बौद्ध काल में मछिका खंड के नाम से जाना जाता था मछलीशहर

जौनपुर

 04-02-2019 04:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

मछलीशहर जौनपुर के प्राचीन शहरों में से एक है, जिसके तार बौद्ध धर्म से जुड़े हैं। यह शहर जौनपुर का ऐतिहासिक और व्यापारिक स्थान है तथा इस को तहसील का दर्जा प्राप्त है। मछलीशहर जौनपुर से 30 कि.मी. दूर पश्चिम में स्थित है और राष्ट्रीय राजमार्ग 231 इसी शहर से होकर गुजरता है। वर्तमान में यहां मछलीशहर—जंघई—भदोही चार—लेन हाईवे (Four-Lane Highway) निर्माणाधीन है, जिससे इस क्षेत्र के विकास को गति मिलेगी। 2011 की जनगणना के अनुसार, मछलीशहर की जनसंख्या 26,107 (51% पुरूष तथा 49% महिलाएं) थी और यहां की साक्षरता दर 77.43% थी। यह शहर हिन्दू और मुसलमान में आपसी तालमेल के लिए प्रसिद्ध है तथा यहां होली, दिपावली तथा ईद जैसे त्यौहार बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाए जाते हैं।

मछलीशहर के इतिहास की बात करें तो कुछ लोगों का कहना है कि पहले के लोग इसे मझले शहर के नाम से जानते थे, और बाद में इसका नाम मछलीशहर हो गया था। हालांकि इसके कोई ठोस साक्ष्य प्राप्त नहीं होते। यह एक प्राचीन नगर है जिसे बौद्ध काल में ‘मच्छिका खंड’ के नाम से जाना जाता था। यह उस दौरान भगवान गौतम बुद्ध सहित बुद्धवादी भिक्षुओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले सक्रिय स्थानों में से एक था और यह स्थान गौतम बुद्ध को बहुत प्रिय था। यहां की पुरानी धरोहरों में कई ऐतिहासिक मस्जिद, इमामबाड़ा और पुराने मकबरे, पुराजुझारू राय के खेमनाथ स्थान का पाषाण स्तम्भ, कंजारी पीर का मन्दिर आदि पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण है। आज भी यहां सुल्तान हुसैन शाह शर्की द्वारा बनवाया गया जामा मस्जिद मौजूद है।

ऐसा माना जाता है कि मछलीशहर को पहले ‘घिसुवा’ के नाम से भी जाना जाता था और यह नाम भर राज्य के एक मशहूर व्यक्ति घीसू के नाम पर पड़ा था। घीसू को तालाब बनवाने का शौक था, इसलिए यहां बहुत सारे तालाब हैं। एक अन्य किंवदन्ती के अनुसार यहां के एक सूफी फकीर ने शर्की बादशाह को एक मछली भेंट की थी जो उस शर्की बादशाह के लिए बहुत शुभ साबित हुई तथा जब उस शर्की बादशाह का राज्य स्थापित हुआ तो इस शहर का नाम मछलीशहर रखा गया और साथ ही साथ यह शहर उस दौरान मछलियों का प्रजनन केन्द्र भी बन गया।

18वीं शताब्दी में इस शहर पर फतेह मोहम्मद उर्फ शेख मंगली मियाँ ने अपना अधिपत्य कायम करके ईदगाह तथा कटाहत नमक स्थान में एक किले का निर्माण कराया था। आज यह किला खंडहर हो चुका है। यहां मौलवी अब्दुल शकूर ने 1857 में कई छोटी-छोटी मस्जिदों का निर्माण करवाया था तथा कई मस्जिदें ज़मींदार मुहम्मद नूह द्वारा भी बनवाई गई थी। आज भी यहां पर कई सूफी संतों की निशानियां, क़ब्रों और मज़ारों के रूप में मिला करती हैं। यहां का पुराना किला जिसमें फौजदार रहते थे, बाद में तहसील कार्यालय के रूप में परिवर्तित कर दिया गया था। इस शहर की एक विचित्र बात यह है कि ऐतिहासिक और व्यापारिक स्थान होने के बावजूद भी यहां पर कोई रेलवे स्टेशन (Railway Station) नहीं है। यहां के लोगों को ट्रेन पकड़ने के लिये यहां से 20-25 किलोमीटर दूर जंघई स्टेशन जाना पड़ता है।

संदर्भ:
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Machhali_Shahar
2.https://www.jaunpurcity.in/2016/11/oldest-city-machhali-shahar-was-known.html
3.https://www.hamarajaunpur.com/2016/10/blog-post_28.html
4.http://apnajaunpur.blogspot.com/2016/01/blog-post_36.html



RECENT POST

  • भारत से जुड़ी हुई समुद्री लुटेरों की दास्तान
    समुद्र

     03-12-2021 07:46 PM


  • किसी भी भाषा में मुहावरें आमतौर पर जीवन के वास्तविक तथ्यों को साबित करती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 10:42 AM


  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM


  • विश्व सहित भारत में आइस हॉकी का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:13 AM


  • प्राचीन भारत में भूगोल की समझ तथा भौगोलिक जानकारी के मूल्यवान स्रोत
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id