भोजन के साथ साथ सम्मान के प्रतीक के रूप में भी प्रसिद्ध है रोहू

जौनपुर

 05-03-2020 01:00 PM
मछलियाँ व उभयचर

जौनपुर एक ऐसा जिला है जहां पांच प्रमुख नदियां बहती हैं। इन नदियों में कई जलीय जीव भी पाये जाते हैं जिनमें से रोहू मछली भी एक है। रोहू, रुई या रोहो लेबीओ (लबियो रोहिता - Labeo rohita) मछली की एक प्रजाति है जोकि कार्प (carp) परिवार से सम्बंधित है। यह मुख्य रूप से दक्षिण एशिया की नदियों में पाई जाती है। सर्वव्यापी होने के कारण इसे बड़े पैमाने पर जलीय पालन या एक्वाकल्चर (Aquaculture) के लिए उपयोग में लाया जाता है। यह आकार में बड़ी, तथा चांदी के रंग जैसी मछली है, जिसका सिर धनुषाकार होता है। रोहू पूरे उत्तरी, मध्य और पूर्वी भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और म्यांमार की नदियों में पायी जाती है जोकि मुख्य रूप से एक शाकाहारी मछली है। दक्षिण एशिया में रोहू को एक महत्वपूर्ण प्रजाति के रूप में देखा जाता है, क्योंकि इसका जलीय पालन आसानी से किया जा सकता है। रोहू को आमतौर पर बांग्लादेश, नेपाल, पाकिस्तान और भारतीय राज्यों त्रिपुरा, नागालैंड, बिहार, ओडिशा, असम, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश में भोजन के रूप में खाया जाता है।

फ्राइड रोहू (Fried rohu), रोहू से सम्बंधित एक महत्वपूर्ण व्यंजन है जिसका उल्लेख 13 वीं शताब्दी की व्यंजन की पुस्तक और संस्कृत विश्वकोश, मानसोलासा में मिलता है। इस व्यंजन को बनाने के लिए रोहू की त्वचा पर हींग और नमक लगाया जाता है। फिर इसे पानी में घोली हुई हल्दी में डुबाकर तला जाता है। मुगल साम्राज्य की बात करें तो यहां रोहू न केवल भोजन के रूप में बल्कि एक सम्मान के प्रतीक के रूप में भी महत्वपूर्ण थी। इस सम्मान को माही-मरातीब के नाम से जाना जाता है, जिसे मुगल साम्राज्य का सर्वोच्च सम्मान माना जाता था। इस सम्मान की मान्यता ठीक वैसी होती है जैसे कि भारत के सर्वोच्च सम्मान भारत-रत्न की और अन्य देश के प्रमुख सम्मान की। यह सम्मान प्रतिष्ठा, बहादुरी, और शक्ति का प्रतीक है जिसमें एक छड़ (pole) पर स्केल (scale) और लोहे के दांत के साथ रोहू मछली का बड़ा सा चेहरा लगा हुआ होता है। इसके पीछे एक लंबा कपड़ा लगा हुआ है जोकि रोहू के शरीर का प्रतीक है। जब हवा मछली के मुख से होते हुए जाती है तो यह कपड़ा लहराता है। इस सम्मान की पूरी संरचना को माही-ओ-मरातिब के नाम से जाना जाता है। यह सम्मान 1632 में मुग़ल शासक शाहजहां द्वारा पेश किया गया था किन्तु इसकी उत्पत्ति और भी पहले की बताई जाती है। इसकी उत्पत्ति के सन्दर्भ में कई मान्यताएं हैं जिनमें से एक के अनुसार इसकी उत्पत्ति दक्षिण भारत के हिन्दू राजाओं द्वारा की गयी थी। इस मान्यता को सहयोग शाहजहाँ के दरबारी अब्दुल हमीद लाहौरी द्वारा दिया गया था।

