कोरोना वायरस को ध्वस्त करने में क्या साबुन, हैंड सैनिटाइजर से बेहतर हैं?

जौनपुर

 08-04-2020 05:00 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

कोरोनावायरस (coronavirus) से बचाव के लिए हम सबको लाखों बार बताया गया है कि इसके संक्रमण को रोकने के लिए सबसे अच्छा तरीका है अपने हाथों को अच्छी तरह धोए। लेकिन क्यों? ऐसा इसलिए क्योंकि हमारे द्वारा हाथ धोने के लिए उपयोग किया जाने वाला नियमित साबुन, मनोहर मधु लवंग साबुन (Fragrant soap) या किसी भी प्रकार का साबुन किसी भी विषाणु का सफाया करने में कारगर सिद्ध होता है। वहीं केवल पानी से हाथ धोने से हमारी त्वचा से विषाणु के ध्वस्त होने की संभावनाएं कम होती है। दरसल साबुन दो तरफा अणुओं से बना होता है, जिसका एक पक्ष पानी के प्रति आकर्षित होता है तथा दूसरा पक्ष वसा के प्रति आकर्षित होता है। वहीं विषाणु प्रोटीन (protein) और वसा के आवरण से घिरे पदार्थ से बने होते हैं। जब साबुन इन वसायुक्त पदार्थों के संपर्क में आता है, तो यह उनके साथ जुड़ जाता है और उन्हें विषाणु से अलग कर देता है और इसके साथ ही साबुन त्वचा से विषाणु को भी हटा देता है। हालांकि हमें अपने हाथ धोने में अधिक समय देना चाहिए क्योंकि साबुन को विषाणु के प्रति प्रभाव दिखाने में समय लगता है, इसलिए कम से कम 20 सेकंड (second) के लिए अच्छी तरह से अपने हाथों को धोएं।

वहीं दूसरी ओर 62% अल्कोहॉल (alcohol) युक्त एक हैंड सैनिटाइजर (hand sanitizer) भी विषाणुओं में मौजूद वसा को नष्ट कर सकता है, लेकिन वे बिना आवरण वाले विषाणुओं (जैसे नोरोवायरस और राइनोवायरस) के विरुद्ध अप्रभावी होते हैं। इसके अलावा वे हाथों को साबुन से प्राप्त होने वाली सुरक्षा नहीं प्रदान करते हैं। साथ ही हैंड सैनिटाइजर तीन चुनौतियों का सामना करता है। सबसे पहले हैंड सैनिटाइजर के प्रभावी होने के लिए उसमें उच्च पर्याप्त अल्कोहॉल एकाग्रता होनी चाहिए, साथ ही इससे हाथों और उंगलियों में अच्छे से लगाकर उपयोग किया जाना चाहिए, इस प्रक्रिया में त्वचा में जलन भी हो सकती है, जो काफी स्वाभाविक है।

आप घर पर ही प्राकृतिक, सस्ता और सुगंधित खूबसूरत साबुन बना सकते हैं, साबुन बनाने की प्रक्रिया निम्नलिखित है :-
साबुन बनाने में प्रमुख घटक लाइ (जो सोडियम हाइड्रॉक्साइड (एक प्रकार का नमक) है) होता है। इसके बिना कोई भी वाणिज्यिक स्थान या घर पर साबुन नहीं बनाया जा सकता है। साबुन को अनिवार्य रूप से लाइ और तेलों के बीच की एक रासायनिक प्रतिक्रिया के माध्यम से बनाया जाता है और जब इस प्रतिक्रिया को संयुक्त किया जाता है, तो वह प्रक्रिया सैपोनिफिकेशन (saponification) कहलाती है। वहीं जब एक बार साबुन तैयार हो जाता है तो उसमें कोई शेष लाइ नहीं रह जाती है, उसमें बस केवल प्राकृतिक सामग्री जो साबुन बनाने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं मौजूद रहती है।

साबुन बनाने के लिए उपकरण और सामग्री निम्नलिखित है :-
उपकरण
• रसोई मापक
• जंगरोधी लोह तापमापी
• दस्ताने, रक्षात्मक चश्मा और चहरे के मास्क
• हाथ का सम्मिश्रक
• जंगरोधी लोह बर्तन
• कटोरे मिश्रण के लिए
• कप और चम्मच मापने के लिए
• जंगरोधी लोह चम्मच
• सिलिकॉन लेपनी
• साबुन बनाने का साँचा
• चर्मपत्र कागज
• तौलिया
सामग्री
• नारियल का तेल
• जैतून का तेल
• लाइ (सोडियम हाइड्रोक्साइड)
• कॉफ़ी
• कॉफ़ी की तलछट
• जई का भूसा

ध्यान रहें साबुन बनाने के लिए उपयोग किए गए बर्तनों को केवल साबुन बनाने के लिए ही रखे अन्य किसी भी चीज में उपयोग न करें।

अब इन सभी को रसोई मापक की मदद से नाप लें।
• नारियल का तेल – 240.4 ग्राम
• जैतून का तेल - 354 ग्राम
• कॉफी – 224 ग्राम
• लाइ – 91.3 ग्राम
• 1 बड़ा चम्मच कॉफी की तलछट और 1/3 कप जई का भूसा।

