Machine Translation

Base Language
ENTER MEERUT CITY PORTAL
Click to Load more

मेरठ से उठी जेल तोड़ने की क्रांति

Meerut
13-03-2018 10:50 AM

प्रस्तुत चित्र में 1857 की क्रांति के दौरान नयी जेल का तोड़ा जाना दिखाया गया है। नयी जेल में उन 85 कैदियों को कैद किया गया था जिन्होंने चर्बी युक्त कारतूस चलाने से मना कर दिया था। यह नयी जेल विक्टोरिया पार्क में स्थित थी। 10 मई 1857 की विद्रोह होते ही तीसरी देशी अश्वारोही रेजिमेंट के सिपाहियों ने तत्काल घोड़ों पर सवार होकर नयी जेल में बंधक बनाये गए अपने 85 सिपाहियों को जेल तोड़ कर छुड़ा लिया और उनकी बेड़ियाँ काट कर दिल्ली की तरफ कूंच किया था। उस दौरान मेरठ को मिला कर उत्तर भारत भर में करीब 41 जेलों को तोड़ा गया था। स्वतंत्रता प्रेमियों ने उत्तर-पश्चिमी प्रान्त की 40 में से 27 जेलों को तोड़ दिया था।

तोड़े गए जेलों में- मेरठ, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, अलीगढ, बिजनौर, मुरादाबाद, बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर, मथुरा, आगरा, इटावा, मैनपुरी, एटा, फतेहगढ़, कानपुर, फतेहपुर, इलाहबाद, बाँदा, हमीरपुर, आजमगढ़, गोरखपुर, जौनपुर, जालौन, झाँसी, ललितपुर, और दमोह आदि। बंगाल प्रान्त में भी कई जेलें तोड़ी गयी थी जिनमे गया, आरा, हजारीबाग, पुरुलिया आदि। पंजाब, दिल्ली, गुरुग्राम, लुधियाना आदि स्थानों पर भी जेल तोड़े गए थे तथा इन जेलों से कुल 23,000 कैदी भागे थे। इसमें ब्रितानी सरकार को कुल 220,350 रूपए का खर्चा मात्र उत्तर-पश्चिमी प्रान्त से आया था। जेल तोड़ने में मेरठ से कुल 1541 बंधक भागे थे जिनमे 364 पुनः ब्रितानी सरकार द्वारा पकड़ लिए गए थे तथा अन्य 1195 कभी पकडे नहीं गयें। उत्तर-पश्चिमी प्रान्त से कुल निकले बंधकों की संख्या 19,217 थी जिसमे 4,962 पुनः पकड़ लिए गए थे और अन्य 14,267 कभी नहीं पकडे गए। इस क्रांति ने ब्रितानी सरकार की कमर तोड़ कर रख दी थी इसमें उन्हें आर्थिक व युद्ध दोनों तरफ से भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था।

1.द इंडियन अपराइजिंग ऑफ़ 1857-8: प्रिजन्स, प्रिजनर्स एंड रेबेलियन, क्लार्क एंडरसन


मेरठ में गन्ना उत्पादन

Meerut
12-03-2018 11:14 AM

उत्तर प्रदेश भारत के अन्नदाता के रूप में जाना जाता है, यह भारत भर के उत्पाद का पांचवा हिस्सा उत्पादित करता है जो की देश भर के अन्य प्रदेशों से कहीं ज्यादा है। पूरे देश का तीसरा हिस्सा गेहूं का (34.71%), करीब 45% (44.62%) गन्ना, 41.78% आलू उत्तर प्रदेश उत्पादित करता है।

