मानव का भविष्य और पर्यावरण में होने वाली समस्याएं

जौनपुर

 01-04-2018 09:21 AM
जलवायु व ऋतु

वैश्विक पर्यावरण परिवर्तन इतनी तेजी से हो रहा है कि यह स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है और मानव सहित कई पृथ्वी के निवासियों के भविष्य को खतरे का संकेत दे रहा है। ग्लोबल वॉर्मिंग; वायु, पानी और मिट्टी के प्रदूषण; और बड़े पैमाने पर वनों की कटाई से जैवविविधता में गिरावट आई है जो कि बायोफिजिकल (biophysical) तंत्र की अखंडता को खतरा है जिस पर सभी जीव निर्भर होते हैं।

पर्यावरण के क्षरण का एक प्रमुख कारण अधिक मानव जनसंख्या और प्राकृतिक संसाधनों की खासी खपत है। अगर हम जल्द पर्यावरणीय परिवर्तनों पर ध्यान नहीं देते हैं तो हम जो भी दवा और सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में जो कुछ भी हासिल कर चुके हैं उसका कोई महत्व नहीं रह जायेगा। चिकित्सकों, मनुष्यों और जैविक समुदाय के सदस्यों के रूप में, हमें स्वास्थ्य और बीमारी पर अपने परिप्रेक्ष्य को व्यापक बनाने की आवश्यकता है। दुनिया की जनसंख्या 3,000 साल पहले की तुलना में अप्रतिम रूप से बढ़ी है, जो पिछले 50 सालों में दो तिहाई वृद्धि के साथ बढ़ी है। वर्ष 2050 तक दुनिया की जनसंख्या 7.4 अरब से 10.6 अरब तक पहुँच सकती है। मानव आबादी में तेजी से वृद्धि, और बढ़ती हुई संसाधनों की खपत ने मनुष्य की सरासर बढ़ती संख्या और विकास की तीव्र गति से धरती को और बुनियादी भौगोलिक चक्र को बदल दिया, जिस पर जीवन निर्भर करता है।

यद्यपि ये मानव प्रजातियों के बारे में सोचने के लिए आशंकित लग सकता है। मानव आबादी ने केवल पृथ्वी की पपड़ी और पतली कार्बनिक परत को प्रभावित नहीं किया है, जो इसे ढक कर रखती है, लेकिन मानव की गतिविधियों से भूगर्भीय पानी भी कम हो गया है, मनुष्य की आबादी का बोझ हमारी अपनी प्रजातियों को प्रभावित करता है और जिनके साथ हम दुनिया को साझा करते हैं।

अधिक जनसंख्या न केवल पर्यावरणीय गिरावट का कारण है, लेकिन गरीबी, सामाजिक ध्रुवीकरण और बड़े पैमाने पर मानव प्रवास में योगदान कर सकता है। ये सारे बदलाव मानव शरीर में भी कई बदलावों को निमंत्रण देते हैं।

1. इकोलॉजिकल चेंज एंड फ्यूचर ऑफ़ द ह्यूमन स्पीशीज: कैन फीजीसीयंस मेक अ डिफरेंस? रॉजर ए रोसेनब्लाट
2. https://www.theguardian.com/environment/2013/jun/30/stephen-emmott-ten-billion



RECENT POST

  • भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन और विश्व युद्ध
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:41 PM


  • पशुधन और मुर्गीपालन क्षेत्रों पर लॉकडाउन का प्रभाव
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:53 AM


  • यदि भुगतान क्षमता के नजरिए से देखें तो भारत का यातायात जुर्माना विश्व में सबसे अधिक है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 12:15 PM


  • भारतीय नागरिकता से संबंधित कुछ विशेष पहलू
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:36 PM


  • सदियों पुराना है सोने के प्रति भारतीयों के प्रेम का इतिहास
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:52 PM


  • जीवन का असली आनंद है, दूसरों को खुशी देना
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 11:57 AM


  • सारण में ‘छनना’ के निर्माता हुए महामारी से प्रभावित
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:34 PM


  • मन और आत्मा को शुद्ध करने का साधन हैं, इस्लामिक कला के ज्यामितीय और संग्रथित प्रतिरूप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:58 AM


  • एक दूसरे के साथ प्रेम और आंनद के साथ रहने का प्रतीक है, मकर संक्रांति
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2021 12:31 PM


  • मानव विकास सूचकांक देश के विकास के स्तर पर नजर रखने के लिए अनिवार्य है
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-01-2021 12:26 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id