रमदान और रेगिस्तान के खजूर

जौनपुर

 01-06-2018 12:44 PM
मरुस्थल

वर्तमान में रमदान का महीना चल रहा है। इस समय में खजूर एक प्रमुख भोज्य पदार्थ के रूप में खाया जाता है। जौनपुर के पुराने बाजार से लेकर सदर रोड तक अनेकों दुकानें खजूर से भरे ठेले लिए दिखाई दे जाती हैं। खजूर आखिर आता कहाँ से है और यह इस्लाम में कैसा माना जाता है यह जानना अत्यंत आवश्यक है। खजूर मध्य पूर्व का एक प्रमुख फल है जिसकी खेती वहां पर हजारों वर्षों से की जा रही है। परंपरागत रूप से यह माना जाता है कि खजूर ही वह फल है जिसको मुहम्मद ने अपना उपवास तोड़ने के लिए खाया था। रमदान की अवधि के दौरान उपवास सूर्योदय से सूर्यास्त तक रहता है। ऐसे में शरीर हल्की स्वास्थ्य समस्याओं जैसे सिरदर्द, कम रक्त शर्करा और सुस्ती से अस्वस्थ हो जाता है। ऐसी समस्याओं से बचने के लिए उपवास के समाप्त होने पर खाने का खास ध्यान रखा जाता है।

खजूर फाइबर, चीनी, मैग्नीशियम (Magnesium), पोटेशियम (Potassium), कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) का एक उत्कृष्ट स्रोत है जो स्वास्थ्य को बनाए रखने में शरीर की सहायता करता है। खजूर में पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट फल को धीमा पाचन भोजन भी बनाते हैं, जो तला हुआ या वसा से भरपूर खाद्य पदार्थों से काफी बेहतर होता है। इस प्रकार से हम देख सकते हैं कि खजूर शरीर के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। खजूर एक मरुस्थल में उत्पादित होने वाला फल है जो कि मुख्यरूप से मरुस्थल में ही पाया जाता है। भारत में मध्य पूर्वी देशों से बड़ी मात्रा में खजूर मंगाया जाता है। मरुस्थल से मानव जीवन में प्रयोग में लायी जाने वाली कई वस्तुओं का जन्म होता है तथा मरुस्थलों का पृथ्वी के वातावरण में भी एक अहम स्थान है।

मरुस्थलों का निर्माण हवा के बहाव के कारण होता है। एक मत के अनुसार पहाड़ों द्वारा वर्षा को रोक लिए जाने के कारण उनके पार का हिस्सा अत्यंत सूखा हो जाता है और वहां पर मरू भूमि का निर्माण हो जाता है। दूसरे मत के अनुसार हवाएं जब विभिन्न चोटियों को लगती हैं तो इस से चोटियों से घिस-घिस कर बालू आस पास फ़ैल जाता है तथा इससे मरुस्थल बलुए हो जाते हैं। सामान्यतया मरुस्थल पानी से दूर पाए जाते हैं लेकिन ये पानी के श्रोत के पास भी बन सकते हैं। भारत में थार के अलावा ठन्डे मरुस्थल भी पाए जाते हैं। ये लद्दाख, जम्मू और कश्मीर में पाए जाते हैं। भारत में राजस्थान के अलावा गुजरात, पंजाब, हरयाणा, आँध्रप्रदेश और कर्नाटक में भी मरुस्थल पाए जाते हैं। ये मरुस्थल गर्म मरुस्थल के रूप में जाने जाते हैं।

1. https://www.quora.com/What-is-the-strategic-importance-of-desert-for-india
2. https://www.importantindia.com/26228/desert-meaning/
3. https://www.muslimaid.org/media-centre/blog/dates-the-staple-food-item-in-ramadan/
4. https://food.ndtv.com/food-drinks/during-ramadan-dates-are-a-unifying-staple-772851



RECENT POST

  • जौनपुर सहित देशभर की ग्रामीण शिक्षा प्रणाली में क्रांति ला सकती है, डिजिटल शिक्षा प्रणाली
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     13-08-2022 10:21 AM


  • ऑस्ट्रेलिया में इतने अनूठे जानवर क्यों रहते हैं?
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:21 AM


  • पौराणिक कथाओं में श्रावण मास की पूर्णिमा को श्रावणी, सावनी, सलूनो या रक्षाबंधन मनाने का महत्‍व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     11-08-2022 10:18 AM


  • सबसे प्राचीन माना जाता है मराठी साहित्य, भक्ति आंदोलन से मराठी कविताएंपहुंची देश भर में
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 09:59 AM


  • मुहर्रम समारोह का एक महत्वपूर्ण हिस्सा, ताज़िया के अनुष्ठानिक प्रदर्शन का इतिहास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: विश्व में हाथ से बुने वस्त्रों का 95 प्रतिशत भाग भारत से निर्यात किया जाता है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:58 AM


  • अंतरिक्ष से देखे गए हैं, कुछ सबसे बड़े ज्वालामुखी विस्फोट
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 11:57 AM


  • भारत में शून्य का आविष्कार बहुत प्राचीन है, जानिए चौथी शताब्दी इ.पूर्व के बख्शाली पाण्डुलिपि के बारे में
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:27 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष:: क्यों है जौनपुर के लिए एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली बेहद जरूरी?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:17 AM


  • जौनपुर के पहले एटलस सहित कई ऐतिहासिक मानचित्र आज भी इतने मायने क्यों रखते हैं?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:17 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id