बहन देवकी और उसके पति वासुदेव को बंदी बनाकर पीटना भी शामिल था क्योंकि एक भविष्यवाणी में यह बताया गया था कि देवकी और वासुदेव की संतान कंस की मौत का कारण बनेगी। कंस ने हर कोशिश कर ली अपने भाग्य को बदलने की लेकिन अंततः बुराई पर अच्छाई की जीत हुई और कृष्ण के हाथों कंस का अंत हुआ।
सुभद्रा, कृष्ण और बलराम
सुभद्रा का जन्म कृष्ण और बलराम की दुलारी बहन के रूप में हुआ था। कृष्ण ने प्रमुख भूमिका निभाते हुए सुभद्रा का विवाह अर्जुन के साथ किया। इस संबंध के चलते कृष्ण आसानी से अर्जुन और पांडवों की मदद कर सकें और कुरुक्षेत्र के मैदान में पांडवों की विजय हुई। सुभद्रा और अर्जुन का परम योद्धा पुत्र था अभिमन्यु। उड़ीसा के के मंदिर के गर्भ गृह में कृष्ण और बलराम के साथ सुभद्रा का चित्र लगा है।

यमराज और यमुना
ऋग्वेद के अनुसार अमिया और यमुना नदी यमराज की जुड़वा बहन है। यमराज को हिंदू पौराणिक ग्रंथों में मृत्यु का देवता माना जाता है। इन दोनों का जन्म सारन्यू और विवासवन्त के यहां हुआ था। ऐसा माना जाता है कि रक्षाबंधन की शुरुआत यामी और यमराज द्वारा हुई थी। पौराणिक हिंदू कथानक के अनुसार यमुना ने यम को राखी बांधी और उसे अमर बना दिया। यम ने बहन के इस स्नेहिल कृत्य से प्रभावित होकर घोषणा की थी कि जो भी अपनी बहन से राखी बंधवाएगा, उसे लंबी आयु का वरदान मिलेगा।

पार्वती और विष्णु
सती (भगवान शिव की पहली पत्नी) का पुनर्जन्म पार्वती नाम से राजा हिमवान और मैनावती के यहां हुआ था। वह इस आशा में बड़ी हुई कि एक दिन भगवान शिव से उनका विवाह होगा। लेकिन पार्वती को भारी धक्का पहुंचा जब शिव ने उन्हें अपना जीवन साथी बनाने से इंकार कर दिया। पार्वती ने अपनी इंद्रियों को सशक्त बनाने के लिए कठोर तपस्या की, अपने चक्रों को जागृत किया ताकि वह शिव से विवाह की पात्रता हासिल कर सकें। पार्वती को अपने लक्ष्य में सफल करने के उद्देश्य से भगवान विष्णु ने पार्वती को उनकी कलाई पर राखी बांधने को कहा, ताकि उनके भाई के रूप में विष्णु उनकी सारी कठिनाइयों को दूर कर सकें। ऐसी कथा है कि शिव और पार्वती के आकाशीय विवाह में भगवान विष्णु ने वे सभी कार्य किए जो एक वधू के भाई को करने चाहिए।


द्रौपदी और कृष्ण
पांचाल के राजा की कन्या पांचाली जिसे द्रौपदी के नाम से भी जाना जाता है, भगवान कृष्ण की पोषित दत्तक बहन थी। क्योंकि उसका रंग कृष्ण की तरह था, कृष्ण स्नेह से उसे ‘कृष्णी’ कहकर बुलाते थे।
महान महाकाव्य महाभारत में प्रसंग है, कौरवों द्वारा जुए में पांडुओं से जीतने पर भरी सभा में द्रौपदी का चीर हरण किया जा रहा था, तो द्रौपदी की गुहार पर कृष्ण ने उसका चीर बढ़ाकर न सिर्फ मान रक्षा की बल्कि पांडवों की हारी हुई संपत्ति वापस दिलाने में भी मुख्य भूमिका निभाई।

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में श्री कृष्ण, सुभद्रा और बलराम को दिखाया गया है। (Pexels)
दूसरे चित्र में रावण और सूर्पनखा को दिखाया गया है, दृस्य रामानंद सागर कृत रामायण नामक धारावाहिक से लिया गया है। (Prarang/Youtube)
तीसरे चित्र में वासुदेव-देवकी विवाह का चित्र है और कंस को उनका सारथि दिखाया गया है। (Youtube)
चौथे चित्र में यम और यमुना को दिखाया गया है। (Prarang)
पांचवे चित्र में विष्णु और पार्वती को दिखाया गया है। (Wikipedia)
छठे चित्र में श्री कृष्ण और द्रौपदी को दिखाया गया है। (Freepik)

सन्दर्भ:
https://zeenews.india.com/entertainment/slideshow/brother-sister-jodis-indian-mythology_194.html https://www.sendrakhi.com/rakshabandhan/hindu-mythology


RECENT POST

  • मुहर्रम समारोह का एक महत्वपूर्ण हिस्सा, ताज़िया के अनुष्ठानिक प्रदर्शन का इतिहास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: विश्व में हाथ से बुने वस्त्रों का 95 प्रतिशत भाग भारत से निर्यात किया जाता है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:58 AM


  • अंतरिक्ष से देखे गए हैं, कुछ सबसे बड़े ज्वालामुखी विस्फोट
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 11:57 AM


  • भारत में शून्य का आविष्कार बहुत प्राचीन है, जानिए चौथी शताब्दी इ.पूर्व के बख्शाली पाण्डुलिपि के बारे में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:27 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष:: क्यों है जौनपुर के लिए एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली बेहद जरूरी?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:17 AM


  • जौनपुर के पहले एटलस सहित कई ऐतिहासिक मानचित्र आज भी इतने मायने क्यों रखते हैं?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:17 PM


  • अपनी भव्यता और धार्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है, कैलाश पर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:13 PM


  • इस्लाम में ज्ञान के अधिग्रहण को सर्वोच्च महत्व दिया जाता है
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:05 AM


  • आर्थिक विकास हेतु भारत, प्राकृतिक संपदा बॉक्साइट के अकूत भंडार का लाभ उठा सकता है
    खदान

     01-08-2022 12:13 PM


  • हॉलीवुड के गीतों में भी दिखाई देता है बारिश का संयोजन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     31-07-2022 11:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id