जौनपुर के शाही किले का इतिहास और वास्तुकला का विवरण

जौनपुर

 13-07-2020 04:45 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

शाही किला जौनपुर मध्यकालीन इतिहास का एक उत्कृष्ट नमूना है। इस किले के मुख्य द्वार के बाहर मौजूद छह फीट ऊंचे स्तंभ पर सन 1376 की तिथि अंकित है और इसमें शारिकों के वंशजों के लिए भत्ते को जारी रखने के लिए किले के सभी हिंदू और मुस्लिम कोतवाल से अपील की गई है। इस पट पर फारसी भाषा में एक लेख उकेरा गया है, जिसमें यह लिखा है कि, “मैं अल्लाह और उनके नबी के नाम पर एक मुसलमान को शपथ दिलाता हूँ; और अगर वह हिंदू है तो मैं उसे राम, गंगा और त्रिवेणी के नाम की शपथ दिलाता हूं कि यदि वह इस लेख पर अमल नहीं करता है तो वह भगवान अथवा पैगंबर द्वारा शापित हो जाएगा और यदि उन्होंने चाहा तो उसके चेहरे को पुनरुत्थान के दिन काला कर दिया जाएगा और वह नर्क में जाएगा।”

इस लेख में कुल 17 पंक्तियाँ हैं, जो कि हिन्दू और मुस्लिम कोतवालों को शर्की वंशजों का प्रवेश भत्ता जारी रखने का परामर्श देता है, परन्तु इसके कोई ठोस प्रमाण नहीं उपलब्ध हैं। सुल्तान फ़िरोज़ शाह तुगलक ने राठौर राजाओं (कन्नौज) के मंदिरों और महलों की भौतिकवादी सामग्री का उपयोग करके इस किले को बनवाया था। किला पहले से मौजूद एक टीले पर बना था। मुगल सम्राट अकबर के शासनकाल के दौरान किले का जीर्णोद्धार और विकास किया गया था। किले में एक विशाल प्रवेश द्वार है, जो 14 मीटर ऊँचा है, इसके दोनों ओर कक्ष हैं। मुगल साम्राज्य के दौरान, अकबर के गवर्नर मुनीम खान ने पूर्वी प्रवेश द्वार की ओर एक अतिरिक्त प्रांगण बनवाया था, जिसमें 11 फीट ऊंचा प्रवेश द्वार है। किला एक अनियमित चतुर्भुज के रूप में है, जिसके पूर्व में मुख्य प्रवेश द्वार है और पश्चिम में एक अतिरिक्त निकास द्वार है। इसके द्वार, दीवारें और अन्य संरचनाएं राख के चौकोर पत्थर से बनी हैं।

इस किले में कुछ अत्यंत ही महत्वपूर्ण इमारतें भी स्थित हैं, जिनमें से हमाम या भूलभुलैया, बंगाल शैली की मस्जिद (जिसमें तीन गुम्बद हैं) और सामने एक मीनार भी स्थित है, जिसपर कुरान की आयतें लिखी हुई हैं। भूलाभुलैया की संरचना तुर्की स्नान या हमाम का एक आदर्श प्रतिरूप है। यह ठोस संरचना आंशिक रूप से भूमिगत है, जिसमें प्रवेश और निर्गम प्रणाली, गर्म और ठंडे पानी और शौचालय जैसी अन्य जरूरतों की व्यवस्था है। वहीं विशिष्ट बंगाल शैली में निर्मित किले के भीतर की मस्जिद 39.40 x 6.65 मीटर की ऊँची इमारत है, जिसमें तीन छोटे गुंबद हैं।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र में शाही किले का मुख्य प्रवेश द्वार और उसके बाहर स्थापित स्तम्भ को दिखाया गया है। (Prarang)
2. दूसरे चित्र में अकबर द्वारा बनवाया गया प्रवेश द्वार दिखाया गया है। (Prarang)
3. तीसरे चित्र में शाही किले के प्रवेश द्वार और शाही प्रांगण के प्रवेश द्वार को दिखाया गया है। (Prarang)
4. चौथे चित्र में शाही किले में स्थित मस्जिद और कुरान की आयतों के उत्कीर्णन वाली मीनार को दिखाया गया है। (Prarang)
5. पांचवे चित्र में शाही किले के सूचनापट के साथ हमाम या भूलभुलैया को दिखाया गया है। (Prarang)
6. अंतिम चित्र में मस्जिद के सामने की मीनार का विशुद्ध चित्रण है। (Prarang)

संदर्भ :-
https://www.jaunpuronline.in/city-guide/shahi-qila-in-jaunpur
https://military.wikia.org/wiki/Shahi_Qila,_Jaunpur
https://en.wikipedia.org/wiki/Shahi_Qila,_Jaunpur
https://www.jaunpurcity.in/2013/12/what-is-written-on-pillar-placed.html



RECENT POST

  • भारत से जुड़ी हुई समुद्री लुटेरों की दास्तान
    समुद्र

     03-12-2021 07:46 PM


  • किसी भी भाषा में मुहावरें आमतौर पर जीवन के वास्तविक तथ्यों को साबित करती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 10:42 AM


  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id