मेरठ की प्रमुख फसलों में गन्ना प्रमुखता से आता है, यहाँ पर कुल 6 सक्कर की मिलें हैं जो यहाँ के गन्ना के खपत को बरक़रार रखती हैं जिस कारण यहाँ पर गन्ना उत्पाद प्रमुखता से किया जाता है। मेरठ जिला गन्ने के उत्पाद के लिए जाना जाता है। मेरठ में प्रति हेक्टेयर 708 क्विंटल गन्ने का उत्पाद होता है जो की प्रदेश के कई जिलों से कही अधिक है। गन्ने की पैदावार यहाँ के किसानों आदि को बड़े पैमाने पर मुनाफा मुहैया करवा रहा है जिससे यहाँ पर रोजगार में भी वृद्धि हो रही है। मेरठ में शक्कर के अलावा गुड़ का भी उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है तथा यहाँ पर उत्पादित गुड़ और शक्कर देश भर में भेजा जाता है। मेरठ में कुल 128,541 हेक्टयेर की जमीन पर गन्ना बोया जाता है जो की यहाँ बोये जाने वाले अन्य फसलों से कहीं ज्यादा है।

1.सी डी. ए. प. मेरठ
2.http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/49462/9/09_chapter%203.pdf


प्रदेश का प्रमुख करदाता और हालात से मजबूर शहर मेरठ

Meerut
11-03-2018 08:43 AM

मेरठ भारत के उत्तरप्रदेश राज्य का एक जिला है वैसे देखने में यह जिला कई कल कारखानों से भरा दिखाई देता है। यह जिला प्रदुषण के मामले भी काफी अग्रणी है यहाँ की धुल से भरी सड़के, बजबजाती हुयी नालियां, पानी की किल्लत और न जाने क्या-क्या इस जिले को समस्याओं से जूझते हुए शहर के रूप में प्रदर्शित करती हैं। परन्तु यदि यहाँ के आर्थिक आंकड़े पर नज़र डालें तो सामने आने वाले आंकड़े चौका देने योग्य हैं। यह शहर भारत के 10 शीर्ष कर दाता शहरों की फेहरिस्त में 9 वें स्थान पर आता है।

आयकर विभाग द्वारा संकलित आंकड़ों के मुताबिक 2007-08 में मेरठ ने राष्ट्रीय खाते को 10,098 करोड़ रुपए का योगदान दिया था, जिसमें जयपुर, भोपाल, कोच्चि और भुवनेश्वर जैसे बड़े शहर भी शामिल थे। मेरठ शहर राज्य की राजधानी लखनऊ से भी बेहतर था। मुंबई और दिल्ली क्रमशः 114,161 करोड़ रुपये और 46,865 करोड़ रुपये के कर के साथ में शीर्ष पर कब्जा किये हुए थे।

2005-06 में, मेरठ ने पांचवें स्थान पर कब्जा कर लिया था और प्रत्यक्ष कर संग्रह में 10,306 करोड़ रुपये का योगदान दिया था। यह 2006-07 में छः नंबर पर आ गया था, जब राजस्व संग्रह 11,203 करोड़ रुपये था, जो 13,627 करोड़ रुपये के लक्ष्य से 18 फीसदी कम था। पिछले वर्ष में कोई सुधार नहीं हुआ था और इसके साथ ही यह संग्रह 10,098 करोड़ रूपए से अधिक हो गया, लक्ष्य से 28 फीसदी कम है। मेरठ टैक्स ज़ोन में नोएडा और गाजियाबाद शामिल हैं।

उपरोक्त दिए आंकड़ों के अनुसार मेरठ की तुलना यदि अन्य 9 शहरों से की जाये तो यहाँ पर कचरे से लेकर अन्य कई समस्याएं हैं जिनपर ध्यानाकर्षण करने की आवश्यकता है। तथा यदि मेरठ के औद्योगिक विकास पर ध्यान दिया जाये तो यह रोजगार उत्पन्न करने की क्षमता को बढ़ा सकने में सहायक हो सकता है।

1.http://timesofindia.indiatimes.com/India/Meerut_9th_in_top_10_tax-paying_cities/articleshow/3182693.cms
2.http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/38690/
9/11_chapter%205.pdf