उत्तर भारत में शाही सम्मान के रूप में रोहू मछली का पहला ज्ञात सन्दर्भ सुल्तान ग़ियासुद्दीन तुग़लक़ के समय (1320-1324) का है। दक्षिण भारत में रोहू शासन के प्रतीक का महत्वपूर्ण हिस्सा रही है क्यों की वहां पर इसे भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार के साथ जोड़ा जाता है। अपने स्वाद और बाजार में अत्यधिक मांग के कारण रोहू मछली बहुत ही लोकप्रिय हो गयी है। यही कारण है कि वर्तमान में इसके जलीय पालन पर अत्यधिक ध्यान केंद्रित किया जा रहा है ताकि अधिक से अधिक रोहू की प्रजाति को उत्पादित किया जा सके। संसाधनों के बेहतर उपयोग के लिए मत्स्य पालन को कृषि, पशुपालन, और सिंचाई के साथ संयुक्त किया गया है जिसे एकीकृत मत्स्य पालन के नाम से जाना जाता है। रोहू मछली पालन के लिए सबसे पहले एक ऐसे तालाब का चयन किया जाता है जो बाढ़ संभावित क्षेत्र से दूर हो तथा इसकी जलीय धारण क्षमता पर्याप्त हो। तालाब में वह सारी सुविधा हो जो मछली की वृद्धि के लिए आवश्यक है। इसे शुरू करने के लिए तालाब में मौजूद उन सभी खरपतवारों, मलबे, मछली आदि को तालाब से बाहर निकाला जाता है, जो पहले मौजूद थी। सामान्यता रोहू तीन साल में परिपक्व हो जाती है। मादा रोहू लगभग 3 लाख अंडे देती है तथा अप्रैल से जुलाई का मौसम अंडे देने के लिए उपयुक्त होता है।

तालाब की मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाने के लिए तालाब में जैविक तथा अजैविक दोनों उर्वरकों का उपयोग किया जाता है। रोहू क्योंकि शाकाहारी है इसलिए तालाब में जलीय वनस्पतियों की सघनता होनी चाहिए ताकि रोहू को उचित पोषण प्राप्त हो सके। भोजन को ग्रहण करने की क्षमता मौसम, प्रजनन चक्र, मछली के आकार, पर्यावरण पर निर्भर करती है। परिपक्व अवस्था में भोजन को ग्रहण करने की क्षमता कम हो जाती है, किन्तु अंडे देने के बाद मछली भोजन को सक्रिय रूप से ग्रहण कर लेती है। उपयुक्त विधियों का अनुसरण करके प्रति हेक्टेयर औसतन करीब 4 से 5 टन मछलियां प्राप्त की जा सकती हैं। उपयुक्त विधियों के अनुसरण से तालाब के प्रति हेक्टेययर से 8 से 10 हजार मछलियां प्राप्त की जा सकती हैं। इस प्रकार 6 महीनों में मछलियों का औसत भार 750 ग्राम प्राप्त किया जा सकता है। इस हिसाब से मछलियों का कुल भार 6750 किलोग्राम होगा। रोहू के 1 किलोग्राम मीट की कीमत 60 रुपये है इसलिए 6750 किलोग्राम मीट की कीमत 4 लाख 5 हजार रुपये होगी। इस प्रकार रोहू मत्स्य पालन से 1,34,800 रुपये का लाभ कमाया जा सकता है।

सन्दर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Rohu
2. https://bit.ly/38rXvh4
3. https://bit.ly/2InozDz
चित्र सन्दर्भ:
1.
https://bit.ly/39nNMtu
2. https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Bangladeshi_Fish03.jpg



RECENT POST

  • भारत के हितों में गुटनिरपेक्ष आंदोलन का पुनरुद्धार और प्रभावशीलता
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     08-07-2020 06:48 PM


  • भारत में नवपाषाण स्वास्थ्य बदलाव
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:44 PM


  • सूफीवाद पर सबसे प्राचीन फारसी ग्रंथ : कासफ़-उल-महज़ोब
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:55 PM


  • जौनपुर की अद्भुत मृदा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:37 PM


  • आईएसएस को आपकी छत से देखा जा सकता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     04-07-2020 07:22 PM


  • भारत के दलदल जंगल
    जंगल

     03-07-2020 03:16 PM


  • शाश्वत प्रतीक्षा का प्रतीक है नंदी (बैल)
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:09 AM


  • शिल्पकारों के कलात्मक उत्साह को दर्शाती है पेपर मेशे (Paper mache) हस्तकला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:53 AM


  • इत्र उद्योग में जौनपुर का गुलाब
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:18 PM


  • अंतरिक्ष की निरंतर निगरानी के महत्व को रेखांकित करते हैं, क्षुद्रग्रह हमले
    खनिज

     30-06-2020 06:59 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.