उत्तरप्रदेश में संपूर्णतः सुशोभित है, अद्भुत बारहसिंगा

जौनपुर

 29-11-2019 12:00 PM
शारीरिक

भारत में जंगली पशुओं की बहुत अधिक विविधता पायी जाती है और यही कारण है कि यहां ऐसे जीव भी दिखने को मिलते हैं जो सभी को आश्चर्यचकित कर देते हैं। इसका सबसे अच्छा उदाहरण उत्तरी और मध्य भारत में पाया जाने वाला बारहसिंगा है जो उत्तरप्रदेश के राज्य पशु के रूप में भी सुशोभित है। इस जीव को दक्षिणी-पश्चिम नेपाल और अन्य स्थानों पर भी देखा जा सकता है हालांकि पाकिस्तान तथा बांग्लादेश जैसे कुछ क्षेत्रों में अब यह प्रायः विलुप्त हो गया है।

बारहसिंगा का सबसे विलक्षण अंग इसके सिर पर लगे सिंग हैं। वयस्क नर में इन सींगों की शाखाओं की संख्या 10-14 के बीच होती है और यही कारण हैं कि इन्हें बारहसिंगा के नाम से जाना जाता है, जिसका अर्थ है बारह सींग वाला। इसके सींग सामान्य सीगों की अपेक्षा अलग होते हैं, क्योंकि यह युग्मित तथा शाखाओं वाली संरचना है जो पूरी तरह से हड्डी से बनी होती है। इन्हें एंटीलर्स (Antlers) कहा जाता है जिनमें पानी और प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है।

पर्यावरणीय परिवर्तनों के परिणामस्वरूप इसकी संरचना भी बदलती जाती है। इसके विपरीत सामान्य सींग (Horns) अशाखित व अयुग्मित होते हैं तथा केराटिन (keratin) नामक पदार्थ द्वारा आवरित किए जाते हैं। यह स्थायी होते हैं तथा विभिन्न प्रजातियों में लगातार बढ़ते जाते हैं। बारहसिंगा के सिंगों में पाये जाने वाले प्रोटीन और अन्य उपयोगी तत्वों के कारण वर्तमान समय में इनकी मांग बहुत अधिक है।

बारहसिंगा प्रायः गंगा नदी के मैदानी इलाकों में बहुतायत में पाये जाते हैं जिस कारण इसे दलदली हिरण (Swamp deer) भी कहा जाता है। यह हिरण की एक प्रजाति है जिसकी ऊंचाई 44 से 46 इंच तक हो सकती है। शरीर पर प्रायः पीले या भूरे रंग के बाल पाये जाते हैं। तराई इलाकों में बारहसिंगा दलदलीय क्षेत्रों में रहता है और मध्य भारत में यह वनों के समीप स्थित घास के मैदानों में पाया जाता है। इसके अतिरिक्त यह उत्तर पूर्वी भारत के असम में भी पाया जाता है। असम में स्थित काज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में यह पशु आसानी से देखा जा सकता है। हालांकि कुछ स्थानों पर यह पहले पाया जाता था किंतु अब प्रायः विलुप्त हो गया है।

भारत में बारहसिंगा की मुख्य रूप से तीन उप-प्रजातियां पायी जाती हैं जिन्हें संकटग्रस्त जीव की श्रेणी में रखा गया है। इन प्रजातियों को वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 की अनुसूची I के तहत शामिल किया गया है। मध्य प्रदेश स्थित कान्हा नेशनल पार्क जोकि 940 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है, में भी इस जीव के संरक्षण के प्रयास किए जा रहे हैं। यह उद्यान न केवल भारत के सबसे बड़े राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है, बल्कि इसे एशिया के सर्वश्रेष्ठ वन्यजीवों के खजाने में से एक माना जाता है जिनमें बारहसिंगा भी शामिल है।

बढते शिकार, आवास, घास के मैदानों की कमी तथा भोजन की अनुपलब्धता आदि ऐसे कारक हैं जिनकी वजह से इस जीव की संख्या बहुत कम हो चुकी है तथा इसे संकटग्रस्त श्रेणी में रखा गया है। इसके संरक्षण के लिए उन अभ्यारण्यों जहां ये जीव पाये जाते हैं, में संरक्षण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। बारहसिंगा की आबादी को बचाने के लिए 1954 में बारहसिंगा के लाइसेंस (License) प्राप्त शिकार पर प्रतिबंध लगा दिया गया था किंतु यह प्रतिबंध उन शिकारियों के खिलाफ अत्यधिक अप्रभावी था जिनके पास लाइसेंस नहीं था। ऐसे शिकारियों की संख्या लाइसेंस प्राप्त शिकारियों की तुलना में बहुत अधिक थी।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Barasingha
2. https://bit.ly/2R1Qi28
3. https://bit.ly/2XWWWbp
4. https://bit.ly/35JhtD1
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://bit.ly/2sscKHI
2. https://pxhere.com/en/photo/431057
3. https://www.flickr.com/photos/internetarchivebookimages/14749405642
4. https://bit.ly/2rENxsV
5. https://www.pexels.com/photo/brown-deer-2014947/
6. https://www.pexels.com/photo/brown-deer-1634094/
7. https://www.flickr.com/photos/sankaracs/5845654857



RECENT POST

  • मुहर्रम समारोह का एक महत्वपूर्ण हिस्सा, ताज़िया के अनुष्ठानिक प्रदर्शन का इतिहास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: विश्व में हाथ से बुने वस्त्रों का 95 प्रतिशत भाग भारत से निर्यात किया जाता है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:58 AM


  • अंतरिक्ष से देखे गए हैं, कुछ सबसे बड़े ज्वालामुखी विस्फोट
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 11:57 AM


  • भारत में शून्य का आविष्कार बहुत प्राचीन है, जानिए चौथी शताब्दी इ.पूर्व के बख्शाली पाण्डुलिपि के बारे में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:27 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष:: क्यों है जौनपुर के लिए एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली बेहद जरूरी?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:17 AM


  • जौनपुर के पहले एटलस सहित कई ऐतिहासिक मानचित्र आज भी इतने मायने क्यों रखते हैं?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:17 PM


  • अपनी भव्यता और धार्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है, कैलाश पर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:13 PM


  • इस्लाम में ज्ञान के अधिग्रहण को सर्वोच्च महत्व दिया जाता है
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:05 AM


  • आर्थिक विकास हेतु भारत, प्राकृतिक संपदा बॉक्साइट के अकूत भंडार का लाभ उठा सकता है
    खदान

     01-08-2022 12:13 PM


  • हॉलीवुड के गीतों में भी दिखाई देता है बारिश का संयोजन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     31-07-2022 11:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id