मेरठ का कंपनी बाग

कंपनी बाग

Meerut
10-03-2018 09:20 AM

भारत के तमाम ब्रितानी शासन के आधीन रहे स्थानों पर कंपनी बाग पाया जाता है जैसे की इलाहाबाद, आगरा, कानपुर, अमृतसर, अलवर आदि। कंपनी बाग वहां पर रहने वाले सिपाहियों व ब्रितानी अफसरों आदि के लिए बनायीं जाती थी तथा ये कैंट इलाके में ही बनायीं जाती थी। मेरठ 1857 की प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का साक्षी रहा है तथा यही से स्वतंत्रता के ज्वाला का सूत्रपात हुआ था। मेरठ छावनी में भड़की आग ने पूरे देश में स्वतंत्रता की चिंगारी को जलाई थी। मेरठ में छावनी इलाके में कंपनी बाग बनायीं गयी है। इसे यहाँ पर रह रहे अफसरों आदि के लिए बनवाया गया था। इन बागों का महत्व छावनी इलाकों में अत्यधिक था यही कारण है की प्रत्येक ब्रितानी शासित स्थानों पर इनका निर्माण किया गया है। मेरठ की छावनी का निर्माण सन 1806 में किया गया था और संभवतः उसी समय यहाँ पर कंपनी बाग भी बनाया गया होगा। मेरठ के कंपनी बाग को अब गाँधी पार्क के नाम से जाना जाता है। यहाँ दिल्ली के लाल किले से हटा कर लाया गया एक पानी का भंडार कक्ष और एक मोटर लगाया गया है। अब यह बाग यहाँ के लोगों के लिए सैर-सपाटे के लिए प्रयोग में लायी जाती है।

1. फ्रीडम स्ट्रगल 1857, मीनू शरण


क्यूँ होती है फूलों में खुशबू….

Meerut
09-03-2018 02:33 PM

फूल हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा हैं। धार्मिक एवं आध्यात्मिक काम, उत्सव, त्यौहार, सजावट, श्रृंगार, औषधी आदि के लिए हम फूलों का इस्तेमाल करते हैं। फूलों का सबसे महत्वपूर्ण अंग है उनकी प्रसन्नता प्रदान करने वाली खुशबू। हर अलग फूल अलग प्रकार की खुशबू देता है, एक ही गण के फूल भी बहुत बार विभिन्न खुशबू बाँटते हैं। आखिर इस खुशबू के पीछे क्या राज़ छुपा है?

फूलों की खुशबु असल में उनके प्रजनन एवं अलग कार्यों को पूर्ण करने का मार्ग है। फूलों की खुशबु परागण अथवा खाद्य को आकर्षित करने का विकासवादी तंत्र है। विभिन्न फूल अलग-अलग प्रकार की गंध देते हैं, हर प्रकार की गंध का कार्य अलग रहता है। फूल उनके हितेषी परागण को आकर्षित करने के लिए एक विशिष्ट प्रकार की खुशबू फैलाते हैं वो भी समय के हिसाब से, इसीलिए कुछ फूल सुबह सुगंध देते हैं तो कुछ शाम या कुछ रात में और कुछ हर पल, बस उसकी तीव्रता बदलती है। कुछ फूलों के अपने परागण होते हैं जो बस उसी फूल के इर्द-गिर्द मंडराते हैं जैसे ऑर्किड (orchid) इस फूल की खुशबू कम-से-कम 100 रसायनों से बनी होती है तथा इतनी विशिष्ट कि एक और सिर्फ एक ही जाति का कीड़ा इस फूल की एक जाति पर बैठेगा।

