कीटनाशकों और मानव गतिविधियों की चपेट में आ रहे हैं हरियल कबूतर

जौनपुर

 09-09-2019 12:14 PM
पंछीयाँ

कई वर्षों से मनुष्य अपने स्वार्थ के लिए प्रकृति के साथ लगातार छेड़छाड़ करता आ रहा है। जिसके दुष्परिणाम भी हमें दिखाई देने लगे हैं। हम सब इस बात से तो अच्छी तरह परिचित हैं कि पर्यावरण को संतुलित रखने में पेड़-पौधों के साथ ही पशु-पक्षियों की भूमिका भी अहम होती है। लेकिन मनुष्य के अत्यधिक हस्तक्षेप के चलते इन सबकी संख्या कम होती जा रही है। ऐसी ही कुछ स्थिति महाराष्ट्र के राज्य पक्षी, हरियल कबूतर (ट्रेरन फॉनीकॉप्टेरा (Treron phoenicoptera)) की है।

आमतौर पर, हरियल कबूतर झुंड में सड़क के किनारे पीपल और बरगद के पेड़ों पर पाए जाते हैं, लेकिन भोजन की तलाश में ये उड़ते हुए शहरों के बगीचों में भी देखे जाते हैं।
ये पक्षी अधिकतर फलों का सेवन करते हैं, लेकिन कीटनाशकों का अत्यधिक प्रयोग, सड़क चौड़ीकरण में फल-फूल वाले पेड़ों की कटाई और शहर में व्यापक निर्माण गतिविधियों के कारण ये पक्षी विलुप्त होने की स्थिति में आ सकते हैं। वैसे तो इन्हें वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 के अंतर्गत अनुसूची – IV (यानी कम चिंताजनक स्थिति) में वर्गीकृत किया गया है।

हरियल कबूतर सामाजिक पक्षी होते हैं और ये कई पक्षियों के झुंड में रहते हैं और इन का सबसे छोटा समूह 5 से 10 पक्षियों का होता है। ये पक्षी ज़मीन पर बहुत कम उतरते हैं तथा अक्सर पेड़ों पर और ऊंचे स्थानों पर ही बैठते हैं।

हरियल कबूतर का आकार 29 से 33 सेंटीमीटर तक होता है तथा इसका वज़न मात्र 225 से 260 ग्राम के बीच होता है। इनके पंखों का फैलाव 17 से 19 सेंटीमीटर लंबा होता है और इनके शरीर का रंग हल्का पीला-हरा होता है। वहीं इनके सर के ऊपर हल्के नीले भूरे रंग के बाल होते हैं, उनके कंधों पर बैगनी रंग का पैच (Patch) और पंखों में एक विशिष्ट पीले रंग की पट्टी होती है। हरियल कबूतर के पैर चमकीले पीले रंग के होते हैं जिसकी वजह से इन्हें आसानी से पहचाना जा सकता है। हरियल कबूतर अपना घोंसला तिनकों और पत्तियों से पेड़ों और झाड़ियों में बनाते हैं और यह एक प्रजनन काल में एक से दो अंडे ही देते हैं, इन अंडो का रंग चमकीला सफेद होता है। अंडे से बच्चे 21 से 25 दिनों में बाहर आते हैं। इस अवधि के दौरान नर भोजन की व्यवस्था करता है और घोंसले के पास रहता है। वहीं मादा भी केवल सुबह धूप लेने के लिए घोंसले से बाहर निकलती है।

हरियल कबूतर हमारे भारत के अलावा श्रीलंका, बर्मा, पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश, चीन, थाईलैंड, कंबोडिया आदि देशों में भी पाया जाता है। यह केवल सिंध, बलूचिस्तान और रेगिस्तानी इलाकों को छोड़कर पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाता है।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/316tNMq
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Green_pigeon
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Yellow-footed_green_pigeon
4. https://bit.ly/2m7WDvN



RECENT POST

  • भारत की सबसे तीखी मिर्च भूत झोलकिया (Bhut Jholokia)
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-01-2021 11:05 AM


  • क़दम-ए-रसूल (अरबी: قدم الرسول) पैगंबर हज़रत मोहम्मद के पवित्र पदचिन्ह
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     23-01-2021 12:26 PM


  • भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन और विश्व युद्ध
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:41 PM


  • पशुधन और मुर्गीपालन क्षेत्रों पर लॉकडाउन का प्रभाव
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:53 AM


  • यदि भुगतान क्षमता के नजरिए से देखें तो भारत का यातायात जुर्माना विश्व में सबसे अधिक है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 12:15 PM


  • भारतीय नागरिकता से संबंधित कुछ विशेष पहलू
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:36 PM


  • सदियों पुराना है सोने के प्रति भारतीयों के प्रेम का इतिहास
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:52 PM


  • जीवन का असली आनंद है, दूसरों को खुशी देना
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 11:57 AM


  • सारण में ‘छनना’ के निर्माता हुए महामारी से प्रभावित
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:34 PM


  • मन और आत्मा को शुद्ध करने का साधन हैं, इस्लामिक कला के ज्यामितीय और संग्रथित प्रतिरूप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id