क्या हैं सार्वजनिक स्‍थानों पर तस्‍वीरें लेने की सीमाएं?

जौनपुर

 03-06-2019 11:30 AM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

अक्‍सर लोग किसी भी विशिष्‍ट स्‍थान पर जाते हैं, तो उनका पहला काम होता है, उसकी तस्‍वीर लेना। और ऐसा हो भी क्‍यों न, अब हर दूसरे व्‍यक्ति के पास कैमरा (Camera) या कैमरा फोन (Camera Phones) जो होता है। आज हमारे जौनपुर शहर में भी अधिकांश लोगों के पास कैमरा उपलब्‍ध है। तथा हर कोई अपनी यादों को इसमें कैद करना चा‍हता है, इसके लिए कोई प्रतिबंध भी नहीं है। किंतु कुछ उपद्रव्‍य इस स्‍वतंत्रता की आड़ में कुछ लोगों की उनकी इच्‍छा के विरूद्ध तस्‍वीरें ले लेते हैं तथा उनका दुरूपयोग करते हैं। क्‍या हमारे देश में इस प्रकार की तस्‍वीरें लेना अवैध है तथा अन्‍य देशों में इस प्रकार की गतिविधियों के लिए क्‍या व्‍यवस्‍था है?

हाल ही में मुबंई के एक फोटोग्राफर (Photographer) ने सूचना के अधिकार के माध्‍यम से एक प्रश्‍न किया कि क्‍या हमारे देश में सार्वजनिक स्‍थानों पर तस्‍वीर लेना अवैध है? जवाब आया नहीं। क्‍योंकि हमारे देश में शुद्ध रचनात्मक गतिविधियों और निजता का उल्लंघन करने वाले कानून को अलग से भली भांति परिभाषित नहीं किया गया है। लेकिन यदि कोई व्‍यक्ति जानबूझकर अनैतिक तरीके से किसी की तस्‍वीर लेता है, तो उसे उत्‍पीड़न की श्रेणी में रखा जाएगा। किसी सार्वजनिक क्षेत्र में ली जाने वाली तस्‍वीर में अनजाने में आए लोगों की तस्‍वीर आपके लिए खतरा नहीं है किंतु यदि यही काम आप जानबूझकर करते हैं तो आपको कानून के कटघरे में खड़ा किया जा सकता है।

अमेरिका में स्‍ट्रीट फोटोग्राफी (Street photography) करने से पहले निम्‍न सात बिंदुओं को ध्‍यान में रखना अनिवार्य होता है:
1. यदि आप अपनी स्‍ट्रीट फोटोग्राफी को, फोटोग्राफी के लाइसेंस के माध्‍यम से व्‍यसायिक रूप से उपयोग कर रहे हैं तो आपको किसी विशेष अनुमति की आवश्‍यकता नहीं होगी। ध्‍यान रहे कि इसमें किसी की निजता का हनन ना हो।
2. यदि आप सार्वनजिक स्‍थल पर खड़े होकर किसी व्‍यक्ति की अनुमति के बीना उसके व्‍यक्तिगत स्‍थान (बैडरूम या बाथरूम (Bedroom or bathroom)) या स्‍वयं उस व्‍यक्ति की तस्‍वीर लेते हैं, तो कानूनी कार्यवाही की जा सकती है।
3. एक फोटोग्राफर के रूप में आपको सार्वजनिक स्‍थानों पर सर्वाधिक अधिकार प्राप्‍त हैं, आप यहां वे सभी तस्‍वीरें ले सकते हैं, जिससे किसी का निजी जीवन या संपत्ति प्रभावित न होती हो।
4. अक्‍सर लोग शॉपिंग मॉल (Shopping Mall), मनोरंजन पार्क, हवाई जहाज़, थिएटर (Theatre) आदि को सार्वजनिक स्‍थल मानने लगते हैं किंतु यह क्षेत्र निजी संपत्ति के दायरे में भी आते हैं, जहां तस्‍वीरें लेना वर्जित हो सकता है। इस प्रकार के स्‍थानों में तस्‍वीर लेने से पूर्व पूर्ण जानकारी प्राप्‍त कर लें। हालांकि ऐसे स्‍थानों में फोटोग्राफी के लिए आवश्‍यक निर्देश लगे होते हैं।
5. यदि सार्वजनिक क्षेत्रों में आपकी फोटोग्राफी के दौरान किसी भी प्रकार की सार्वजनिक या प्रशासनिक गतिविधियां बाधित होती हैं, तो ऐसे स्‍थानों में आपका तस्‍वीर लेना वर्जित हो सकता है।
6. 9/11 की घटना के बाद से विश्व सुरक्षा की दृष्टि से अत्‍यधिक संवेदनशील हो गया है, ऐसी स्थिति में आपकी फोटोग्राफी के दौरान यदि आपसे किसी प्रकार की कानूनी पूछताछ की जाती है तो निर्भय होकर उन्‍हें अपने फोटो खींचने का उद्देश्‍य बता दें।
7. आपके पास अपनी उन स्‍ट्रीट फोटोग्राफी को प्रदर्शित करने और बेचने की अनुमति है, जिनकी ओर लोगों का रूझान हो।