साबुन बनाने की प्रक्रिया को शुरू करने से पहले यह सुनिश्चित करें कि आप एक अच्छे हवादार क्षेत्र में हैं। इसके बाद सुरक्षात्मक रूप से कॉफी में लाइ मिलाएं और उन्हें तब तक मिश्रित करें जब तक ये पूरी तरह घुल नहीं जाते। थोड़ी ही देर में इनमें एक रासायनिक प्रतिक्रिया शुरू होने लगेगी और मिश्रण काफी गर्म हो जाएगा। तब इसे एक तरफ रख दें। इस प्रक्रिया को करते समय चश्मा और चहरे के मास्क (mask) को आप हटा सकते हैं, लेकिन हाथों में दस्ताने अवश्य पहने रखें। इसके बाद नारियल के तेल को कम आंच में पिघलाएं और जब वह अच्छी तरह पिघल जाएं तो उसमें जैतून के तेल को डाल दें। जंगरोधी लोह तापमापी (Anti-ferrous thermometer) से तेल और लाइ का तापमान तब तक नापें जब तक वे 100 या 110 डिग्री के भीतर समायोजित नहीं करते हैं। तभी तेल में लाइ का घोल डालें, और मिश्रण को गाढ़ा होने तक फेंटते रहें यानि जब तक मिश्रण हलवा जैसा न दिखाई दें। इस प्रक्रिया में यदि स्टिक ब्लेंडर का उपयोग करेंगे तो 5 से 10 मिनट का समय लगेगा।

एक बार जब साबुन का मिश्रण गाढ़ा हो जाएगा, तो चम्मच या स्पैटुला (spatula) से कॉफी के तलछट और जई के चोकर को मिश्रित करें। इसके बाद धीरे धीरे मिश्रण को साबुन के सांचे में डालें। मिश्रण में मौजूद किसी भी प्रकार के हवा के बुलबुले को हटाने के लिए साँचे को काउंटर (counter) में हल्का-हल्का मारे। चर्मपत्र कागज के साथ साँचे को ढकें, और फिर इसे संवाह करने के लिए पूरे साँचे को एक तौलिया के साथ लपेटें। 24 से 48 घंटों के बाद, तौलिया को हटा दें, और साबुन को साँचे से बाहर निकालें। यदि आपने अलग-अलग सांचों के बजाय एक बड़े सांचे का उपयोग किया है, तो किसी भी धारधार चाक़ू की मदद से साबुन को छोटे भागों में काटें। साबुन को छोटे भागों में काटने के बाद, आपको उन्हें किसी हवादार क्षेत्र में चार सप्ताह के लिए रखना होगा। यह साबुन को सैपोनिफिकेशन की प्रक्रिया को खत्म करने और सभी अतिरिक्त पानी को वाष्पित करने की अनुमति देता है।

संदर्भ :-
1.
https://www.vox.com/2020/3/18/21185262/how-soap-kills-the-coronavirus
2. https://www.weforum.org/agenda/2020/03/coronavirus-soap-covid-19-virus-hygiene/
3. https://www.goodhousekeeping.com/home/cleaning/a20705805/how-to-make-homemade-soap/
4. https://www.insider.com/why-soap-is-better-defense-against-coronavirus-than-hand-sanitizer-2020-3
चित्र सन्दर्भ:
1.
Pixabay.com - Handwash
2. Pixabay.com - Handwash
3. Pixseql.com - Handwash
4. Youtube.com - Hand soap DYI



RECENT POST

  • मुहर्रम समारोह का एक महत्वपूर्ण हिस्सा, ताज़िया के अनुष्ठानिक प्रदर्शन का इतिहास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: विश्व में हाथ से बुने वस्त्रों का 95 प्रतिशत भाग भारत से निर्यात किया जाता है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:58 AM


  • अंतरिक्ष से देखे गए हैं, कुछ सबसे बड़े ज्वालामुखी विस्फोट
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 11:57 AM


  • भारत में शून्य का आविष्कार बहुत प्राचीन है, जानिए चौथी शताब्दी इ.पूर्व के बख्शाली पाण्डुलिपि के बारे में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:27 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष:: क्यों है जौनपुर के लिए एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली बेहद जरूरी?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:17 AM


  • जौनपुर के पहले एटलस सहित कई ऐतिहासिक मानचित्र आज भी इतने मायने क्यों रखते हैं?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:17 PM


  • अपनी भव्यता और धार्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है, कैलाश पर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:13 PM


  • इस्लाम में ज्ञान के अधिग्रहण को सर्वोच्च महत्व दिया जाता है
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:05 AM


  • आर्थिक विकास हेतु भारत, प्राकृतिक संपदा बॉक्साइट के अकूत भंडार का लाभ उठा सकता है
    खदान

     01-08-2022 12:13 PM


  • हॉलीवुड के गीतों में भी दिखाई देता है बारिश का संयोजन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     31-07-2022 11:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id