फूलों की गंध उनकी पंखुड़ियों से एक रासायनिक तैल के रूप में निकलती है, इन्हें शास्त्रज्ञ उदवायी यौगिक कहते हैं। फूलों में कम से कम 7-10 अथवा ज्यादा से ज्यादा 100 प्रकार के रसायनिक तैल होते हैं। मान्यता है कि इब्न सीना, इस फ़ारस के चिकित्सक ने कुछ 1200 साल पहले गुलाबों से पहली बार इत्र तैयार किया था। परागण फूलों पर बैठते हैं तब उनके पैरों में अथवा उनके शारीर की लव में उस फूल के पराग अटक जाते हैं जो फिर इस तरीके से फूलों के प्रजनन में मदद करते हैं, पराग को एक जगह से दूसरी जगह ले जाकर, मानो जैसे परागन इन फूलों के यातायात के अनोखे साधन हैं।

कुछ फूल मांसाहारी होते हैं जो उनके खाने योग्य कीटकों को आकर्षित करने के लिए सड़े-गले मांस अथवा ऐसी कुछ गन्दी बदबू भरे गंध फैलाते हैं। कुछ फूल उन्हें नुकसान पहुंचाने वाले कीटकों को दूर रखने के लिए उन कीटकों के लिए रोषकारक गंध फैलाते हैं।

यह कारण है कि फूलों में इतनी विभिन्न प्रकार की खुशबू रहती है, कुछ अच्छी कुछ बुरी, प्रकृति की एक अनोखी योजना जो इन्हें सुरक्षित रख सके और प्रजनन में मदद करे।

1. एडवांसेस इन इन्सेक्ट केमिकल इकोलॉजी: एडिटेड- कार्डे रिंग, जोसेलीन मिल्लर https://books.google.co.in/books?id=066fXjl_1wC&pg=PA151&dq=why+do+flowers+smell?&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwjxvqqmdrZAhUT4o8KHccPDjwQ6AEIKDAA#v=onepage&q=why%20do%20flowers%20smell%3F&f=false
2. द हिडन पॉवर ऑफ़ स्मेल: हाउ केमिकल्स इन्फ्लुएंस अवर लाइव्ज़ एंड बिहेविअर- पॉल मूर https://books.google.co.in/books?id=XlJ1CgAAQBAJ&pg=PA49&dq=why+do+flowers+smell?&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwjxvqqmdrZAhUT4o8KHccPDjwQ6AEIMzAC#v=onepage&q=why%20do%20flowers%20smell%3F&f=false
3. http://scienceline.org/2013/01/making-scents-the-aromatic-world-of-flowers/
4. बायोलॉजी ऑफ़ फ्लोरल सेंट-: एडिटेड- नतालिया दुड़ारेवा, एरन पिचरस्की https://books.google.co.in/books?id=wd3mlhZGLAMC&printsec=frontcover&dq=how+do+flowers+produce+scen&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwjq8r_MmdrZAhUDPI8KHeNnCcUQ6AEIKDAA#v=onepage&q=how%20do%2flowers%20produce%20scent&f=false
5. पोलिनेशन बायोलॉजी: बायोडायवर्सिटी कोन्सेर्वेशन एंड एग्रीकल्चरल प्रोडक्शन- धरम अब्रोल https://books.google.co.in/books?id=clwm8CSIIdIC&pg=PA51&dq=how+do+flowers+produce+scent&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwjq8r_MmdrZAhUDPI8KHeNnCcUQ6AEIPDAE#v=onepage&q=how%20do%20flowers%20produce%20scent&f=false


पत्थर की नक्काशी का समय के साथ विकास

Meerut
08-03-2018 01:22 PM

मानव के प्राकृतिक मित्रों में से धरती और लकड़ी के बाद पत्थर ही आता है। पत्थर मानव के विकास और उपकरण प्रयोग में बढ़ती कुशलता का भी एक प्रतीक हैं। इस काल को मानव की एक बड़ी उपलब्धि पाने के काल के रूप में माना जाता है तथा ऐतिहासिक रूप से इस काल का नाम भी पत्थर के ऊपर ही पड़ा – पाषाण काल।