इस प्रकार अमेरिका में किसी की निजता को हानि पहुंचाए बिना आप सार्वजनिक तस्‍वीरें ले सकते हैं। हम भारत में भी इस प्रकार के नियमों को अपनाकर कुछ परिवर्तन कर सकते हैं। भारत में एक समय पर जिम (Gyms), डिपार्टमेंटल स्टोर (Departmental store), ड्रेसिंग रूम (Dressing rooms) और लॉकर रूम (Locker rooms) जैसी जगहों में लोग बिना सोचे समझे कैमरों का उपयोग कर रहे थे तथा लोगों की अनुमति के बिना उनकी आपत्तिजनक तस्‍वीरें लेकर, उनका उपयोग इंटरनेट (Internet) पर अनैतिक तरीके से कर रहे थे, जो व्‍यक्ति की निजता के अधिकार पर कड़ा प्रहार था।

इस प्रकार की घटनाओं को देखते हुए सितंबर 2004 में कांग्रेस (भारतीय नहीं बल्कि विदेशी कांग्रेस) द्वारा वीडियो वॉयरिज्म प्रिवेंशन एक्ट (Video Voyeurism Prevention Act) पारित किया जिसके तहत यदि कोई उपरोक्‍त स्‍थानों में कैमरे का उपयोग कर आपत्तिजनक तस्‍वीरें लेता है तो उसे लगभग 70 लाख का जुर्माना और एक साल की सज़ा हो सकती है। कभी भी बिना किसी की अनुमति के लोगों की फोटो न लें। यदि आप किसी को आपकी अनुमति के बिना आपकी तस्वीर लेते हुए देखते हैं, तो उसे रोकना आपका अधिकार है। यदि आप इसमें असमर्थ होते हैं, तो तुरंत पुलिस से संपर्क करें। और ड्रेसिंग रूम जैसी जगहों पर विशेष जागरूकता बरतें।

संदर्भ:
1. https://www.quora.com/Is-it-legal-in-India-to-take-someones-photo-without-his-her-permission
2. https://bit.ly/312LkVz
3. https://www.legalzoom.com/articles/smile-youre-on-my-cell-phone-camera-phones-and-privacy
4. https://www.clickinmoms.com/blog/street-photography-and-the-law-7-things-you-need-to-know/



RECENT POST

  • अर्थव्यवस्था के उदारीकरण और चल रहे वैश्वीकरण में शहरी विकास प्राधिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:40 AM


  • चंदन की व्यापक खेती द्वारा चंदन की तीव्र मांग को पूरा किया जा सकता है।
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:33 AM


  • कड़े संघर्षों के पश्चात मिलता है गिद्धराज का ताज
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवापंछीयाँ

     28-07-2021 10:18 AM


  • मॉनिटर छिपकली बनी युद्ध में मुगल सम्राट औरंगजेब की पराजय का एक कारण
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:07 AM


  • कैसे हुआ आधुनिक पक्षी का दो पैरों वाले डायनासोर के एक समूह से चमत्कारी कायापलट?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:40 AM


  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM


  • दुनिया भर में साम्प्रदायिक एकता की मिसाल पेश करते हैं गुरूद्वारे
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-07-2021 10:44 AM


  • दर्शनशास्त्र के केंद्रीय विषयों में से एक ‘सत्य’ वास्तव में क्या है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-07-2021 09:44 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id