पटसन भू–वस्‍त्र की बढ़ती उपयोगिता

जौनपुर

 02-07-2019 10:29 AM
स्पर्शः रचना व कपड़े

आज पर्यावरण सुरक्षा विश्‍व के लिए एक संवेदनशील मुद्दा बनता जा रहा है। जगह-जगह पर्यावरण संरक्षण की बात की जा रही है। पर्यावरण को हानि पहुंचाने में कृत्रिम संसाधनों का सबसे बड़ा योगदान रहा है। जिस कारण अब लोग कृत्रिम से प्राकृतिक संसाधनों की ओर रूख कर रहे हैं। ऐसे में भारत के पुराने उद्योगों में से एक जूट उद्योग को एक बार फिर से उभरने का अवसर मिल गया है, इसके बहुमुखी लाभों के कारण लोग इसे पर्यावरण संरक्षण हेतु एक आदर्श विकल्‍प के रूप में देख रहे हैं।

वास्‍तव में अब तक जूट से अधिकांशतः पैकेजिंग के बैग (Packaging Bag) तैयार किए जाते थे। किंतु पटसन भू वस्त्रों (जूट जियोटेक्सटाइल (Jute geotextiles-JGT)) के प्राकृतिक लाभों को देखते हुए अब बहुमुखी क्षेत्रों में इसका उपयोग करने का प्रयास किया जा रहा है। पिछले कुछ अध्‍ययनों में पाया गया है कि सिविल इंजीनियरिंग (Civil Engineering), मिट्टी का कटाव नियंत्रण और नदी के किनारे की सुरक्षा जैसे कई क्षेत्रों में पटसन भू-वस्त्र कृत्रिम भू-वस्त्र की तुलना में ज्‍यादा उपयोगी सिद्ध हो रहे हैं। JGT ‘गीली घास’ के समान आर्द्रता को बनाए रखता है तथा विभिन्‍न वनस्‍पतियों के पुनः उत्‍पादन और वृद्ध‍ि में सहायक सिद्ध होता है। इसके साथ ही यह वनों के अभाव में कमज़ोर पड़ी मृदा को सामर्थ्‍य प्रदान करता है।

पटसन भू वस्त्रों का तकनीकी लाभ और कम उत्‍पादन लागत होने के बावजूद भी कुल भू-वस्‍त्र उद्योग में इसका 1% से भी कम उपयोग किया जाता है। सिविल इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों के लिए पटसन भू-वस्‍त्र का तकनीकी मूल्यांकन किया गया जिसमें पाया गया कि कृत्रिम भू-वस्‍त्र की बजाय पटसन भू-वस्‍त्र का उपयोग करके लागत पर 35% -50% तक का लाभ प्राप्त किया जा सकता है।
इसके निर्माण की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार है:
सर्वप्रथम जूट के तंतुओं को पायसन (तेल और पानी का मिश्रण) के माध्‍यम से नरम और लचीला बनाया जाता है, जिसके लिए सॉफ़्नर मशीन (Softener machine) का उपयोग किया जाता है। इन तंतुओं के निचले सिरे से कठोर हिस्‍सा अलग करने के बाद इसे 2-3 बार कार्डिंग (Carding) के माध्‍यम से संशोधित किया जाता है। जिससे उलझे अव्‍यवस्थित तंतु, सुलझे हुए टुकड़ों में परिवर्तित हो जाते हैं। इन्‍हें फिर पतला और समांतर किया जाता है। कताई फ्रेम (Frame) के माध्यम से इन टुकड़ों को अलग-अलग धागों में परिवर्तित किया जाता है। अब इन धागों की एक रील (Reel) तैयार की जाती है, अंततः बीमिंग मशीन (Beam machine) में ताना धागे तथा कॉप वाइंडिंग मशीन (Cop Winding Machine) में बाना धागे तैयार किए जाते हैं। पटसन भू-वस्‍त्र के निर्माण हेतु करघे में ताना-बाना धागों को बुना जाता है।

पटसन भू-वस्‍त्र दो प्रकार के होते हैं, बुने हुए और बिना बुने हुए। बिना बुने हुए वस्‍त्रों को अपशिष्ट जूट के टुकड़े से तैयार किया जाता है। इन्‍हें गार्नेटिंग कम क्रॉस लैपिंग मशीन (Garneting cum cross lapping machine) में डाला जाता है, जहां इन्‍हें तंतुओं में विभाजित कर दिया जाता है। फिर जूट से तैयार वस्‍तुओं को मज़बूती प्रदान करने के लिए इन्‍हें इनमें जोड़ दिया जाता है। इसकी संपूर्ण प्रक्रिया को इस चार्ट में दर्शाया गया हैं:
इसकी पर्यावरण अनुकूलता देखते हुए इसके उपयोग और उत्‍पदकता को बढ़ाने की सख्‍त आवश्‍यकता है। इसके साथ ही जूट के उत्‍पादन में वृद्धि कृषकों की आय और इसके उद्यमियों के व्‍यवसाय को बढ़ाने में भी सहायक सिद्ध होगी।

संदर्भ:
1. http://www.indiantextilejournal.com/articles/FAdetails.asp?id=4364
2. https://jute.com/web/guest/products-suppliers/jute-geo-textile
3. http://dda.org.in/cee/IRC/IRC6.pdf
4. https://bit.ly/2LqKZGZ



RECENT POST

  • अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रही है जादुई प्रदर्शन कला
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-07-2020 11:13 AM


  • भारतीय संकरे सिर और मुलायम खोल वाले कछुए
    रेंगने वाले जीव

     15-07-2020 06:08 PM


  • क्या रहा समयसीमा के अनुसार, अब तक प्रारंग और जौनपुर का सफर
    शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

     14-07-2020 07:15 PM


  • जौनपुर के सोने के सिक्के
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     14-07-2020 05:00 PM


  • जौनपुर के शाही किले का इतिहास और वास्तुकला का विवरण
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-07-2020 04:45 PM


  • चीनी बेर परियों का नृत्य
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     12-07-2020 02:42 AM


  • खरोष्ठी भाषा का उद्भव
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-07-2020 05:29 PM


  • अत्यधिक रंजित मोम का स्राव करते हैं लाख या लाह कीट
    तितलियाँ व कीड़े

     10-07-2020 05:34 PM


  • भारत के हितों में गुटनिरपेक्ष आंदोलन का पुनरुद्धार और प्रभावशीलता
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     08-07-2020 06:48 PM


  • भारत में नवपाषाण स्वास्थ्य बदलाव
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:44 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.