पत्थर न केवल एक खुदाई का औज़ार था बल्कि मानव ने उसका प्रयोग छुरी, शिकार के लिए भाले की नोक और एक हथियार के रूप में भी किया तथा बाद में पूजा-अर्चना और साज-सज्जा के कार्यों के लिए भी प्रयोग किया। खुदाई में मिले नक्काशीदार पत्थरों को 3,000 वर्ष पुराना माना गया है। यह बात बहुत रोमांचक है कि समय के साथ आयी नयी घरेलू सामग्री को अपनाने के बावजूद भी मनुष्य के जीवन में पत्थर आज भी एक अहम हिस्सा है।

खुदाई में निकले पत्थरों से पता चलता है कि इनका इस्तेमाल कई रूप में किया गया। शुरुआती दौर में पत्थरों का इस्तेमाल तराजू में वज़न की तुलना के लिए किया गया। फिर आये कोल्हू, चक्की, ओखली आदि जिस समय भोजन बनाने की प्रक्रिया और विकसित हो चुकी थी। मिट्टी के मुकाबले पत्थर को हिन्दुओं द्वारा ज़्यादा शुद्ध माना गया और इसलिए पत्थर को रसोई एवं भोजन कक्ष में भी स्थान मिला।

भारत कई भिन्न प्रकार के पत्थरों से समृद्ध है। पत्थर की मूर्तियों को पूजनीय माने जाने के कारण मानव के मस्तिक्ष पर भी इसका काफी प्रभाव पड़ा। पत्थर से जुड़ी एक आकर्षक कथा यह भी है कि एक समय तक पत्थर एवं पर्वतों को पंछियों की भाँती पर लगे थे अतः वे जहाँ चाहे उड़ सकते थे परन्तु इस बात से धरती माँ ने परेशान होकर इंद्र से अपने बचाव का आग्रह किया इसलिए इंद्र ने उनके पर काट दिए और तबसे वे एक स्थान पर ही रहे।

पत्थर का काम करना एक ऐसी कला है जहाँ कारीगर को बहुत कठिनाइयाँ झेलनी पड़ती हैं क्योंकि यह प्रक्रिया उत्खनन की प्रक्रिया से शुरू होती है और तकनीकी विकास के साथ भी उसमें ज़्यादा बदलाव नहीं आ पाए हैं। साथ ही नक्काशी के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले औज़ार भी काफी महंगे होते हैं इसलिए सब कारीगर कुछ छोटे औज़ार खरीदते हैं और आपस में मिल बाँट के प्रयोग करते हैं। परिश्रम इसलिए और बढ़ जाता है क्योंकि पत्थर निकालने के लिए कारीगर को धरती की गहराई तक जाना पड़ता है क्योंकि सतह का पत्थर नक्काशी के लिए काफी नाज़ुक होता है। पत्थर को निकालने के लिए कम से कम 2 से 5 व्यक्ति लगते हैं।

भारत में पत्थर के स्मारक काफी सामान्य रूप से पाए जाते हैं। ये इमारतें अपनी सुन्दर वास्तुकला और मूर्तिकला के साथ बनी भव्य संरचनाएं हैं। ज़ाहिर है कि पत्थर की नक्काशी आज काफी घट गयी है क्योंकि आज आलीशान महलों या मंदिरों का निर्माण बहुत ही कम देखने को मिलता है। परन्तु यह कला आज भी जीवित है और आवश्यकता के समय पत्थर के नक्काशों को नियुक्त करने पर अत्यधिक सुन्दर एवं संतुष्ट करने वाला काम प्राप्त होता है। परन्तु व्यवसाय के रूप में पत्थर की नक्काशी आज कम ही की जाती है।

1. हैंडीक्राफ्ट्स ऑफ़ इंडिया, कमलादेवी चट्टोपाध्याय


Enter into a one-stop shop for all digital needs of the citys citizens(in their own language)

Click Here 





City Map

Back