समूह में अंडे देने के जाने जाते हैं, ओलिव रिडले कछुए

जौनपुर

 19-04-2020 12:55 PM
मछलियाँ व उभयचर

ओलिव रिडले कछुए (Olive Ridley Turtles) बड़े पैमानों पर एक साथ घोसलें बनाने के व्यवहार के लिए मुख्य रूप से जाने जाते हैं, इस व्यवहार को अररीबदास (Arribadas) कहते हैं।

मादाएं अपने अंडे देने के लिए उसी समुद्र तट पर लौटती हैं जहाँ वो अंडे से निकली थीं। वे अपने अंडे शंकुधारी घोंसले में लगभग डेढ़ फीट गहरा रखते हैं, जो वे श्रमपूर्वक अपने पिछले हाथों (Hind Flippers) के साथ खोदती हैं। हिंद महासागर में, ओडिशा ( Odisha) के गहिरमाथा (Gahirmatha) के पास दो या तीन बड़े समूहों में ओलिव रिडले के अधिकांश घोंसले हैं। भारत में ओडिशा का तट, मैक्सिको (Mexico) और कोस्टा रिका (Costa-Rica) के तटों के साथ-साथ ओलिव रिडले के लिए सबसे बड़ा सामूहिक घोंसला बनाने वाला स्थल है। 1991 में, एक सप्ताह में 6,00,000 से अधिक कछुए ओडिशा के तट पर बसे थे। घोंसले कोरोमंडल तट और श्रीलंका के मध्य होते हैं, लेकिन बिखरे स्थानों में। हालांकि, हिंद महासागर के अधिकांश क्षेत्रों में ओलिव रिडले की उपमाओं को दुर्लभ माना जाता है।

जैसा कि उल्लेख किया गया है कि ओडिशा दुनिया भर में बंगाल की खाड़ी के साथ समुद्री तट पर मौसमी घोंसले के लिए ओलिव रिडले कछुओं (Lepidochelys olivacea) की मेजबानी के लिए जाना जाता है। यह वसंत (मार्च 2020), हालांकि, समुद्री संरक्षणवादियों और राज्य वन विभाग के लिए एक आश्चर्य की बात है, जिन्होंने लगभग सात वर्षों के बाद दिन के दौरान प्रजातियों को बड़े पैमाने पर घोंसले का निर्माण करते हुए देखा।
आइये इन चलचित्रों के माध्यम से इन सुन्दर उभयचरों द्वारा एक साथ बनाये गए घोंसलों पर एक नज़र ड़ालते हैं।

सन्दर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Olive_ridley_sea_turtle
https://www.youtube.com/watch?v=mwo-ZUM9PLk
https://www.youtube.com/watch?v=Tw3rIkWLFVg



RECENT POST

  • उत्तर प्रदेश सरकार का प्रतीक चिन्ह दो मछली कोरिया‚ जापान और चीन में भी है लोकप्रिय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-12-2021 09:42 AM


  • स्वतंत्रता के बाद भारत छोड़कर जाने वाले ब्रिटिश सैनिकों की झलक पेश करते दुर्लभ वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     05-12-2021 08:40 AM


  • भारत से जुड़ी हुई समुद्री लुटेरों की दास्तान
    समुद्र

     03-12-2021 07:46 PM


  • किसी भी भाषा में मुहावरें आमतौर पर जीवन के वास्तविक तथ्यों को साबित करती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 10:42 AM


  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id